अन्य उपयोगी पाठ्य सामग्री Anay Upyogi Paathya Samgri

दिगम्बर जैन मुनि
Digambara Jaina Muni

तत्ववेत्ताओं ने साधुओं के लिए लिखा है कि ‘मुनि’ यथाजात रूप है | जैसा जन्मजात बालक नग्नरूप होता है, वैसा नग्नरूप दिगम्बर मुद्रा का धारक है, वह अपने मन के भावों से, अपनी वाणी से, व शरीर के किसी भी अंग से तिलतुषमात्र भी परिग्रह ग्रहण नहीं करता, यदि वह कुछ भी ग्रहण कर ले तो निगोद में जाता है | परिग्रही के लिए आत्मोन्नति की पराकाष्ठा पा लेना असंभव है | जिन शासन में जैनाचार्यों ने लिखा है कि वस्त्रधारी मनुष्य मुक्ति नहीं पा सकता है; चाहे वह कोई हो, मुनिदीक्षा लेकर ही मुक्ति की प्राप्ति कर सकते हैं | नग्नत्व ही मोक्षमार्ग है; शेष सब मार्ग उन्मार्ग हैं |
Tatvavēttā’ōṁ nē sādhu’ōṁ kē li’ē likhā hai ki ‘muni’ yathājāta rūpa hai | jaisā janmajāta bālaka nagnarūpa hōtā hai, vaisā nagnarūpa digambara mudrā kā dhāraka hai, vaha apanē mana ke bhāvom se, apani vāni se, va sharir ke kisi bhi anga sē tilatuṣamātra bhī parigraha grahaṇa nahīṁ karatā, yadi vaha kucha bhī grahaṇa kara lē tō nigōda mēṁ jātā hai | parigrahī kē li’ē ātmōnnati kī parākāṣṭhā pā lēnā asambhava hai | jina śāsana mēṁ jainācāryōṁ nē likhā hai ki vastradhārī manuṣya mukti nahīṁ pā sakatā hai; cāhē vaha kō’ī hō, munidīkṣā lēkara hī mukti kī prāpti kara sakatē haiṁ | nagnatva hī mōkṣamārga hai; śēṣa saba mārga unmārga haiṁ |
 
मनुष्य की आदर्श स्थिति दिगम्बरत्व है | दिगम्बरत्व प्रकृति का रूप है | दिगम्बरत्व का वास्तविक मूल्य मानव-समाज में सदाचार की सृष्टि करना है | नग्नता और सदाचार का अविनाभावी संबंध है | सदाचार के अभाव में नग्नता का कोई मूल्य नहीं, क्योंकि नंगा तन और नंगा मन ही मनुष्य की आदर्श स्थिति है | आदर्श मनुष्य सर्वथा निर्दोष और विकार-शून्य होता है | इसका आशय यह है कि जिन-भावना से युक्त नग्नता ही पूज्य है |
Manuṣya kī ādarśa sthiti digambaratva hai | digambaratva prakr̥ti kā rūpa hai | digambaratva kā vāstavika mūlya mānava-samāja mēṁ sadācāra kī sr̥ṣṭi karanā hai | nagnatā aura sadācāra kā avinābhāvī sambandha hai | sadācāra kē abhāva mēṁ nagnatā kā kō’ī mūlya nahīṁ, kyōṅki naṅgā tana aura naṅgā mana hī manuṣya kī ādarśa sthiti hai | ādarśa manuṣya sarvathā nirdōṣa aura vikāra-śūn’ya hōtā hai | isakā āśaya yaha hai ki jina-bhāvanā sē yukta nagnatā hī pūjya hai |
 
दिगम्बर साधु प्रकृति के अनुरूप हैं; उनका किसी से द्वेष नहीं है| वे सबके हैं और सभी उनके हैं | वे प्रज्ञापुंज और तपोधन लोक-कल्याण में निरत रहते हैं तथा सर्वप्रिय, सदाचार की मूर्ति होते हैं |
Digambara sādhu prakr̥ti kē anurūpa haiṁ; unakā kisī sē dvēṣa nahīṁ hai| vē sabakē hai aura sabhī unakē haiṁ | vē prajñāpun̄ja aura tapōdhana lōka-kalyāṇa mēṁ nirata rahatē haiṁ tathā sarvapriya, sadācāra kī mūrti hōtē haiṁ |
 
वर्तमान समय में मुनिजन विचरण करते हुए दिखाई दे जाते हैं, यह हम लोगों का परम सौभाग्य है | वास्तव में यदि कहा जाय कि ये साधु ही चलते-फिरते सिद्ध हैं तो कोई
अत्युक्ति नहीं होगी | किसी ने लिखा है –
धन वैभव के जिन्हें भाये न आलय हैं,
ये चारित्र के सच्चे हिमालय हैं |
मन्दिर की मूर्तियां तो मौन रहती हैं ,
ये तो चलते-फिरते जिनालय हैं ||
ऐसे महान संतों का दर्शन अतिशय पुण्य का फल है |
Vartamāna samaya mēṁ munijana vicaraṇa karatē hu’ē dikhāi dē jātē haiṁ, yaha hama lōgōṁ kā parama saubhāgya hai | vāstava mēṁ yadi kahā jāya ki yē sādhu hī calatē-phiratē sid’dha haiṁ tō kō’ī atyukti nahīṁ hōgī | kisī nē likhā hai –
dhana vaibhava kē jinhēṁ bhāyē na ālaya haiṁ,
yē cāritra kē saccē himālaya haiṁ |
mandira kī mūrtiyāṁ tō mauna rahatī haiṁ,
yē tō calatē-phiratē jinālaya haiṁ ||
aisē mahāna santōṁ kā darśana atiśaya puṇya kā phala hai |

* * * A * * *

जैन-धर्म-दर्शन की सामान्य प्रवृतियाँ
Jaina-Dharma-Darśana Kī Sāmān’ya Pravr̥tiyām̐

विश्व के धर्मों में ‘जैनधर्म’ प्राचीनतम धर्म है | भारत में श्रमण विचारधारा का प्रतिनिधित्व केवल जैन-विचार तथा आचार पद्धति करती रही है| प्रस्तुत हैं जैन धर्म और दर्शन की कतिपय सामान्य प्रवृतियाँ-
Viśva kē dharmōṁ mēṁ ‘jainadharma’ prācīnatama dharma hai | bhārata mēṁ śramaṇa vicāradhārā kā pratinidhitva kēvala jaina-vicāra tathā ācāra pad’dhati karatī rahī hai| prastuta haiṁ jaina dharma aura darśana kī katipaya sāmān’ya pravr̥tiyām̐-
 
मनुष्य एक चिन्तनशील प्राणी है | आदिमकाल से ही वह अपनी सहज जिज्ञासा प्रवृति के कारण विश्व के रहस्य को समझने का प्रयत्न करता आ रहा है | इन रहस्यों को सुलझाने के लिए वह एक अलौकिक, नित्य एवं पूर्ण दिव्य सर्वशक्तिमान सत्ता पर विश्वास भी करता है, इसी सत्ता को वह ईश्वर नाम से पुकारता है | ईश्वर क्या है? ईश्वर का स्वरूप और गुण क्या है? इस पर सतत चिन्तन होता रहा है | धार्मिक व्यक्तियों के लिए तो ईश्वर स्वयं-सिद्ध सत्ता है |
Manuṣya ēka cintanaśīla prāṇī hai | ādimakāla sē hī vaha apanī sahaja jijñāsā pravr̥ti kē kāraṇa viśva kē rahasya kō samajhanē kā prayatna karatā ā rahā hai| ina rahasyōṁ kō sulajhānē kē li’ē vaha ēka alaukika, nitya ēvaṁ pūrṇa divya sarvaśaktimāna sattā para viśvāsa bhī karatā hai, isī sattā kō vaha īśvara nāma sē pukāratā hai | īśvara kyā hai? Īśvara kā svarūpa aura guṇa kyā hai? Isa para satata cintana hōtā rahā hai | dhārmika vyaktiyōṁ kē li’ē tō īśvara svayaṁ-sid’dha sattā hai |
 
जैन-दर्शन में अन्य दर्शनों की अपेक्षा ईश्वर का स्वरूप कुछ विलक्षण है | यहाँ किसी पुरुष विशेष का नाम ईश्वर नहीं, वरन् जैन दर्शन की दृष्टि से अरिहंत (अर्हन्त, अरुहन्त) और सिद्ध अवस्था को प्राप्त प्रत्येक जीव ‘ईश्वर’ कहलाता है |
Jaina-darśana mēṁ an’ya darśanōṁ kī apēkṣā īśvara kā svarūpa kucha vilakṣaṇa hai | yahām̐ kisī puruṣa viśēṣa kā nāma īśvara nahīṁ, varan jaina darśana kī dr̥ṣṭi sē arihanta (ar’hanta, aruhanta) aura sid’dha avasthā kō prāpta pratyēka jīva ‘īśvara’ kahalātā hai |
 
जैन दर्शन में ईश्वर एक नहीं वरन् अनन्त ईश्वर हैं | संचित कर्मों को नाश करके अभी तक जितने जीव मुक्त हो चुके हैं ओर जो आगे भी मुक्त होंगे वे सब ईश्वर पद के वाच्य हैं | ज्ञानावरणादि चार घातिया कर्मों का क्षय करके यह जीव अरिहन्त बन जाता है, इसे सर्वज्ञ, जिन, जीवनमुक्त और केवली भी कहते हैं |
Jaina darśana mēṁ īśvara ēka nahīṁ, varan anantoṁ īśvara haiṁ | san̄cita karmōṁ kō nāśa karakē abhī taka jitanē jīva mukta hō cukē haiṁ ōra jō āgē bhī mukta hōṅgē vē saba īśvara pada kē vācya haiṁ | jñānāvaraṇādi cāra ghātiyā karmōṁ ko kṣaya karakē yaha jīva arihanta bana jātā hai, isē sarvajña, jina, jīvanamukta aura kēvalī bhī kahatē haiṁ |
 
अरिहन्त: अरि अर्थात् शत्रु, एवं उसके हनन अथवा नाश करने वाले को अरिहन्त संज्ञा प्राप्त होती है | आत्मा का परम अरि (शत्रु) आठों कर्मों के राजा मोह को कहा गया है | मोह- कर्म पर विजय पाने वाला जीव अरिहंत कहलाता है।
Arihanta: Ari arthāt śatru, ēvaṁ usakē hanana athavā nāśa karanē vālē kō arihanta san̄jñā prāpta hōtī hai| ātmā kā parama ari (śatru) āṭhōṁ karmōṁ kē rājā mōha kō kahā gayā hai| mōha-karma para vijaya pānē vālā jīva arihanta kahalātā hai|
 
