अभिषेक विधि निर्देश
(Anointment Procedure Guide)

 

जिन-प्रतिमा अभिषेक व पूजन की पात्र होती है
क्योंकि जिनेन्द्र प्रभु के दर्शन, अभिषेक, पूजन आदि से उन के गुणों का स्मरण हो जाता है।

जिनबिम्ब अभिषेक: यह पाँचों कल्याणक-सम्पन्न जिन-प्रतिमा की पुरुषों द्वारा प्रतिदिन की जाने वाली न्हवन की क्रिया है। इस में प्रतिमाजी के आपाद-मस्तक सभी अंगों का प्रासुक जल से न्हवन किया जाता है।

चरणाभिषेक: किन्हीं विशाल प्रतिमाओं के अभिषेक शीश की ऊंचाई तक मचान आदि के बिना संभव नहीं होते, उन के चरणों का न्हवन चरणाभिषेक कहलाता है|

मस्तकाभिषेक: ऊपरोक्त प्रतिमाओं का मस्तकाभिषेक पर्वादि विशेष अवसरों पर किया जाता है; तथा प्रतिमाजी, मंदिरजी व क्षेत्र के अनुरक्षण व विकास के भावों से प्रायः बारह वर्षों के अंतराल से महामस्तकाभिषेक महोत्सव के विशाल आयोजन होते हैं|

पंचामृत-अभिषेक: कहीं कहीं दूध, दही, घी, इक्षुरस आदि से प्रतिमा के न्हवन की परंपरा देखने में आती है| इस में प्रासुक जल-अभिषेक में निहित अहिंसा का भाव गौण हो जाता है |

प्रक्षालन: अचल प्रतिमाओं के पूर्ण अभिषेक में जल की मात्रा अधिक लगने व गंधोदक वेदी जी में फैलने से जीव-उत्पत्ति व हिंसा बचाने के भाव से, उनका केवल गीले छन्नों से प्रक्षालन होता है, तथा प्रतिमाओं की संख्या अधिक होने पर मात्र कुछ प्रतिमाओं का पूर्णाभिषेक व शेष का प्रक्षालन होता है|

शांतिधारा: यह अत्यंत अनूठा पवित्र मंत्राभिषेक है जो स्वयं व पर के पापों के प्रक्षालन कर आत्म-कल्याण व समस्त चराचर की शान्ति के भाव से जिन-प्रतिमाजी पर अखंड जल धारा करने की क्रिया है|

जन्माभिषेक: यह नित्य जिनाभिषेक से भिन्न क्रिया है जो तीर्थंकर के ‘जन्म कल्याणक’ अवसर पर इन्द्रादि द्वारा सम्पन्न की जाती है। जिस मूर्त्ति के पाँचों कल्याणक संस्कार सम्पन्न हो चुके हैं अर्थात् पूर्ण वीतरागी बन गई है, वही जिनेन्द्र-प्रतिमा कहलाती है| उस का पुनः जन्माभिषेक नहीं होता| जन्माभिषेक तो सराग अवस्था की क्रिया है। अत: जिनबिम्ब अभिषेक जन्माभिषेक नहीं है।

वेश-भूषा

जिनेन्द्र प्रभु की अभिषेक-पूजन समस्त आरम्भ-परिग्रहों का त्याग कर, सौधर्म-इंद्र के समान अत्यंत उत्तम भावों से की जाती है, अतः इन्द्र के समान केशरिया अथवा श्वेत, अहिंसात्मक (बिना सिले) धोती-दुपट्टे पहिन कर मुकुट, माला व तिलक-अलंकरणों आदि से सुशोभित होने पर सहज ही वैसे भाव बन जाते हैं| अभिषेक-कर्ता स्नान करके शुद्ध धोती-दुपट्टे पहिनें व सिर ढकें। पेंट, शर्ट, पाजामा आदि तथा दूसरों के उतरे हुए पूजा-वस्त्रों से अथवा अकेली धोती पहिने अभिषेक नहीं करना चाहिए।

अभिषेक-क्रिया-विधि

प्रतिमाजी के समक्ष अभिषेक के संकल्प-रूप अर्घ्य चढ़ा कर, कायोत्सर्ग कर, विनयपूर्वक एक हाथ प्रतिमाजी के नीचे और दूसरा हाथ उन की पीठ पर लगाकर उठावें, ढंके सिर पर प्रतिमाजी को रख, अभिषेक-स्थल की तीन प्रदक्षिणा दे, श्रीकार लिखे थाल पर स्थापित सिंहासन पर पूर्व-मुखी अथवा उत्तर-मुखी कर विराजित करें। यदि प्रतिमाजी का मुख पूर्व की ओर है तो प्रमुख अभिषेक-कर्ता को उत्तर की ओर मुख कर खड़े होना चाहिए, और यदि उत्तर की ओर मुख है तो अभिषेक-कर्ता का मुख पूर्व दिशा की ओर रहना चाहिए। सिंहासन-तल की ऊंचाई पूजक की नाभि से नीचे नहीं, अपितु ऊपर होना चाहिए।

