जैन दर्शन का उद्देश्य
(Aim of Jain Philosophy)

 

  • जैन-दर्शन का उद्देश्य है निर्वाण अर्थात् मोक्ष । निर्वाण समस्त कर्मों के नष्ट होने से मिलता है।
  • कर्म सर्व-विरति (समस्त पाप-पुण्यों से छूटना) से नष्ट होते हैं। सर्व-विरति चारित्र-मोहनीय कर्म प्रकृति के नष्ट होने का परिणाम है।
  • प्राणी मात्र का लक्ष्य यह होना चाहिए कि वह सर्व-विरत बने और मोक्ष की राह में अग्रसर हो।
  • किन्तु हमारी आत्मा चारित्र-मोहनीय कर्म का उदय रहते सर्व-विरत नहीं हो पाती।
  • इस अशक्यता की दशा में यथाशक्य विरति का विधान है। कहा भी गया है, “कीजे शक्ति प्रमाण, शक्ति बिना, श्रध्दा धरें” अर्थात् सम्यक्-दृष्टि बनने में रत रहें।
  • अनन्तानुबन्धी मोह के उदय वश, जो सम्यक्-दृष्टि भी नहीं बन सकते, उनके लिए निर्जरा अर्थात् तपस्या का मार्ग खुला रहता है।
  • निर्जरा-तप, सम्यक्-दृष्टित्व और विरति ; ये मोक्ष के साधन हैं।
  • निर्जरा मोक्ष का साधन है पर केवल निर्जरा से मुक्ति नहीं होती, दृष्टि भी सम्यक् होनी चाहिए।
  • चारित्र के बिना इन दोनों से भी मुक्ति नहीं होती। तीनों- सम्यक्-दृष्टि, निर्जरा और विरति एक साथ होते हैं, तब आत्मा कर्ममुक्त होती है।
  • जो मुनि कैवल्य प्राप्त नहीं करता, वह मुक्त नहीं होता। जो सर्व-विरत नहीं बनता, वह वीतराग नहीं बनता। जो वीतराग नहीं बनता, वह कैवल्य प्राप्त नहीं करता। इसलिए जो मुनि व्रत-पालन करते-करते वीतराग बन केवली बन जाते हैं, वे ही मुक्त होते हैं|
  • घर में रहते हुए बहुत सारे आरम्भ-समारम्भ (हिंसामय कार्य) करने पड़ते हैं, इसलिए उस दशा में सर्व-विरति हो नहीं सकती। आरम्भ-हिंसा करता हुआ जीव मुक्त नहीं बनता। गृहस्थ जितना त्याग करता है उसकी उतनी ही विरति होती है, शेष अविरति होती है। जो कुछ भी त्याग नहीं करता, वह अविरत होता है।
  • जैन दर्शन कहता है कि यथा शक्ति अपने कर्तव्यों का निर्वाह करते हुए, धीरे धीरे मोक्ष मार्ग पर अग्रसर होना चाहिए


 

    • Jaina-darśana kā uddēśya hai nirvāṇa arthāt mōkṣa. Nirvāṇa samasta karmōṁ kē naṣṭa hōnē sē milatā hai.
    • Karma sarva-virati (samasta pāpa-puṇyōṁ sē chūṭanā) sē naṣṭa hōtē haiṁ. Sarva-virati cāritra-mōhanīya karma prakr̥ti kē naṣṭa hōnē kā pariṇāma hai.
    • Prāṇī mātra kā lakṣya yaha hōnā cāhi’ē ki vaha sarva-virata banē aura mōkṣa kī rāha mēṁ agrasara hō.
    • Kintu hamārī ātmā cāritra-mōhanīya karma kā udaya rahatē sarva-virata nahīṁ hō pātī.
    • Isa aśakyatā kī daśā mēṁ yathāśakya virati kā vidhāna hai. Kahā bhī gayā hai, “kījē śakti pramāṇa, śakti binā, śradhdā dharēṁ” arthāt samyak-dr̥ṣṭi bananē mēṁ rata rahēṁ.
    • Anantānubandhī mōha kē udaya vaśa, jō samyak-dr̥ṣṭi bhī nahīṁ bana sakatē, unakē li’ē nirjarā arthāt tapasyā kā mārga khulā rahatā hai.
    • Nirjarā-tapa, samyak-dr̥ṣṭitva aura virati; yē mōkṣa kē sādhana haiṁ.
    • Nirjarā mōkṣa kā sādhana hai para kēvala nirjarā sē mukti nahīṁ hōtī, dr̥ṣṭi bhī samyak hōnī cāhi’ē.
    • Cāritra kē binā ina dōnōṁ sē bhī mukti nahīṁ hōtī. Tīnōṁ- samyak-dr̥ṣṭi, nirjarā aura virati ēka sātha hōtē haiṁ, taba ātmā karmamukta hōtī hai.
    • Jō muni kaivalya prāpta nahīṁ karatā, vaha mukta nahīṁ hōtā. Jō sarva-virata nahīṁ banatā, vaha vītarāga nahīṁ banatā. Jō vītarāga nahīṁ banatā, vaha kaivalya prāpta nahīṁ karatā. Isali’ē jō muni vrata-pālana karatē-karatē vītarāga bana kēvalī bana jātē haiṁ, vē hī mukta hōtē haiṁ.
    • ghara mēṁ rahatē hu’ē bahuta sārē ārambha-samārambha (hinsāmaya kārya) karanē paṛatē haiṁ, isali’ē usa daśā mēṁ sarva-virati hō nahīṁ sakatī. Ārambha-hinsā karatā hu’ā jīva mukta nahīṁ banatā. Gr̥hastha jitanā tyāga karatā hai usakī utanī hī virati hōtī hai, śēṣa avirati hōtī hai. Jō kucha bhī tyāga nahīṁ karatā, vaha avirata hōtā hai.
    • Jaina darśana kahatā hai ki yathā śakti apanē kartavyōṁ kā nirvāha karatē hu’ē, dhīrē dhīrē mōkṣa mārga para agrasara hōnā cāhi’ē.

