लोकवर्णन
( Universe Description)

Lokvarnan (1)
Click to enlarge

 

लोक क्या है ?
जैन दर्शन के अनुसार, तीर्थंकर भगवान जो सर्वज्ञ हैं, उनके द्वारा देखे गए अनंत आकाश द्रव्य में से 343 घन- रज्जु (राजु) प्रमाण पुरुषाकार आकाश- भाग जिसमें जीव, पुद्गल, धर्म, अधर्म एवं काल ये शेष पांच द्रव्य व्याप्त हैं, लोक कहलाता है, और इसे छोड़ कर शेष अलोकाकाश है|

लोक का आकार क्या है ?
एक के पीछे एक, सात पुरुष दोनों पैर फैलाकर, दोनों हाथ कमर पर दोनों तरफ रखकर खड़े होने पर जैसा आकार बनता है वह ही लोक का आकार है।14 रज्जु ऊंचे, 7 रज्जु मोटे इस लोक के नीचे से ऊपर क्रमशः तीन भाग हैं – अधोलोक (7 रज्जु ऊंचा), मध्यलोक + ऊर्ध्वलोक (कुल 7 रज्जु ऊंचे)|

1. अधोलोक: सुमेरु पर्वत की जड़ से लगी पहली पृथ्वी के तीन भाग हैं।

i. खरभाग: इस में भवनवासी और व्यंतर देवों का वास है,
ii. पंकभाग: इस में असुरकुमार जाति के भवनवासी व राक्षस जाति के व्यंतर देव रहते हैं,
iii. अब्बहुल भाग: इस में प्रथम नर्क है।
इस के नीचे नीचे दूसरी से सातवीं तक छह पृथ्वियाँ और हैं जिन में नारकी जीव रहते हैं, तथा सातवीं के नीचे का आयतन निगोदिया जीवों से भरा है, जिसे ‘कलकला’ कहते हैं (यह पृथ्वी नहीं है)|

2. मध्यलोक:  इसकी लम्बार्इ-चौड़ार्इ एक-एक रज्जु और ऊँचार्इ मात्र 1लाख 40 योजन अर्थात् सुमेरु पर्वत के बराबर है। इस के मध्य में एक लाख योजन व्यास वाला गोलाकार जम्बूद्वीप है, जिस के केंद्र में सुमेरुपर्वत है। इस द्वीप को चूड़ी आकार लवण समुद्र घेरे हुए है,व लवण समुद्र को चूड़ी आकार का धातकी द्वीप; इस क्रम से कालोदधि समुद्र, पुष्कर द्वीप आदि एक-दूसरे को घेरे हुए दुगुने-दुगुने माप के असंख्यात द्वीप व समुद्र मध्यलोक में हैं ।आठवां द्वीप नन्दीश्वर द्वीप और अंत में स्वयम्भुरमण द्वीप व स्वयम्भुरमण समुद्र हैं|
5 भरत, 5 ऐरावत व 32 विदेह क्षेत्र, सुमेरु सहित पांच मेरु पर्वत, भोगभूमियां आदि जम्बू, धातकी व आधे पुष्कर द्वीप में स्थित हैं। मनुष्य गति के समस्त जीव मात्र 45 लाख योजन विस्तृत इन ढाई द्वीपों में ही स्थान पाते हैं| तिर्यंच गति के जीव समूचे मध्यलोक में पाए जाते हैं।

3. ऊर्ध्वलोक:  सुमेरु पर्वत से उपर 6 रज्जु ऊँचाई पर्यंत सोलह स्वर्गों के विमानों में असंख्यात कल्पवासी देव-देवियाँ रहती हैं। सातवें रज्जु की ऊँचार्इ में नौ ग्रैवेयक, उनके उपर नौ अनुदिश और उनसे भी उपर पाँच अनुत्तर विमानों में कल्पातीत देवों के विमान हैं। सर्वार्थसिद्धि नामा अनुत्तर विमान से बारह योजन ऊपर एक रज्जु चौड़ी,7 रज्जु लम्बी आठ योजन ऊंची ईषत्प्राग्भार नामक आठवीं (अष्टम) पृथ्वी के बीचों बीच मनुष्य क्षेत्र के सामान 45 लाख योजन व्यास वाली सिद्ध शिला है जिस के ऊपर अनंतानंत सिद्ध भगवान पद्मासन या खडगासन मुद्रा में तनुवात-वलय से शिर लगाए निराकुल, अनंत ज्ञाता-दृष्टा बने अनंत सुख भोग रहे हैं।