अर्हन्त : अर्थात अतिशयपूज्य | तीर्थंकर भगवान के गर्भ, जन्म, दीक्षा, केवलज्ञान एवं निर्वाण इन पांच कल्याणकों के समय देवताओं द्वारा पूजा और प्रभावना की जाती है | इस प्रकार देवताओं, असुरों एवं मानवों द्वारा की जाने वाली पूजा के उत्कृष्टतम पात्र होने के कारण वे अर्हन्त कहे जाते हैं |
Ar’hanta: Arthāta atiśayapūjya | tīrthaṅkara bhagavāna kē garbha, janma, dīkṣā, kēvalajñāna ēvaṁ nirvāṇa ina pān̄ca kalyāṇakōṁ kē samaya dēvatā’ōṁ dvārā pūjā aura prabhāvanā kī jātī hai | isa prakāra dēvatā’ōṁ, asurōṁ ēvaṁ mānavōṁ dvārā kī jānē vālī pūjā kē utkr̥ṣṭatama pātra hōnē kē kāraṇa vē ar’hanta kahē jātē haiṁ |
 
अरुहन्त : अरु का अर्थ होता है जन्म | अत: रागद्वेष रूपी शत्रुओं का नाश हो जाने से दग्धबीजवत् जिनका भावी जन्म सन्तति अर्थात् पुनर्जन्म समाप्त हो गया है; अरुहन्त कहते हैं | जैनागम में अर्हन्त, अरिहन्त और अरुहन्त ये तीन पाठान्तर मिलते हैं |
Aruhanta: Aru kā artha hōtā hai janma | ata: Rāgadvēṣa rūpī śatru’ōṁ kā nāśa hō jānē sē dagdha bījavat jinakā bhāvī janma santati arthāt punarjanma samāpta hō gayā hai; aruhanta kahatē haiṁ | jaināgama mēṁ ar’hanta, arihanta aura aruhanta yē tīna pāṭhāntara milatē haiṁ |
 
सिद्ध : जिन्होंने सभी सिद्धियां प्राप्त करली है, उन्हें सिद्ध कहते हैं | जो ज्ञानावरणादि समस्त कर्मों से मुक्त होकर ऊर्ध्वगमन स्वभाव से लोक के अग्रभाग सिद्धालय में विराजमान हैं, जिनके आत्मप्रदेश चरमशरीर से कुछ कम अवगाहना वाले पुरुषाकार रूप में अवस्थित हैं, जो लोक व अलोक के मात्र ज्ञाता-दृष्टा हैं, आठ मूलगुणों एवं अनन्त उतरगुणों से शोभित हैं |
Sid’dha: Jinhōnnē sabhī sid’dhiyāṁ prāpta karalī hai, unhēṁ sid’dha kahatē haiṁ | jō jñānāvaraṇādi samasta karmōṁ sē mukta hōkara ūrdhvagamana svabhāva sē lōka kē agrabhāga sid’dhālaya mēṁ virājamāna haiṁ, jinakē ātmapradēśa caramaśarīra sē kucha kama avagāhanā vālē puruṣākāra rūpa mēṁ avasthita haiṁ, jō lōka va alōka kē mātra jñātā-dr̥ṣṭā haiṁ, āṭha mūlaguṇōṁ ēvaṁ ananta utaraguṇōṁ sē śōbhita haiṁ |
 
आचार्य विद्यानन्द मुनि ने आप्त मीमांसा में लिखा है कि – कोई भी पुरुष ( सदा से) कर्मों से रहित नहीं है क्योंकि बिना किसी उपाय के उसका सिद्ध होना किसी भी प्रकार नहीं बनता है |
Ācārya vidyānanda muni nē āpta mīmānsā mēṁ likhā hai ki – kō’ī bhī puruṣa (sadā sē) karmōṁ sē rahita nahīṁ hai kyōṅki binā kisī upāya kē usakā sid’dha hōnā kisī bhī prakāra nahīṁ banatā hai |
 
जैनधर्म की सबसे महत्वपूर्ण विशेषता यह है कि विश्व का प्रत्येक धर्म किसी-न-किसी व्यक्ति
विशेष के नाम जुड़ा है, जैसे- विष्णुजी वैष्णव धर्म, शिवजी शैवधर्म, मुहम्मद इस्लाम धर्म, ईसामसीह इसाई धर्म, बुद्ध बौद्ध धर्म आदि| परन्तु जैन धर्म में व्यक्ति विशेष का नाम नहीं, वरन् जिन्होंने इन्द्रियों पर विजय प्राप्त कर आत्मीय शक्ति को जगाते हुए केवलज्ञान प्राप्त किया और वस्तु तत्व का उपदेश प्राणिमात्र को दिया, उन ही का मार्ग ‘जैनधर्म’ कहलाया |
Jainadharma kī sabasē mahatvapūrṇa viśēṣatā yaha hai ki viśva kā pratyēka dharma se kisī-na-kisī vyakti viśēṣa kē nāma juṛā hai, jaisē- viṣṇujī vaiṣṇava dharma, śivajī śaiva dharma, muham’mada islāma dharma, īsāmasīha isā’ī dharma, bud’dha baud’dha dharma ādi| parantu jaina dharma mēṁ vyakti viśēṣa kā nāma nahīṁ, varan jinhōnnē indriyōṁ para vijaya prāpta kara ātmīya śakti kō jagātē hu’ē kēvalajñāna prāpta kiyā aura vastu tatva kā upadēśa prāṇimātra kō diyā, una hī kā mārga ‘jaina dharma’ kahalāyā |
 
जैनागम के अनुसार जैनधर्म अनादि है, फिर भी इस युग की अपेक्षा जैन तीर्थ (धर्म) के प्रवर्तक भगवान ऋषभदेव हैं | चौबीस तीर्थंकरों में ऋषभदेव प्रथम तीर्थंकर हैं | कतिपय मनीषियों का कहना है कि भगवान महावीर जैन धर्म के संस्थापक हैं; उनकी यह भ्रामक धारणा है |
Jaināgama kē anusāra jainadharma anādi hai, phira bhī isa yuga kī apēkṣā jaina tīrtha (dharma) kē pravartaka bhagavāna r̥ṣabhadēva haiṁ | caubīsa tīrthaṅkarōṁ mēṁ r̥ṣabhadēva prathama tīrthaṅkara haiṁ | katipaya manīṣiyōṁ kā kahanā hai ki bhagavāna mahāvīra jaina dharma kē sansthāpaka haiṁ; unakī yaha bhrāmaka dhāraṇā hai |
 
मानव जीवन के लिए धर्म और दर्शन आवश्यक ही नहीं अपितु अनिवार्य है | जब मानव चिंतन-सागर में निमग्न होता है तब दर्शन की, और जब उस चिंतन को अपने जीवन में उपयोग करता है तब धर्म की उत्पति होती है | मानव जीवन की विभिन्न समस्याओं के समाधान हेतु धर्म और दर्शन का जन्म हुआ | धर्म और दर्शन परस्पर सापेक्ष हैं, एक दुसरे के पूरक हैं | चिंतकों ने धर्म में भावना, बुद्धि और क्रिया ये तीन तत्व माने हैं | भावना से श्रद्धा, बुद्धि से ज्ञान और क्रिया से आचार अपेक्षित है | जैन दर्शन में इसी को सम्यग्दर्शन, सम्यग्ज्ञान और सम्यकचारित्र कहा जाता है |
Mānava jīvana kē li’ē dharma aura darśana āvaśyaka hī nahīṁ apitu anivārya hai | jaba mānava cintana-sāgara mēṁ nimagna hōtā hai taba darśana kī, aura jaba usa cintana kō apanē jīvana mēṁ upayōga karatā hai taba dharma kī utpati hōtī hai | mānava jīvana kī vibhinna samasyā’ōṁ kē samādhāna hētu dharma aura darśana kā janma hu’ā | dharma aura darśana paraspara sāpēkṣa haiṁ, ēka dusarē kē pūraka haiṁ | cintakōṁ nē dharma mēṁ bhāvanā, bud’dhi aura kriyā yē tīna tatva mānē haiṁ | bhāvanā sē śrad’dhā, bud’dhi sē jñāna aura kriyā sē ācāra apēkṣita hai | jaina darśana mēṁ isī kō samyagdarśana, samyagjñāna aura samyakacāritra kahā jātā hai|
 
जैनदर्शन ने कर्म को केवल क्रिया रूप नहीं माना बल्कि उसे द्रव्य रूप स्वीकार किया है | आचार की भूमिका पर कर्मवाद की उत्पति हुई है | कर्मवाद का अर्थ है- कार्यकारणवाद | प्रत्येक कार्य का कोई-न-कोई कारण होता है और प्रत्येक कारण किसी-न-किसी कार्य को उत्पन्न करता है | कार्य और कारण का यह पारस्परिक संबंध ही विश्व की विविधता और विचित्रता का आधार है | इस प्रकार वर्तमान का निर्माण भूत के आधार पर और भविष्य निर्माण वर्तमान के आधार पर होता है |
Jainadarśana nē karma kō kēvala kriyā rūpa nahīṁ mānā balki usē dravya rūpa svīkāra kiyā hai | ācāra kī bhūmikā para karmavāda kī utpati hu’ī hai | karmavāda kā artha hai- kāryakāraṇavāda | pratyēka kārya kā kō’ī-na-kō’ī kāraṇa hōtā hai aura pratyēka kāraṇa kisī-na-kisī kārya kō utpanna karatā hai | kārya aura kāraṇa kā yaha pārasparika sambandha hī viśva kī vividhatā aura vicitratā kā ādhāra hai | isa prakāra vartamāna kā nirmāṇa bhūta kē ādhāra para aura bhaviṣya nirmāṇa vartamāna kē ādhāra para hōtā hai |
 