  • तीर्थंकर-अरिहंत-वीतराग पर्यायवाची हैं
  • जिन + आगम (जिनागम) की भाषा में भगवान को तीर्थंकर, अरिहंत तथा वीतराग भी बोलते हैं। तीर्थ का शाब्दिक अर्थ है तैरने का साधन, और (संसार रूपी सागर से) तैरा देने का मार्ग बताने वाला ‘तीर्थंकर’। अरि + हंत (=अरिहंत); जिन्होंने मोक्षमार्ग में बाधक रागरूपी दुश्मन को समाप्त कर दिया है – वे ‘अरिहंत’ भगवान हैं। वीत + राग (=वीतराग); जिसका राग (मोह, लोभ, काम, मद आदि ) बीत गया है – वही ‘वीतराग’ है | इस प्रकार हम देखते हैं कि तीर्थंकर, अरिहंत और वीतराग तीनों पर्यायवाची हैं।

  • Tīrthaṅkara-arihanta-vītarāga paryāyavācī haiṁ
  • Jina + āgama (jināgama) kī bhāṣā mēṁ bhagavāna kō tīrthaṅkara, arihanta tathā vītarāga bhī bōlatē haiṁ. Tīrtha kā śābdika artha hai tairanē kā sādhana, aura (sansāra rūpī sāgara sē) tairā dēnē kā mārga batānē vālā ‘tīrthaṅkara’. Ari + hanta (=arihanta); jinhōn nē mōkṣa mārga mēṁ bādhaka rāgarūpī duśmana kō samāpta kara diyā hai – vē ‘arihanta’ bhagavāna haiṁ. Vīta + rāga (=vītarāga); jisakā rāga (mōha, lōbha, kāma, mada ādi) bīta gayā hai – vahī ‘vītarāga’ hai. isa prakāra hama dēkhatē haiṁ ki tīrthaṅkara, arihanta aura vītarāga tīnōṁ paryāyavācī haiṁ.

  • जैनाचार्य परम्परा और आचार्य कुन्दकुन्द स्वामी
  • जैन धर्म के संवर्द्धक कुन्दकुन्दाचार्य का उदय पंचमकाल में भव्य जीवों के लिए वरदान सिद्ध हुआ। साक्षात् भगवान का विरह भुलाने में समर्थ श्री कुन्दकुन्द आचार्य की आध्यात्म गंगा में अनेक आसन्न भव्य जीवों ने अवगाहन किया है। उनका प्रदेय अनुपम व अद्वितीय है।
    श्रुतधर आचार्यों की परम्परा में इनकी गणना ऐसे युग संस्थापक आचार्य के रूप में की गर्इ है, जिनके नाम से उत्तरवर्ती आचार्य-परम्परा प्रसिद्ध हुर्इ। किसी भी कार्य के प्रारम्भ में भगवान महावीर और गणधर गौतम के पश्चात् आचार्य कुन्दकुन्द को प्रत्यक्ष मंगल रूप श्रद्धा भाव से स्मरण किया जाता है। जैसा कि निम्नलिखित पद्य से स्पष्ट है:

    मंगलं भगवान वीरो मंगलं गौतमो गणी।
    मंगलं कुन्दकुन्दाद्यो जैन धर्मोऽस्तु मंगलम्।।

  • Jainācārya paramparā aura ācārya kundakunda svāmī
  • Jaina dharma kē sanvard’dhaka kundakundācārya kā udaya pan̄camakāla mēṁ bhavya jīvōṁ kē li’ē varadāna sid’dha hu’ā. Sākṣāt bhagavāna kā viraha bhulānē mēṁ samartha śrī kundakunda ācārya kī ādhyātma gaṅgā mēṁ anēka āsanna bhavya jīvōṁ nē avagāhana kiyā hai. Unakā pradēya anupama va advitīya hai.
    Śrutadhara ācāryōṁ kī paramparā mēṁ inakī gaṇanā aisē yuga sansthāpaka ācārya kē rūpa mēṁ kī gai hai, jinakē nāma sē uttaravartī ācārya-paramparā prasid’dha hui. Kisī bhī kārya kē prārambha mēṁ bhagavāna mahāvīra aura gaṇadhara gautama kē paścāt ācārya kundakunda kō pratyakṣa maṅgala rūpa śrad’dhā bhāva sē smaraṇa kiyā jātā hai. Jaisā ki nimnalikhita padya sē spaṣṭa hai:

    Maṅgalaṁ bhagavāna vīrō maṅgalaṁ gautamō gaṇī.
    Maṅgalaṁ kundakundādyō jaina dharmō̕stu maṅgalam..