Lōka kyā hai?
Jaina darśana kē anusāra, tīrthaṅkara bhagavāna jō sarvajña haiṁ, unakē dvārā dēkhē ga’ē ananta ākāśa dravya mēṁ sē 343 ghana- rajju (rāju) pramāṇa puruṣākāra ākāśa- bhāga jisamēṁ jīva, pudgala, dharma, adharma ēvaṁ kāla yē śēṣa pān̄ca dravya vyāpta haiṁ, lōka kahalātā hai, aura isē chōṛa kara śēṣa alōkākāśa hai|

Lōka kā ākāra kyā hai?
Ēka kē pīchē ēka, sāta puruṣa dōnōṁ paira phailākara, dōnōṁ hātha kamara para dōnōṁ tarapha rakha kara khaṛē hōnē para jaisā ākāra banatā hai vaha hī lōka kā ākāra hai.14 Rajju ūn̄cē, 7 rajju mōṭē isa lōka kē nīcē sē ūpara kramaśaḥ tīna bhāga haiṁ – adhōlōka (7 rajju ūn̄cā), madhyalōka + ūrdhvalōka (kula 7 rajju ūn̄cē) |

1. Adhōlōka: Sumēru parvata kī jaṛa sē lagī pahalī pr̥thvī kē tīna bhāga haiṁ.

I Khara bhāga: is mēṁ bhavanavāsī aura vyantara dēvōṁ kā vāsa hai,
ii. Paṅka bhāga: is mēṁ asurakumāra jāti kē bhavanavāsī tathā rākṣasa jāti kē vyantara dēva rahatē haiṁ,
iii. Abbahula bhāga: is mēṁ prathama narka hai.Isa kē nīcē nīcē dūsarī sē sātavīṁ taka chaha pr̥thviyām̐ aura haiṁ jina mēṁ nārakī jīva rahatē haiṁ, tathā sātavīṁ kē nīcē kā āyatana nigōdiyā jīvōṁ sē bharā hai, jise kalakalaa kahaate hain (yah prithvi nahin hai).

2. Madhyalōka: Isakī lambāi-cauṛāi ēka-ēka rajju aura ūm̐cāi mātra 1lākha 40 yōjana arthāt sumēru parvata kē barābara hai. Isa kē madhya mēṁ ēka lākha yōjana vyāsa vālā gōlākāra jambūdvīpa hai, jisa kē kēndra mēṁ sumēruparvata hai. Isa dvīpa kō cūṛī ākāra lavaṇa samudra ghērē hu’ē hai,va lavaṇa samudra kō cūṛī ākāra kā dhātakī dvīpa; isa krama sē kālōdadhi samudra, puṣkara dvīpa ādi ēka-dūsarē kō ghērē hu’ē dugunē-dugunē māpa kē asaṅkhyāta dvīpa va samudra madhyalōka mēṁ haiṁ.Āṭhavāṁ dvīpa nandīśvara dvīpa aura anta mēṁ svayambhuramaṇa dvīpa va svayambhuramaṇa samudra haiṁ.
5 bharata, 5 airāvata va 32 vidēha kṣētra, sumēru sahita pān̄ca mēru parvata, bhōgabhūmiyāṁ ādi jambū, dhātakī va ādhē puṣkara dvīpa mēṁ sthita haiṁ. Manuṣya gati kē samasta jīva mātra 45 lākha yōjana vistr̥ta ina ḍhā’ī dvīpōṁ mēṁ hī sthāna pātē haiṁ| tiryan̄ca gati kē jīva samūcē madhyalōka mēṁ pā’ē jātē haiṁ.

3. Ūrdhvalōka: Sumēru parvata sē upara 6 rajju ūm̐cā’ī paryanta sōlaha svargōṁ kē vimānōṁ mēṁ asaṅkhyāta kalpavāsī dēva-dēviyām̐ rahatī haiṁ. Sātavēṁ rajju kī ūm̐cāi mēṁ nau graivēyaka, unakē upara nau anudiśa aura unasē bhī upara pām̐ca anuttara vimānōṁ mēṁ kalpātīta dēvōṁ kē vimāna haiṁ.Sarvārthasid’dhi nāmā anuttara vimāna sē bāraha yōjana ūpara ēka rajju cauṛī,7 rajju lambī āṭha yōjana ūn̄cī īṣatprāgbhāra nāmaka āṭhavīṁ (aṣṭama) pr̥thvī kē bīcōṁ bīca manuṣya kṣētra kē sāmāna 45 lākha yōjana vyāsa vālī sid’dha śilā hai jisa kē ūpara anantānanta sid’dha bhagavāna padmāsana yā khaḍagāsana mudrā mēṁ tanuvāta-valaya sē śira lagā’ē nirākula, ananta jñātā-dr̥ṣṭā banē ananta sukha bhōga rahē haiṁ.