अहिंसा का सूक्ष्म विशलेषण प्राणी मात्र पर करुणा दृष्टि रखना, यह भारतीय दर्शन की महत्वपूर्ण विशेषता है | अनेकान्त सिद्धांत एवं स्याद्वाद शैली के माध्यम से विविधता में एकता को प्रतिपादित करने वाले जैन दर्शन का लक्ष्य है कि प्राणियों के आचार में अहिंसा, विचारों में अनेकान्त, वाणी में स्याद्वाद, समाज में अपरिग्रहवाद की भावना उद्भूत हो |
Ahinsā kā sūkṣma viśalēṣaṇa prāṇī mātra para karuṇā dr̥ṣṭi rakhanā, yaha bhāratīya darśana kī mahatvapūrṇa viśēṣatā hai | anēkānta sid’dhānta ēvaṁ syādvāda śailī kē mādhyama sē vividhatā mēṁ ēkatā kō pratipādita karanē vālē jaina darśana kā lakṣya hai ki prāṇiyōṁ kē ācāra mēṁ ahinsā, vicārōṁ mēṁ anēkānta, vāṇī mēṁ syādvāda, samāja mēṁ aparigrahavāda kī bhāvanā udbhūta hō |
 
जैन दर्शन के अनुसार जीव अपनी नियति का निर्माता स्वयं है | स्वयं के कर्मों के कारण वह बंधन में पड़ता है और स्वय के प्रयत्नों से ही उन से मुक्ति प्राप्त करता है | जीव जिस शरीर में निवास करता है उसका सह-विस्तारी बन जाता है, ठीक वैसे ही जैसे कि दीपक का प्रकाश जिस कमरे में रखा है वह उसका सहविस्तारी बन जाता है | स्वभाव से जीव में अनन्तचतुष्टय (अनन्तज्ञान, अनन्त दर्शन, अनन्त सुख और अनन्त वीर्य) निहित है | प्रश्न स्वभावत: उत्पन्न होता है कि यदि जीव स्वभाव से शुद्ध अनन्त चतुष्टय का स्वामी है तब वह बंधन में कैसे पड़ता है ?
Jaina darśana kē anusāra jīva apanī niyati kā nirmātā svayaṁ hai | svayaṁ kē karmōṁ kē kāraṇa vaha bandhana mēṁ paṛatā hai aura svayam kē prayatnōṁ sē hī una sē mukti prāpta karatā hai | jīva jisa śarīra mēṁ nivāsa karatā hai usakā saha-vistārī bana jātā hai, ṭhīka vaisē hī jaisē ki dīpaka kā prakāśa jisa kamarē mēṁ rakhā hai vaha usakā sahavistārī bana jātā hai | svabhāva sē jīva mēṁ anantacatuṣṭaya (anantajñāna, ananta darśana, ananta sukha aura ananta vīrya) nihita hai| praśna svabhāvata: Utpanna hōtā hai ki yadi jīva svabhāva sē śud’dha ananta catuṣṭaya kā svāmī hai taba vaha bandhana mēṁ kaisē paṛatā hai?
 
मिथ्यादर्शन, मिथ्याज्ञान और मिथ्याचारित्र ये तीन जीव के बंधन में कारण हैं | तीर्थंकरों और उनके बताए गए तत्वों में श्रद्धा न रखना ही मिथ्यादर्शन है | तत्वों के यथार्थ स्वरूप का ज्ञान न होना मिथ्याज्ञान है | राग-द्वेष से युक्त लिप्त भाव से कार्य करना मिथ्याचारित्र है | कर्म केवल मानसिक और शारीरिक क्रियाएं नहीं हैं, वे वस्तुगत सत्ताएं हैं | जीव की प्रत्येक मानसिक एवं शारीरिक क्रिया के साथ ऐसी क्रिया कितनी भी सूक्ष्म क्यों न हो, जीव में परिवर्तन होता है |
Mithyādarśana, mithyājñāna aura mithyācāritra yē tīna jīva kē bandhana mēṁ kāraṇa haiṁ | tīrthaṅkarōṁ aura unakē batā’ē ga’ē tatvōṁ mēṁ śrad’dhā na rakhanā hī mithyādarśana hai | tatvōṁ kē yathārtha svarūpa kā jñāna na hōnā mithyājñāna hai | rāga-dvēṣa sē yukta lipta bhāva sē kārya karanā mithyācāritra hai | karma kēvala mānasika aura śārīrika kriyā’ēṁ nahīṁ haiṁ, vē vastugata sattā’ēṁ haiṁ | jīva kī pratyēka mānasika ēvaṁ śārīrika kriyā kē sātha aisī kriyā kitanī bhī sūkṣma kyōṁ na hō, jīva mēṁ parivartana hōtā hai |
 
स्याद्वाद समन्वयवाद का मार्ग प्रस्तुत करता है| यह नित्य व्यवहार की वस्तु है| इसके बिना लोक व्यवहार चल नहीं सकता | जितना भी व्यवहार होता है वह सब आपेक्षिक होता है | अनेक विरोधी तत्वों का यथार्थ निरूपण होने पर सब अपने-अपने दृष्टिकोणों के साथ अन्य दृष्टिकोणों का भी समन्वय करें यही स्याद्वाद है |
Syādvāda samanvayavāda kā mārga prastuta karatā hai| yaha nitya vyavahāra kī vastu hai| isakē binā lōka vyavahāra cala nahīṁ sakatā | jitanā bhī vyavahāra hōtā hai vaha saba āpēkṣika hōtā hai | anēka virōdhī tatvōṁ kā yathārtha nirūpaṇa hōnē para saba apanē-apanē dr̥ṣṭikōṇōṁ kē sātha an’ya dr̥ṣṭikōṇōṁ kā bhī samanvaya karēṁ yahī syādvāda hai |
 
स्याद्वाद जैन धर्म का वह अभेद्य किला है| उसके अंदर वादी-प्रतिवादियों के मायामयी गोले प्रवेश नहीं कर सकते | स्याद्वाद जैनदर्शन व जैन-तत्व-ज्ञान की नींव है | स्याद्वाद सिद्धांत वैज्ञानिक और युक्ति सम्मत है | कहा भी है-
हठ छोड़ समन्वय अपनाओ, समझो वक्ता का अभिप्राय |
रह सकते कैसे कहो वहां, कलह ईर्ष्या और कषाय ||

Syādvāda jaina dharma kā vaha abhēdya kilā hai| usakē andara vādī-prativādiyōṁ kē māyāmayī gōlē pravēśa nahīṁ kara sakatē | syādvāda jainadarśana va jaina-tatva-jñāna kī nīnva hai | syādvāda sid’dhānta vaijñānika aura yukti sam’mata hai | kahā bhī hai-
Haṭha chōṛa samanvaya apanā’ō, samajhō vaktā kā abhiprāya |
Raha sakatē kaisē kahō vahāṁ, kalaha īrṣyā aura kaṣāya ||

* * * A * * *

सल्लेखना का स्वरूप
Sallēkhanā Kā Svarūpa

प्रतिकार-रहित उपसर्ग आने पर, दुष्काल होने पर, बुढ़ापा अथवा रोग विशेष के हो जाने पर, रत्नत्रय धर्म की आराधना करते हुये शरीर का त्याग करना सल्लेखना है | श्रावक के बारह व्रतों के अन्त में सल्लेखना करने का विधान है |
Pratikāra-rahita upasarga ānē para, duṣkāla hōnē para, buṛhāpā athavā rōga viśēṣa kē ho jānē para, ratnatraya dharma kī ārādhanā karatē huyē śarīra kā tyāga karanā sallēkhanā hai | śrāvaka kē bāraha vratōṁ kē anta mēṁ sallēkhanā karanē kā vidhāna hai |

‘मरण के समय में होने वाली सल्लेखना को प्रेमपूर्वक सेवन करना चाहिये |’
‘Maraṇa kē samaya mēṁ hōnē vālī sallēkhanā kō prēmapūrvaka sēvana karanā cāhiyē |’

वसुनंदि-श्रावकाचार आदि अनेक ग्रंथों में शिक्षाव्रत के चतुर्थ भेद में सल्लेखना व्रत को लिया है| यथा-‘वस्त्रमात्र परिग्रह को रखकर, शेष समस्त परिग्रह को छोड़कर, अपने ही घर में अथवा जिनालय में रहकर जो श्रावक, गुरु के समीप में त्रिकरण (मन-वचन-तन)- शुद्धिपूर्वक अपनी आलोचना करके, पीने योग्य पदार्थ के सिवाय शेष तीन प्रकार के आहार का त्याग कर देता है उसे सल्लेखना शिक्षाव्रत कहते हैं |’
Vasunandi-śrāvakācāra ādi anēka granthōṁ mēṁ śikṣāvrata kē caturtha bhēda mēṁ sallēkhanā vrata kō liyā hai | yathā-
‘vastramātra parigraha kō rakhakara,śheṣha samasta parigraha kō chōṛakara apanē hī ghara mēṁ athavā jinālaya mēṁ rahakara jō śrāvaka, guru kē samīpa mēṁ trikaraṇa (mana-vachana-tana)-śud’dhipūrvaka apanī ālōcanā karakē, pīnē yōgya padārtha kē sivāya śēṣa tīna prakāra kē āhāra kā tyāga kara dētā hai usē sallēkhanā śikṣāvrata kahatē haiṁ |’

 
तात्पर्य यह है कि आयु के अंत समय में क्रम से कषाय और काय को कृश करना सल्लेखना है | इसमें मुनि व श्रावक दोनों ही क्रम-क्रम से आहार-पानी का त्याग करते हुए णमोकार मंत्र का जाप्य करते हुए शरीर को छोड़ते हैं | इसका बहुत बड़ा महत्व है | जो मनुष्य एक बार भी सल्लेखना विधि से मरण करता है वह कम से कम एक या दो भव में और अधिक से अधिक सात-आठ भव में मोक्ष को प्राप्त कर लेता है |
Tātparya yaha hai ki āyu kē anta samaya mēṁ krama sē kaṣāya aura kāya kō kr̥śa karanā sallēkhanā hai | isamēṁ muni va shrāvak donoṁ hi krama-krama sē āhāra pānī kā tyāga karatē hu’ē ṇamōkāra mantra kā jāpya karatē hu’ē śarīra kō chōṛate hain | isakā bahuta baṛā mahatva hai | jō manuṣya ēka bāra bhī sallēkhanā vidhi sē maraṇa karatā hai vaha kama sē kama ēka yā dō bhava meṁ aura adhika sē adhika sāta-āṭha bhava meṁ mōkṣa kō prāpta kara lētā hai |

 
तत्वार्थसूत्र में श्री उमास्वामी आचार्य ने कहा है कि ‘व्रती को शल्य रहित होना चाहिए |’
शल्य के तीन भेद हैं- माया, मिथ्यात्व और निदान |
Tatvārthasūtra mēṁ śrī umāsvāmī ācārya nē kahā hai ki ‘vratī kō śalya rahita hōnā cāhi’ē |’ Salya kē tīna bhēda hai- māyā, mithyātva aura nidāna |

 
माया का अर्थ है – मन में छल-कपट आदि रखना |
Māyā ka arth hai – mana mem chala–kapat ādi rakhanā |

 
मिथ्यात्व का अर्थ है – तत्वों का केवली प्रणीत श्रद्धान न करना |
Mithyātva ka arth hai – Tatvōṁ kā kevali-pranīt śrad’dhāna na karanā |

 
निदान का अर्थ है – देखे, सुने, अनुभव में आए हुए विषय-भोगों की आकांक्षा बनी रहना |
Nidāna ka arth hai – dekhe, sune, anubhava mem aaye hue viṣaya-bhōgō kī ākānkśā bani rahanā |

 
जो शल्य रहित पाँच अणुव्रत, रात्रि भोजन त्याग और सात शीलों (तीन गुणव्रत, चार शिक्षाव्रत) को अतिचार रहित पालता है वही ‘व्रती’ कहलाता है |
Jō śalya rahita pām̐ca aṇuvrata, rātri bhōjana tyāga aura sāta śīlōṁ (tīna guṇavrata, cāra śikṣāvrata) kō aticāra rahita pālatā hai vahī ‘vratī’ kahalātā hai |

 
* * * A * * *

ग्यारह-प्रतिमा-व्रत क्रम
Gyāraha-Pratimā-Vrata Krama

श्रावक की भूमिका में मोक्षमार्ग के अनुरूप आचरण करने के लिए ग्यारह प्रतिमा व्रतों का पालन करते हुए धर्म साधना करते है :-
Srāvaka kī bhūmikā mēṁ mōkṣamārga kē anurūpa ācaraṇa karanē kē liyē gyāraha pratimā vratōṁ kā pālana karatē hu’ē dharma sādhanā karatē hai:-

 
प्रथम: दर्शन प्रतिमा:   धारक सातों व्यसन अतिचार सहित त्याग कर, आठों मूलगुण अतिचार रहित ग्रहण करता है |
Prathama: darśana pratimā:   dhāraka sātoṁ vyasana aticāra sahita tyāga kara, āṭhoṁ mūlaguṇa aticāra rahita grahaṇa karatā hai |

 
दूसरी: व्रत प्रतिमा:   धारक पाँच अणुव्रत,तीन गुणव्रत, चार शिक्षाव्रत इन बारह व्रतों को ग्रहण करता है|
Dūsarī: vrata pratimā:   dhāraka pām̐ca aṇuvrata, tīna guṇavrata, cāra śikṣāvrata ina bāraha vratōṁ kō grahaṇa karatā hai |

 
तीसरी: सामायिक व्रत प्रतिमा:   धारक प्रात:, मध्याह्न व संध्याकाल में सामायिक करता है |
Tīsarī: sāmāyika vrata pratimā:    dhāraka prāta:, madhyāhna Va sandhyākāla mēṁ sāmāyika karatā hai |

 
चौथी: प्रोषध व्रत प्रतिमा:    धारक अष्टमी, चतुर्दशी, व पर्वों के दिनों में आरंभ छोड़कर धर्म-स्थान में रहता है |
Cauthī: pōṣadha vrata pratimā:    dhāraka aṣṭamī, caturdaśī va parvoṁ kē dinōṁ mēṁ ārambha chōṛakara dharma-sthāna mēṁ rahatā hai |

 
पाँचवीं: सचित्त-त्याग व्रत प्रतिमा: धारक सचित्त वस्तुओं के भोग-उपभोग का त्याग करता है |
Pām̐cavīṁ: sacitatt-tyāga vrata pratimā:   dhāraka sacitta vastuom ke bhog-upabhog kā tyāga karatā hai |

 
छठी: रात्रिभुक्तित्याग व्रत प्रतिमा:   धारक रात्रि भोजन और दिन में कुशील छोड़ता है |
Chaṭhī: rātribhuktityāga vrata pratimā:   dhāraka rātri bhōjana aura dina mēṁ kuśīla chōṛatā hai |

 
सातवीं: ब्रहमचर्य व्रत प्रतिमा:    धारक रात्रि और दिन में मैथुन-सेवन का त्याग करता है |
Sātavīṁ: brahamacarya vrata pratimā:   dhāraka rātri aura dina mēṁ maithuna -sēvana kā tyāga karatā hai |

 
आठवीं: आरंभत्याग व्रत प्रतिमा:   धारक आरंभ तजता है, अर्थात हिंसा-मय क्रियाओं का त्याग करता है|
Aṭhavīṁ: ārambhatyāga vrata pratimā:   dhāraka ārambha tajatā hai, arthaat himsa-maya kriyāoṁ ka tyāg karatā hai |

 
नवमीं: परिग्रहत्याग व्रत प्रतिमा:   धारक चौबीसों परिग्रहों का त्याग करता है |
Navamīṁ: parigrahatyāga vrata pratimā:   dhāraka chaubisoṁ parigrahoṁ kā tyāga karatā hai |

 
दशवीं: अनुमतित्याग व्रत प्रतिमा:   धारक पाप-कार्य के उपदेश व अनुमोदना का त्याग करता है |
Daśavīṁ: anumatityāga vrata pratimā:   dhāraka pāpa-kārya ke upadēśa va anumōdanā kā tyāga karatā hai |

 
ग्यारहवीं: उदि्दष्टत्याग व्रत प्रतिमा:   धारक केवल ‘अपने लिए बनाए गए’ भोजनादि का त्याग करता है|
Gyarahaviṁ: udidaṣṭatyāga vrata pratimā:   dhāraka keval ‘apane liye banāye gaye’ bhojanādi ka tyāg karatā hai |

 

इन ग्यारह प्रतिमाओं के पश्चात बारहवीं प्रतिमा मुनिराज की होती है | मुनिराज पूर्ण रत्नत्रय का पालन करते हुए साक्षात् नर से नारायण बनकर हमेशा-हमेशा के लिए मोक्ष सुख,परमानन्द के साथ आत्मगुणों से पूर्ण हो जाते हैं |
Ina gyāraha pratimā’ōṁ kē pashchāt bārahavīṁ pratimā munirāja kī hōtī hai | Munirāja pūrṇa ratnatraya kā pālana karatē hu’ē sākṣāt nara sē nārāyaṇa banakara hamēśā-hamēśā kē li’ē mōkṣa sukha, paramānanda kē sātha ātmaguṇōṁ sē pūrṇa hō jātē hai |

 
* * * A * * *

चैत्य-चैत्यालय निर्माण : वास्तु-विचार
Caitya-Caityālaya Nirmāṇa: Vāstu-Vicāra

पं. गुलाबचंद्र ‘पुष्प’ एवं ब्र. जय निशांत
Paṁ. Gulābacandra ‘Puṣpa’ ēvaṁ bra. Jaya Niśānta

 
जैनदर्शन के अनुसार लोक-रचना अनादि-अनिधन है। इसका कोर्इ आदि अंत नहीं है, स्वयंसिद्ध अर्थात् अकृत्रिम है, जिसमें ९५% रचना शाश्वत (अपरिवर्तनशील) है। अधोलोक एवं ऊर्ध्वलोक की रचना में कोर्इ परिवर्तन नहीं होता। मध्यलोक में भी केवल जम्बू, धातकी एवं पुष्करार्ध द्वीपों के आर्यखंडों में ही काल-चक्र का विशेष परिणमन होता है, शेष-खंडों में नहीं |
Jainadarśana kē anusāra lōka-racanā anādi-anidhana hai. Isakā kōi ādi anta nahīṁ hai, svayamsid’dha arthāt akr̥trima hai, jisamēṁ 95% racanā śāśvata (aparivartanaśīla) hai. Adhōlōka ēvaṁ ūrdhvalōka kī racanā mēṁ kōi parivartana nahīṁ hōtā. Madhyalōka mēṁ bhī kēvala jambū, dhātakī ēvaṁ puṣkarārdha dvīpōṁ kē āryakhaṇḍōṁ mēṁ hī kāla-cakra kā viśēṣa pariṇamana hōtā hai, śēṣa-khaṇḍōṁ mēṁ nahīṁ |
 
प्रकृति के नियम भी शाश्वत हैं। आधुनिक विज्ञान का विकास भी प्रकृति के नियमनुसार ही हुआ है, जैसे पहिये का घूमना, चक्की का चलना, विद्युत उपकरणों की गति, घड़ी की गति आदि। जब भी विज्ञान ने प्रकृति के विरुद्ध कार्य किया, हानि उठानी पड़ी तथा विनाश का कारण बना, चाहे वह पर्यावरण पारिस्थितिक, जैविक, रासायनिक या भौतिक कोर्इ भी कार्य हो |
Prakr̥ti kē niyama bhī śāśvata haiṁ. Ādhunika vijñāna kā vikāsa bhī prakr̥ti kē niyamanusāra hī hu’ā hai, jaisē pahiyē kā ghūmanā, cakkī kā calanā, vidyuta upakaraṇōṁ kī gati, ghaṛī kī gati ādi. Jaba bhī vijñāna nē prakr̥ti kē virud’dha kārya kiyā, hāni uṭhānī paṛī tathā vināśa kā kāraṇa banā, cāhē vaha paryāvaraṇa pāristhitika, jaivika, rāsāyanika yā bhautika kōi bhī kārya hō |
 
प्रकृति ने स्वयंसिद्ध होने के साथ-साथ मानव-शरीर के निर्माण को भी निश्चित-आकार एवं स्थान दिया है। आचार्य श्री वीरसेन स्वामी ने ‘धवला’-टीका में स्पष्ट उल्लेख किया है। नारकी ८ ताल, देव १० ताल, मनुष्य ९ ताल, एवं तिर्यंच विभिन्न-ताल वाले होते हैं। इसीप्रकार वास्तु अर्थात् निर्माण-व्यवस्था भी अनादि-अनिधन है। जैनदर्शन ने नव-देवताओं को आराध्य/पूज्य माना है, जिनमें चैत्य व चैत्यालय भी हैं। अकृत्रिम-चैत्यालयों एवं प्रतिमाओं की दिशा एवं माप-अनुपात निश्चित हैं। अकृत्रिम-चैत्यालय पूर्व एवं उत्तराभिमुख हैं, प्रतिमायें गर्भगृह में स्थापित हैं। शिखर-युक्त जिनालयों में मुख्यद्वार एवं लघुद्वार हैं, प्रतिमा की दृष्टि द्वार से बाहर निकलती है। प्रतिमाएँ समचतुरस्र-संस्थान-युक्त हैं। प्रतिष्ठा-शास्त्रों एवं वास्तु-शास्त्रों में मंदिर एवं प्रतिमा के माप का विस्तृत उल्लेख है। उसी अनुसार यदि कृत्रिम-जिनालयों की रचना की जावे, तो वह लौकिक एवं पारलौकिक विकास में सहयोगी होती है। वर्तमान में इसमें कर्इ विसंगतियाँ सामने आ रही हैं। विपरीत-निर्माण से प्रतिष्ठाकारक, प्रतिष्ठास्थल एवं समाज पर भी विपरीत प्रभाव पड़ता है। आचार्यों ने वास्तुग्रंथों के उल्लंघन न करने का भी स्पष्ट कथन किया है |
Prakr̥ti nē svayamsid’dha hōnē kē sātha-sātha mānava-śarīra kē nirmāṇa kō bhī niścita-ākāra ēvaṁ sthāna diyā hai. Ācārya śrī vīrasēna svāmī nē ‘dhavalā’-ṭīkā mēṁ spaṣṭa ullēkha kiyā hai. Nārakī 8 tāla, dēva 10 tāla, manuṣya 9 tāla, ēvaṁ tiryanca vibhinna-tāla vālē hōtē haiṁ. Isī prakāra vāstu arthāt nirmāṇa-vyavasthā bhī anādi-anidhana hai. Jainadarśana nē nava-dēvatā’ōṁ kō ārādhya/pūjya mānā hai, jinamēṁ caitya-caityālaya bhī haiṁ. Akr̥trima-caityālayōṁ ēvaṁ pratimā’ōṁ kī diśā ēvaṁ māpa-anupāta niścita haiṁ. Akr̥trima-caityālaya pūrva ēvaṁ uttarābhimukha haiṁ, pratimāyēṁ garbhagr̥ha mēṁ sthāpita haiṁ. Śikhara-yukta jinālayōṁ mēṁ mukhyadvāra ēvaṁ laghudvāra haiṁ, pratimā kī dr̥ṣṭi dvāra sē bāhara nikalatī hai. Pratimā’ēm̐ samacaturasra-sansthāna-yukta haiṁ. Pratiṣṭhā- śāstrōṁ ēvaṁ vāstu-śāstrōṁ mēṁ mandira ēvaṁ pratimā kē māpa kā vistr̥ta ullēkha hain. Usī anusāra yadi kr̥trima-jinālayōṁ kī racanā kī jāvē, tō vaha laukika ēvaṁ pāralaukika vikāsa mēṁ sahayōgī hōtī hai. Vartamāna mēṁ isamēṁ kai visaṅgatiyām̐ sāmanē ā rahī haiṁ. Viparīta-nirmāṇa sē pratiṣṭhākāraka, pratiṣṭhāsthala ēvaṁ samāja para bhī viparīta prabhāva paṛatā hai. Ācāryōṁ nē vāstugranthōṁ kē ullaṅghana na karanē kā bhī spaṣṭa kathana kiyā hai |
 
वर्तमान में नगरीय विकास के कारण जगह-जगह पर मंदिरों के निर्माण हो रहे हैं। मंदिर-हेतु भूखंड का चुनाव करते समय प्रवेश की दिशा का ध्यान अवश्य रखें। भूमिशोधन करके मंदिर-निर्माण करने के पूर्व प्रतिष्ठाचार्य एवं वास्तुशास्त्री से परामर्श अवश्य लें। मंदिर-निर्माण में निम्न सावधानियाँ अवश्य रखी जावें:-
Vartamāna mēṁ nagarīya vikāsa kē kāraṇa jagaha-jagaha para mandirōṁ ke nirmāṇa hō rahe hain. Mandira-hētu bhūkhaṇḍa kā cunāva karatē samaya pravēśa kī diśā kā dhyāna avaśya rakhēṁ. Bhūmiśōdhana karakē mandira-nirmāṇa karanē kē pūrva pratiṣṭhācārya ēvaṁ vāstuśāstrī sē parāmarśa avaśya lēṁ. Mandira-nirmāṇa mēṁ nimna sāvadhāniyām̐ avaśya rakhī jāvēṁ:-
 
१. मंदिर के परिसर में मंदिर जी के नींव क्षेत्र के साथ अन्य निवास एवं प्रसाधन (बाथरूम) आदि का निर्माण न करें। यदि इसका निर्माण करना ही पड़े, तो मंदिर भवन से हटकर अलग भूमिपर करें |
1. Mandira kē parisara mēṁ mandira jī kē nīnva kṣētra kē sātha an’ya nivāsa ēvaṁ prasādhana (bātharūma) ādi kā nirmāṇa na karēṁ. Yadi isakā nirmāṇa karanā hī paṛē, tō mandira bhavana sē haṭakara alaga bhūmipara karēṁ |
 
२. वेदी का निर्माण गर्भगृह में ही करें। गर्भगृह ठीक चौकोर बनायें |
2. Vēdī kā nirmāṇa garbhagr̥ha mēṁ hī karēṁ. Garbhagr̥ha ṭhīka caukōra banāyēṁ |
 
३. गर्भगृह के बाहर की दोनों ओर बराबर-स्थान छोड़ें | वेदी ठोस एवं परिक्रमा-स्थान छोड़कर ही बनायें | दीवार से सटी वेदी बनाना अशुभ है। वेदी के ठीक ऊपर बीम या गार्डर नहीं होना चाहिए |
3. Garbhagr̥ha kē bāhara kī dōnōṁ ōra barābara-sthāna chōṛēṁ | Vēdī ṭhōsa ēvaṁ parikramā-sthāna chōṛakara hī banāyēṁ. Dīvāra sē saṭī vēdī banānā aśubha hai| Vēdī kē ṭhīka ūpara bīma yā gārḍara nahīṁ hōnā cāhi’ē |
 
४. वेदी की ऊँचार्इ ३ फुट रखें तथा वेदी पर एक या तीन कटनी ही बनायें, दो नहीं |
4. Vēdī kī ūm̐cāi 3 phuṭa rakhēṁ tathā vēdī para ēka yā tīna kaṭanī hī banāyēṁ, dō nahīṁ |
 
५. वेदी में प्रतिमाएँ विषम-संख्या में ही विराजमान करें |
5. Vēdī mēṁ pratimā’ēm̐ viṣama-saṅkhyā mēṁ hī virājamāna karēṁ |
 
६. एक ही तल पर दो वेदियों का निर्माण न करें |
6. Ēka hī tala para dō vēdiyōṁ kā nirmāṇa na karēṁ |
 
७. वेदी के पीछे खिड़की, झरोखा, अलमारी, द्वार कदापि न बनायें |
7. Vēdī kē pīchē khiṛakī, jharōkhā, alamārī, dvāra kadāpi na banāyēṁ |
 
८. प्रतिमा जी को क्रय करने से पूर्व प्रतिष्ठाचार्य को अवश्य दिखायें |
8. Pratimā jī kō kraya karanē sē pūrva pratiṣṭhācārya kō avaśya dikhāyēṁ |
 
९. मूलनायक-प्रतिमा, प्रतिष्ठाकारक, नगर एवं तीर्थंकर की राशि का मिलान करके ही निश्चित करें |
9. Mūlanāyaka-pratimā, pratiṣṭhākāraka, nagara ēvaṁ tīrthaṅkara kī rāśi kā milāna karakē hī niścita karēṁ |
 
१०. मंदिर के मुख्य-द्वार के सामने खंभा, कुआँ, पेड़ न हो तथा वेदी के द्वार के सामने स्तंभ नहीं होना चाहिए |
10. Mandira kē mukhya-dvāra kē sāmanē khambhā, ku’ām̐, pēṛa na hō tathā vēdī kē dvāra kē sāmanē stambha nahīṁ hōnā cāhi’ē |
 
११. मंदिर के निर्माण में पूर्व एवं उत्तर-खाली हो तथा दक्षिण-पश्चिम भारी रखना चाहिए |
11. Mandira kē nirmāṇa mēṁ pūrva ēvaṁ uttara-khālī hō tathā dakṣiṇa-paścima bhārī rakhanā cāhi’ē |

* * * A * * *

संक्षिप्त सूतक-अवधि-विचार
Saṅkṣipta Sūtaka-Avadhi-Vicāra


सूतक में देव-शास्त्र-गुरु का पूजन-प्रक्षालादि तथा मंदिर जी की जाजम-वस्त्रादि को स्पर्श नहीं करना चाहिये। सूतक का समय पूर्ण हुए बाद पूजनादि, सत्पात्र-दानादि करना चाहिये |
Sūtaka mēṁ dēva-śāstra-guru kā pūjana-prakṣālādi tathā mandira jī kī jājama-vastrādi kō sparśa nahīṁ karanā cāhiyē. Sūtaka kā samaya pūrṇa hu’ē bāda pūjanādi,satpātra-dānādi karanā cāhiyē |


 
१ जन्म का सूतक दस दिन तक माना जाता है |
1 Janma kā sūtaka dasa dina taka mānā jātā hai |

 
२. यदि स्त्री का गर्भपात (पाँचवें-छठे महीने में) हो, तो जितने महीने के गर्भ का पात हो, उतने दिन का सूतक माना जाता है |
2. Yadi strī kā garbhapāta (pām̐cavēṁ-chaṭhē mahīnē mēṁ) hō, tō jitanē mahīnē kē garbha kā pāta hō, utanē dina kā sūtaka mānā jātā hai |

 
३. प्रसूता स्त्री को ४५ दिन का सूतक होता है, कहीं-कहीं चालीस दिन का भी माना जाता है | प्रसूति स्थान एक मास तक अशुद्ध है |
3. Prasūtā strī kō 45 dina kā sūtaka hōtā hai, kahīṁ-kahīṁ cālīsa dina kā bhī mānā
jātā hai| Prasūtisthāna ēka māsa taka aśud’dha hai |

 
४. रजस्वला स्त्री चौथे दिन पति के भोजनादि के लिये शुद्ध होती है, परन्तु देव-पूजन, पात्रदान के लिये पाँचवें दिन शुद्ध होती है | व्यभिचारिणी स्त्री के सदा ही सूतक रहता है |
4. Rajasvalā strī cauthē dina pati kē bhōjanādi kē liyē śud’dha hōtī hai, parantu
dēva-pūjana, pātradāna kē liyē pām̐cavēṁ dina śud’dha hōtī hai. Vyabhicāriṇī strī kē
sadā hī sūtaka rahatā hai |

 
५. मृत्यु का सूतक तीन पीढ़ी तक १२ दिन का माना जाता है। चौथी पीढ़ी में छह दिन का, पाँचवीं-छठी पीढ़ी तक चार दिन का, सातवीं पीढ़ी में तीन दिन, आठवीं पीढ़ी में एक दिन-रात, नवमी पीढ़ी में स्नान-मात्र में शुद्धता हो जाती है |
5. Mr̥tyu kā sūtaka tīna pīṛhī taka 12 dina kā mānā jātā hai. Cauthī pīṛhī mēṁ chaha
dina kā, pām̐cavīṁ-chaṭhī pīṛhī taka cāra dina kā, sātavīṁ pīṛhī mēṁ tīna dina,
āṭhavīṁ pīṛhī mēṁ ēka dina-rāta, navamī pīṛhī mēṁ snāna-mātra mēṁ śud’dhatā hō jātī hai |

 
६. जन्म तथा मृत्यु का सूतक गोत्र के मनुष्य का पाँच दिन का होता है | तीन दिन के बालक की मृत्यु का दस दिन (माता-पिता को), आठ वर्ष के बालक की मृत्यु पर दस दिन परिवार को माना जाता है | इसके आगे बारह दिन का सूतक माना जाता है |
6. Janma tathā mr̥tyu kā sūtaka gōtra kē manuṣya kā pām̐ca dina kā hōtā hai | Tīnadina kē bālaka kī mr̥tyu kā dasa dina (mātā-pitā kō), āṭha varṣa kē bālaka kī
mr̥tyu para dasa dina parivāra kō mānā jātā hai | Isakē āgē bāraha dina kā sūtaka
mānā jātā hai |

 
७. अपने कुल के किसी गृहत्यागी का संन्यासमरण या किसी कुटुंबी का संग्राम में मरण हो जाय, तो एक दिन का सूतक माना जाता है |
7. Apanē kula kē kisī gr̥hatyāgī kā sann’yāsamaraṇa yā kisī kuṭumbī kā saṅgrāma mēṁ maraṇa hō jāya, tō ēka dina kā sūtaka mānā jātā hai |

 
८. यदि अपने कुल का कोर्इ देशांतर में मरण करे और १० दिन के भीतर खबर सुने, तो शेष दिनों का ही सूतक मानना चाहिये | यदि १० दिन पूर्ण हो, गये हों तो स्नान-मात्र सूतक जानो |
8. Yadi apanē kula kā kōi dēśāntara mēṁ maraṇa karē aura 10 dina kē bhītara
khabara sunē, tō śēṣa dinōṁ kā hī sūtaka mānanā cāhiyē| Yadi 10 dina pūrṇa hō, gayē hōṁ tō snāna-mātra sūtaka jānō |

 
९.गौ, भैंस, घोड़ी आदि पशु अपने घर में जने, तो एक दिन का सूतक और घर के बाहर जने, तो सूतक नहीं होता |
9. Gau, bhainsa, ghōṛī ādi paśu apanē ghara mēṁ janē, tō ēka dina kā sūtaka aura ghara kē bāhara janē, tō sūtaka nahīṁ hōtā |

 
१०. बच्चा हुए बाद भैंस का दूध १५ दिन तक, गाय का दूध १० दिन तक, बकरी का ८ दिन तक अभक्ष्य (अशुद्ध) होता है |
10. Baccā hu’ē bāda bhainsa kā dūdha 15 dina taka, gāya kā dūdha 10 dina taka, bakarī kā 8 dina taka abhakṣya (aśud’dha) hōtā hai |

 
देश-भेद से सूतक-विधान में कुछ न्यूनाधिक भी होता है, परन्तु शास्त्र की पद्धति मिलाकर ही सूतक मानना चाहिए |
Dēśa-bhēda sē sūtaka-vidhāna mēṁ kucha n’yūnādhika bhī hōtā hai, parantu śāstra kī pad’dhati milākara hī sūtaka mānanā cāhi’ē |

 
* * * A * * *

दिशाशूल-विचार
Diśāśūla-Vicāra

सोमवार, शनिवार को – पूर्व-दिशा में,
Sōmavāra, Sanivāra Kō – Pūrva-Diśā Mēṁ,

रविवार, शुक्रवार को – पश्चिम-दिशा में,
Ravivāra, Sukravāra Kō – Paścima-Diśā Mēṁ,

गुरुवार को – दक्षिण-दिशा में,
Guruvāra Kō – Dakṣiṇa-Diśā Mēṁ,

मंगलवार, बुधवार को – उत्तर-दिशा में दिशाशूल होता है ।
Maṅgalavāra, Budhavāra kō – Uttara-Diśā mēṁ Diśāśūla Hōtā hai.

परदेश जाने में दिशा-शूल सामने और दक्षिण में अच्छा नहीं होता। फिर भी कारणवश जाना अनिवार्य हो, तो मंगलवार को गुड़, बुधवार को खांड, गुरुवार को रार्इ, शुक्रवार को वायविडंग, शनिवार को दही, रविवार को पान खा कर और सोमवार को दर्पण देखकर गमन करना चाहिये ।
Paradēśa jānē mēṁ diśā-śūla sāmanē aura dakṣiṇa mēṁ acchā nahīṁ hōtā. Phira bhī kāraṇavaśa jānā anivārya hō, tō maṅgalavāra kō guṛa, budhavāra kō khāṇḍa, guruvāra kō rāi, śukravāra kō vāyaviḍaṅga, śanivāra kō dahī, ravivāra kō pāna kha kara aura sōmavāra kō darpaṇa dēkhakara gamana karanā cāhiyē |

* * * A * * *

रस त्याग विचार
Rasa Tyāga Vicāra

रस-त्याग के अभ्यास से हम अपनी जिव्हा इंद्रिय पर नियंत्रण कर सकते हैं |
Rasa-tyāg kē abhyās sē hama apanīJivhā indriya para niyantraṇa kara sakatē haiṁ|

रविवार को – नमक (खारे पदार्थ)
Ravivāra kō – Namaka (khāre padārth)

सोमवार को – हरे फल, सब्जियां
Sōmavāra kō – harē phala, Sabjiyāṁ

मंगलवार को – मीठे पदार्थ
Maṅgalavāra kō – Mīṭhe padārth

बुधवार को – घी
Budhvāra kō – ghī

गुरुवार को – दूध व उस से बने पदार्थ
Guruvāra kō – Dūdh v us se bane padārth

शुक्रवार को – दही (खट्टे पदार्थ)
Sukravāra kō – Dahī (khatte padārth)

शनिवार को – तेल (तेलों में बने पदार्थ)
Sanivāra kō – tēla (tēlon men bane padārth)

इस संसार में सबसे आसान काम है दूसरों को देखना,
और सबसे कठिन काम है स्वयं को देखना |
Isa sansāra mēṁ sabasē āsāna kāma hai dūsarōṁ kō dēkhanā,
aura sabasē kaṭhina kāma hai svayaṁ kō dēkhanā |

ज्ञान सतो-गुण है, राग-द्वेष रजो-गुण है, और अज्ञान तमो-गुण है |
Jñāna sato-guṇa hai, rāga-dvēṣa rājō-guṇa hai, aura ajñāna tamō-guṇa hai |

पंच कल्याणक तिथि (चार्ट)
Pan̄ca- Kalyāṇaka tithi ( caart)

श्री चौबीस तीर्थंकरों की पंच कल्याणक तिथियाँ
Śrī Caubīsa Tīrthankarōn Kī Pan̄ca Kalyāṇaka Tithiyām̐

हर एक श्रावक नीचे लिखे दिनों में कल्याणक पाठ सहित पूजन और स्वाध्याय जरूर करें | इससे अतिशय पुण्य और लाभ की प्राप्ति होती है |
Hara ēka śrāvaka nīcē likhē dinōṁ mēṁ kalyāṇaka pāṭha sahita pūjana aura svādhyāya jarūra karēṁ | Isasē atiśaya puṇya aura lābha kī prāpti hōtī hai |

क्रं.
Kraṁ
तीर्थंकर
Tīrthaṅkara
गर्भ
Garbha
जन्म
Janma
तप
Tapa
केवलज्ञान
Kēvalajñāna
मोक्ष
Mōkṣa
1 श्री आदिनाथ जी
Śrī Adinātha jī
आषाढ वदी २
Āṣāḍha vadī 2
चैत्र वदी ९
Caitra vadī 9
चैत्र वदी ९
Caitra vadī 9
फाल्गुन वदी ११
Phālguna vadī 11
माघ वदी १४
Māgha vadī 14
2 श्री अजितनाथ जी
Śrī Ajitanātha jī
ज्येष्ठ वदी १५
Jyēṣṭha vadī 15
माघ सुदी १०
Māgha sudī 10
माघ सुदी १०
Māgha sudī 10
पौष सुदी ११
Pauṣa sudī 11
चैत्र सुदी ५
Caitra sudī 5
3 श्री संभवनाथ जी
Śrī Sambhavanātha jī
फाल्गुन सुदी ८
Phālguna sudī 8
कार्तिक सुदी १५
Kārtika sudī 15
मंगसिर सुदी १५
Maṅgasira sudī 15
कार्तिक वदी ४
Kārtika vadī 4
चैत्र सुदी १५
Caitra sudī 15
4 श्री अभिनंदननाथ जी
Śrī Abhinandananātha jī
बैशाख सुदी ६
Baiśākha sudī 6
माघ सुदी १२
Māgha sudī 12
माघ सुदी १२
Māgha sudī 12
पौष सुदी १४
sudī 14
बैशाख सुदी ६
Baiśākha sudī 6
5 श्री सुमतिनाथ जी
Śrī Sumatinātha jī
सावन सुदी २
Sāvana sudī 2
चैत्र सुदी ११
Caitra sudī 11
बैशाख सुदी ९
Baiśākha sudī 9
चैत्र सुदी ११
Caitra sudī 11
चैत्र सुदी ११
Caitra sudī 11
6 श्री पद्मप्रभ जी
Śrī Padmaprabha jī
माघ वदी ६
Māgha vadī 6
कार्तिक वदी १३
Kārtika vadī 13
कार्तिक वदी १३
Kārtika vadī 13
चैत्र सुदी १५
Caitra sudī 15
फाल्गुन वदी ४
Phālguna vadī 4
7 श्री सुपार्श्वनाथ जी
Śrī Supārśvanātha jī
भादों सुदी ६
Bhādōṁ sudī 6
ज्येष्ठ सुदी १२
Jyēṣṭha sudī 12
ज्येष्ठ सुदी १२
Jyēṣṭha sudī 12
फाल्गुन वदी ६
Phālguna vadī 6
फाल्गुन वदी ७
Phālguna vadī 7
8 श्री चंद्रप्रभ जी
Śrī Candraprabha jī
चैत्र वदी ५
Caitra vadī 5
पौष वदी ११
Pauṣa vadī 11
पौष वदी ११
Pauṣa vadī 11
फाल्गुन वदी ७
Phālguna vadī 7
फाल्गुन सुदी ७
Phālguna sudī 7
9 श्री पुष्पदंत जी
Śrī Puṣpadanta jī
फाल्गुन वदी ९
Phālguna vadī 9
मंगसिर सुदी १
Maṅgasira sudī 1
मंगसिर सुदी १
Maṅgasira sudī 1
कार्तिक सुदी २
Kārtika sudī 2
भादों सुदी ८
Bhādōṁ sudī 8
10 श्री शीतलनाथ जी
Śrī Sītalanātha jī
चैत्र वदी ८
Caitra vadī 8
माघ वदी १२
Māgha vadī 12
माघ वदी १२
Māgha vadī 12
पौष वदी  १४
vadī 14
आसोज सुदी ८
Āsōja sudī 8
11 श्री श्रेयांसनाथ जी
Śrī Srēyānsanātha jī
ज्येष्ठ वदी ६
Jyēṣṭha vadī 6
फाल्गुन वदी ११
vadī 11
फाल्गुन वदी ११
Phālguna vadī 11
माघ वदी १५
vadī 15
सावन सुदी १५
Sāvana sudī 15
12 श्री वासुपूज्य जी
Śrī Vāsupūjya jī
आषाढ वदी ६
Āṣāḍha vadī 6
फाल्गुन वदी १४
Phālguna vadī 14
फाल्गुन वदी १४
Phālguna vadī 14
माघ सुदी २
Māgha sudī 2
भादों सुदी १४
Bhādōṁ sudī 14
13 श्री विमलनाथ जी
Śrī Vimalanātha jī
ज्येष्ठ वदी १०
Jyēṣṭha vadī 10
माघ सुदी ४
Māgha sudī 4
माघ सुदी ४
Māgha sudī 4
माघ सुदी ६
Māgha sudī 6
आषाढ वदी ६
Āṣāḍha vadī 6
14 श्री अनंतनाथ जी
Śrī Anantanātha jī
कार्तिक वदी १
Kārtika vadī 1
ज्येष्ठ वदी १२
Jyēṣṭha vadī 12
ज्येष्ठ वदी १२
Jyēṣṭha vadī 12
चैत्र वदी १५
Caitra vadī 15
चैत्र वदी १५
Caitra vadī 15
15 श्री धर्मंनाथ जी
Śrī Dharmannātha jī
बैशाख सुदी ८
Baiśākha sudī 8
माघ सुदी १३
Māgha sudī 13
माघ सुदी १३
Māgha sudī 13
पौष सुदी १५
Pauṣa sudī 15
ज्येष्ठ सुदी ४
Jyēṣṭha sudī 4
16 श्री शांतिनाथ जी
Śrī Sāntinātha jī
भादों वदी ७
Bhādōṁ vadī 7
ज्येष्ठ वदी १४
Jyēṣṭha vadī 14
ज्येष्ठ वदी १४
Jyēṣṭha vadī 14
पौष सुदी १०
Pauṣa sudī 10
ज्येष्ठ वदी १४
Jyēṣṭha vadī 14
17 श्री कुंथुनाथ जी
Śrī Kunthunātha jī
सावन वदी १०
Sāvana vadī 10
बैशाख सुदी १
Baiśākha sudī 1
बैशाख सुदी १
Baiśākha sudī 1
चैत्र सुदी ३
Caitra sudī 3
बैशाख सुदी १
Baiśākha sudī 1
18 श्री अरनाथ जी
Śrī Aranātha jī
फाल्गुन सुदी ३
Phālguna sudī 3
मंगसिर सुदी १४
Maṅgasira sudī 14
मंगसिर सुदी १०
Maṅgasira sudī 10
सुदी१२
Kārtika sudī12
चैत्र वदी १५
Caitra vadī 15
19 श्री मल्लिनाथ जी
Śrī Mallinātha jī
चैत्र सुदी १
Caitra sudī 1
मंगसिर सुदी ११
Maṅgasira sudī 11
मंगसिर सुदी ११
Maṅgasira sudī 11
पौष वदी २
Pauṣa vadī 2
फाल्गुन सुदी ५
Phālguna sudī 5
20 श्री मुनिसुव्रतनाथ जी
Śrī Munisuvratanātha jī
सावन वदी २
Sāvana vadī 2
बैशाख वदी १०
Baiśākha vadī 10
बैशाख वदी १०
vadī 10
बैशाख वदी ९
Baiśākha vadī 9
फाल्गुन वदी १२
Phālguna vadī 12
21 श्री नमिनाथ जी
Śrī Naminātha jī
आश्विन वदी २
Āśhvina vadī 2
आषाढ वदी १०
Āṣāḍha vadī 10
आषाढ वदी १०
Āṣāḍha vadī 10
मंगसिर सुदी ११
Maṅgasira sudī 11
बैशाख वदी १४
Baiśākha vadī 14
22 श्री नेमिनाथ जी
Śrī Nēminātha jī
कार्तिक सुदी ६
Kārtika sudī 6
सावन सुदी ६
Sāvana sudī 6
सावन सुदी ६
Sāvana sudī 6
असोज सुदी १
Asōja sudī 1
आषाढ सुदी ७
Āṣāḍha sudī 7
23 श्री पार्श्वनाथ जी
Śrī Pārśvanātha jī
बैशाख वदी २
Baiśākha vadī 2
पौष वदी ११
Pauṣa vadī 11
पौष वदी ११
Pauṣa vadī 11
चैत्र वदी ४
Caitra vadī 4
सावन सुदी ७
sudī 7
24 श्री महावीर जी
Śrī Mahāvīra jī
आषाढ. सुदी ६
. sudī 6
चैत्र सुदी १३
Caitra sudī 13
मार्गशीर्ष वदी १०
Mārgaśīrṣa vadī 10
मार्गशीर्ष वदी १०
Mārgaśīrṣa vadī 10
कार्तिक वदी १५
Kārtika vadī 15

पंच- कल्याणक तिथियाँ
Pan̄ca- Kalyāṇaka tithiyām̐

महीनों के क्रम से पंच- कल्याणक तिथियाँ
Mahīnō Kē Krama Sē Pan̄ca- Kalyāṇaka tithiyām̐

श्रावकगण नीचे लिखे दिनों में अवश्य पूजन एवं स्वाध्याय करें, क्योंकि ऐसा करने से विशेष-पुण्य व लाभ की प्राप्ति होती है|
तीर्थंकर का नाम तिथि एवं कल्याणक का नाम के क्रम से निम्नलिखित विवरण को समझें |
Śravakagaṇa nīcē likhē dinōṁ mēṁ āvaśaya pūjana ēvaṁ svādhyāya karē, kyōṅki aisā karanē sē viśēṣa – puṇya va lābha kī prāpti hōtī hai |
Tīrthakara kā nām tithi ēvaṁ kalyāṇaka kā nāma kē krama sē nimnalikhita vivaraṇa kō samajhēṁ|

चैत्र कृष्ण-पक्ष (वदी)
Caitra kr̥ṣṇa – pakṣa (vadī)
पार्श्वनाथ जी – ४ – ज्ञान
Pārśvanātha jī – 4 – jñāna
चंद्रप्रभ जी – ५ – गर्भ
Candraprabha jī – 5 – garbha
शीतलनाथ जी – ८ – गर्भ
Śītalanātha jī – 8 – garbha
ऋषभनाथ जी – ९ – जन्म, तप
R̥ṣabhanātha jī – 9 – janma, tapa
अनंतनाथ जी – १५ – ज्ञान, मोक्ष
Anantanātha jī – 15 – jñāna, mōkṣa
अरहनाथ जी – १५ – मोक्ष
Arahnātha jī -15 – mōkṣa
चैत्र शुक्ल-पक्ष (सुदी)
Caitra śukla – pakṣa (sudī)
मल्लिनाथ जी – १ – गर्भ
Mallīnātha jī – 1 – garbha
कुंथुनाथ जी – ३ – ज्ञान
Kunthunātha jī – 3 – jñāna
अजितनाथ जी – ५ – मोक्ष
Ajitanātha jī – 5 – mōkṣa
संभवनाथ जी – ६ – मोक्ष
Sambhavanātha jī – 6 – mōkṣa
सुमतिनाथ जी – ११ – जन्म, ज्ञान, मोक्ष
Sumatinātha jī 11 janma, jñāna, mōkṣa
महावीर जी – १३ – जन्म
Mahāvīra jī – 13 – janma
पद्मप्रभ जी – १५ – ज्ञान
Padmaprabha jī – 15 – jñāna
बैशाख कृष्ण-पक्ष (वदी)
Baiśākha kr̥ṣṇa – pakṣa (vadī)
पार्श्वनाथ जी – २ – गर्भ
Pārśvanātha jī – 2 – garbha
मुनिसुव्रतनाथ जी – ९ – ज्ञान
Munisuvratanātha jī – 9 – jñāna
मुनिसुव्रतनाथ जी – १० – जन्म, तप
Munisuvratanātha jī – 10 – janma, tapa
नमिनाथ जी – १४ – मोक्ष
Naminātha jī – 14 – mōkṣa
बैशाख शुक्ल-पक्ष (सुदी)
Baiśākha śukla – pakṣa (sudī)
कुंथुनाथ जी – १ – जन्म, तप, मोक्ष
Kunthunātha jī – 1 – janma, tapa, mōkṣa
अभिनंदन जी – ६ – गर्भ, मोक्ष
Abhinandana jī – 6 – garbha, mōkṣa
धर्मनाथ जी – ८ – गर्भ
Dharmanātha jī – 8 – garbha
सुमतिनाथ जी – ९ – तप
Sumatinātha jī – 9 – tapa
महावीर स्वामी – १२ – ज्ञान
Mahāvīra svāmī – 12 – jñāna
ज्येष्ट कृष्ण-पक्ष (वदी)
Jyēṣṭa kr̥ṣṇa – pakṣa (vadī)
श्रेयांसनाथ जी – ६ – गर्भ
Śrēyānsanātha jī – 6 – garbha
विमलनाथ जी – १० – गर्भ
Vimalanātha jī – 10 – garbha
अनंतनाथ जी – १२ – जन्म, तप
Anantanātha jī – 12 – janma, tapa
शांतिनाथ जी – १४ – जन्म, तप, मोक्ष
Śāntinātha jī – 14 – janma, tapa, mōkṣa
अजितनाथ जी – १५ – गर्भ
Ajitanātha jī – 15 – garbha
ज्येष्ट शुक्ल-पक्ष (सुदी)
Jyēṣṭa śukla – pakṣa (sudī)
धर्मनाथ जी – ४ – मोक्ष
Dharmanātha jī – 4 – mōkṣa
सुपार्श्वनाथ जी – १२ – जन्म, तप
Supārśvanātha jī – 12 – janma, tapa
आषाढ़ कृष्ण-पक्ष (वदी)
Āṣāṛha kr̥ṣṇa – pakṣa (vadī)
ऋषभनाथ जी – २ – गर्भ
R̥ṣabhanātha jī – 2 – garbha
वासुपूज्य जी – ६ – गर्भ
Vāsupūjya jī – 6 – garbha
विमलनाथ जी – ६ – मोक्ष
Vimalanātha jī – 6 – mōkṣa
नमिनाथ जी – १० – जन्म, तप
Naminātha jī – 10 – janma, tapa
आषाढ़ शुक्ल-पक्ष (सुदी)
Āṣāṛha śukla – pakṣa (sudī)
महावीर स्वामी – ६ – गर्भ
Mahāvīra svāmī – 6 – garbha
नेमिनाथ जी – ७ – मोक्ष
Nēminātha jī – 7 – mōkṣa
श्रावण कृष्ण-पक्ष (वदी)
Śrāvaṇa Kr̥ṣṇa – pakṣa (vadī)
मुनिसुव्रतनाथ जी – २ – गर्भ
Munisuvratanātha jī – 2 – garbha
कुंथुनाथ जी – १० – गर्भ
Kunthunātha jī – 10 – garbha
श्रावण शुक्ल-पक्ष (सुदी)
Śrāvaṇa śukla – pakṣa (sudī)
सुमतिनाथ जी – २ – गर्भ
Sumatinātha jī – 2 – garbha
नेमिनाथ जी – ६ – जन्म, तप
Nēminātha jī – 6 – janma, tapa
पार्श्वनाथ जी – ७ – मोक्ष
Pārśvanātha jī – 7 – mōkṣa
श्रेयांसनाथ जी – १५ – मोक्ष
Śrēyānsanātha jī – 15 – mōkṣa
भाद्रपद कृष्ण-पक्ष (भादों) (वदी)
Bhādrapada Kr̥ṣṇa – pakṣa (bhādōṁ) (vadī)
शांतिनाथ जी – ७ – गर्भ
Śāntinātha jī – 7 – garbha
भाद्रपद शुक्ल-पक्ष (भादों) (सुदी)
Bhādrapada śukla – pakṣa (bhādōṁ) (sudī)
सुपार्श्वनाथ जी – ६ – गर्भ
Supārśvanātha jī – 6 – garbha
पुष्पदंत जी – ८ – मोक्ष
Puṣpadanta jī – 8 – mōkṣa
वासुपूज्य जी – १४ – मोक्ष
Vāsupūjya jī – 14 – mōkṣa
आश्विन कृष्ण-पक्ष (आसौज, क्वांर) (वदी)
Āśvina kr̥ṣṇa – pakṣa (āsauja, kvānra) (vadī)
नमिनाथ जी – २ – गर्भ
Naminātha jī – 2 – garbha
आश्विन शुक्ल-पक्ष (आसौज, क्वांर) (सुदी)
Āśvina śukla – pakṣa (āsauja, kvānra) (sudī)
नेमिनाथ जी – १ – ज्ञान
Nēminātha jī – 1 – jñāna
शीतलनाथ जी – ८ – मोक्ष
Śītalanātha jī – 8 – mōkṣa
कार्तिक कृष्ण-पक्ष (वदी)
Kārtika kr̥ṣṇa – pakṣa (vadī)
अनंतनाथ जी – १ – गर्भ
Anantanātha jī – 1 – garbha
संभवनाथ जी – ४ – ज्ञान
Sambhavanātha jī – 4 – jñāna
पद्मप्रभ – १३ – जन्म, तप
Padmaprabha -13 – janma, tapa
महावीर स्वामी – १५ – मोक्ष
Mahāvīra svāmī – 15 – mōkṣa
कार्तिक शुक्ल-पक्ष (सुदी)
Kārtika śukla – pakṣa (sudī)
पुष्पदंत जी – २ – ज्ञान
Puṣpadanta jī – 2 – jñāna
नेमिनाथ जी – ६ – गर्भ
Nēminātha jī – 6 – garbha
अरनाथ जी – १२ – ज्ञान
Aranātha jī – 12 – jñāna
संभवनाथ जी – १५ – जन्म
Sambhavanātha jī – 15 – janma
मार्गशीर्ष कृष्ण-पक्ष (मंगसिर, अगहन) (वदी)
Mārgaśīrṣa kr̥ṣṇa – pakṣa (maṅgasira, agahana) (vadī)
महावीर स्वामी – १० – तप
Mahāvīra svāmī – 10 – tapa
मार्गशीर्ष शुक्ल-पक्ष (मंगसिर, अगहन) (सुदी)
Mārgaśīrṣa śukla – pakṣa (maṅgasira, agahana) (sudī)
पुष्पदंत जी – १ – जन्म, तप
Puṣpadanta jī – 1 – janma, tapa
अरहनाथ जी – १० – तप
Arahnātha jī – 10 – tapa
मल्लिनाथ जी – ११ – जन्म, तप
Mallinātha jī – 11 – janma, tapa
नमिनाथ जी – ११ – ज्ञान
Naminātha jī – 11 – jñāna
अरहनाथ जी – १४ – जन्म
Arahnātha jī – 14 – janma
संभवनाथ जी – १५ – तप
Sambhavanātha jī – 15 – tapa
पौष कृष्ण-पक्ष (वदी)
Pauṣa kr̥ṣṇa – pakṣa (vadī)
मल्लिनाथ जी – २ – ज्ञान
Mallinātha jī – 2 – jñāna
चंद्रप्रभ जी – ११ – जन्म, तप
Candraprabha jī – 11 – janma, tapa
पार्श्वनाथ जी – ११ – जन्म, तप
Pārśvanātha jī – 11 – janma, tapa
शीतलनाथ जी- १४ – ज्ञान
Śītalanātha ji- 14 – jñāna
पौष शुक्ल-पक्ष (सुदी)
Pauṣa śukla – pakṣa (sudī)
शांतिनाथ जी – १० – ज्ञान
Śāntinātha jī – 10 – jñāna
अजितनाथ जी – ११ – ज्ञान
Ajitanātha jī – 11 – jñāna
अभिनंदन जी – १४ – ज्ञान
Abhinandana jī – 14 – jñāna
धर्मनाथ जी – १५ – ज्ञान
Dharmanātha jī – 15 – jñāna
माघ कृष्ण-पक्ष (वदी)
Māgha kr̥ṣṇa – pakṣa (vadī)
पद्मप्रभ जी – ६ – गर्भ
Padmaprabha jī – 6 – garbha
शीतलनाथ जी – १२ – जन्म तप
Śītalanātha jī – 12 – janma tapa
ऋषभनाथ जी – १४ – मोक्ष
R̥ṣabhanātha jī – 14 – mōkṣa
श्रेयांसनाथ जी – १५ – ज्ञान
Śrēyānsanātha jī – 15 – jñāna
माघ शुक्ल-पक्ष (सुदी)
Māgha śukla – pakṣa (sudī)
वासुपूज्य जी – २ – ज्ञान
Vāsupūjya jī – 2 – jñāna
विमलनाथ जी – ४ – जन्म, तप
Vimalanātha jī – 4 – janma, tapa
विमलनाथ जी – ६ – ज्ञान
Vimalanātha jī – 6 – jñāna
अजितनाथ जी – १० – जन्म, तप
Ajitanātha jī – 10 – janma, tapa
अभिनंदन जी – १२ – जन्म, तप
Abhinandana jī – 12 – janma, tapa
धर्मनाथ जी – १३ – जन्म, तप
Dharmanātha jī – 13 – janma, tapa
फाल्गुन कृष्ण-पक्ष (वदी)
Phālguna kr̥ṣṇa – pakṣa (vadī)
पद्मप्रभ जी – ४ – मोक्ष
Padmaprabha jī – 4 – mōka
सुपार्श्वनाथ जी – ६ – ज्ञान
Supārśvanātha jī – 6 – jñāna
सुपार्श्वनाथ जी – ७ – मोक्ष
Supārśvanātha jī – 7 – mōkṣa
चंद्रप्रभ जी – ७ – ज्ञान
Candraprabha jī – 7 – jñāna
पुष्पदंत जी – ९ – गर्भ
Puṣpadanta jī – 9 – garbha
ऋषभनाथ जी – ११ – ज्ञान
R̥ṣabhanātha jī – 11 – jñāna
श्रेयांसनाथ जी – ११ – जन्म, तप
Śrēyānsanātha jī – 11 – janma, tapa
मुनिसुव्रतनाथ जी – १२ – मोक्ष
Munisuvratanātha jī – 12 – mōkṣa
वासुपूज्य जी – १४ – जन्म, तप
Vāsupūjya jī – 14 – janma, tapa
फाल्गुन शुक्ल-पक्ष (सुदी)
Phālguna śukla – pakṣa (sudī)
अरहनाथ जी – ३ – गर्भ
Arahanātha jī – 3 – garbha
मल्लिनाथ जी – ५ – मोक्ष
Mallinātha jī – 5 – mōkṣa
चंद्रप्रभ जी – ७ – मोक्ष
Candraprabha jī – 7 – mōkṣa
संभवनाथ जी – ८ – गर्भ
Sambhavanātha jī – 8 – garbha