जीवाणि किये गए शुद्ध पानी को प्रासुक करके (गर्म करके अथवा लौंग आदि डाल कर) ही अभिषेक करना चाहिए| प्रतिमाजी से स्पर्श होते ही यह पवित्र गंधोदक बन जाता है जिसे न्हवन-जल भी कहते हैं| अभिषेक उपरांत सावधानी से स्वच्छ सूखे छन्ने से प्रतिमाजी के समस्त अंगों से से समस्त जल कण पौंछें, व दूसरा अर्घ्य चढ़ा कर वेदी में मूल सिंहासन पर स्वस्तिक बना कर पुनः विराजमान करें और तीसरा अर्घ्य भी चढ़ावें| फिर छन्नों को खंगाल कर सूखने डाल दें| फिर विनय पूर्वक इस परम सौभाग्य प्रदायक गंधोदक की कुछ बूँदें बांयी हथेली पर ले, दांये हाथ की मध्यमा व अनामिका उँगलियों से ललाट पर व ऊपरी नेत्र-पटों पर धारण करें|

अन्य दर्शनार्थियों के लिए एक कटोरे में कुछ गंधोदक रख शुद्ध जल युक्त थाली में रखें व शेष अतिरिक्त गंधोदक उत्तम-पुष्पों के पौधों के गमलों में विसर्जित कर दें|

वर्जनाएं:

1. आँखों में, मुख में, अथवा अन्य अंगों में गंधोदक लगाना अविनय है और पापास्रव का कारण है|

2. अभिषेक-पूजन पूर्ण होने तक नाक, कान, मुँह में उँगली न डालें एवं नाभि से नीचे का भाग स्पर्श न करें। खून, पीव आदि निकलने पर, सर्दी- जुकाम, बुखार, चर्मरोग, सफेद दाग, दाद, खुजली एवं चोट-ग्रस्त होने पर अभिषेकादि न करें।

3. पूजन की पुस्तकों में पूजा के स्थापना-मंत्र, द्रव्याष्टक-मंत्र एवं पंच कल्याणकों के मंत्र संक्षेप में दिये होते हैं। कृपया उन मंत्रों को पूरा एवं शुद्ध पढ़ना चाहिए। ‘इत्याशीर्वाद’ के बाद पुष्पांजलि क्षेपण अवश्य करें, यह प्रभु के आशीर्वाद की महान क्रिया है ।

4. जहाँ नौ बार णमोकार मंत्र जपना है, वहाँ प्रत्येक णमोकार मंत्र तीन श्वास में पढ़ना चाहिए।

5. पूजन चाहे जितनी की जाएं, पर जल्दी-जल्दी नहीं गानी चाहिए। जो पूजन, विनती, पाठ, स्तोत्र आदि पढ़ें जावें उनके भावों को जीवन में उतारने पर मनुष्य पर्याय की सार्थकता है |

6. पूजन क्रिया समाप्त होने पर पूजन पुस्तकों के अन्दर फंसे चांवल आदि के कणों को अच्छी तरह झाड़ कर ही पुस्तकों को यथा स्थान सहेज कर रखना चाहिए|

Jina-pratimā abhiṣēka va pūjana kī pātra hōtī hai
Kyōṅki jinēndra prabhu kē darśana, abhiṣēka, pūjana ādi sē una kē guṇōṁ kā smaraṇa hō jātā hai.

Jinabimba abhiṣēka: Yaha pām̐cōṁ kalyāṇaka-sampanna jina-pratimā kī puruṣōṁ dvārā pratidina kī jānē vālī nhavana kī kriyā hai. Isa mēṁ pratimājī kē āpāda-mastaka sabhī aṅgōṁ kā prāsuka jala sē nhavana kiyā jātā hai.

Caraṇābhiṣēka: Kinhīṁ viśāla pratimā’ōṁ kē abhiṣēka śīśa kī ūn̄cā’ī taka macāna ādi kē binā sambhava nahīṁ hōtē, una kē caraṇōṁ kā nhavana caraṇābhiṣēka kahalātā hai.

Mastakābhiṣēka: Ūparōkta pratimā’ōṁ kā mastakābhiṣēka parvādi viśēṣa avasarōṁ para kiyā jātā hai; tathā pratimājī, mandirajī va kṣētra kē anurakṣaṇa va vikāsa kē bhāvōṁ sē prāyaḥ bāraha varṣōṁ kē antarāla sē Mahāmastakābhiṣēka Mahōtsava kē viśāla āyōjana hōtē haiṁ.

 Pan̄Cāmr̥Ta-Abhiṣēka: Kahīṁ kahīṁ dūdha, dahī, ghī, ikṣurasa ādi sē pratimā kē nhavana kī paramparā dēkhanē mēṁ ātī hai| isa mēṁ prāsuka jala-abhiṣēka mēṁ nihita ahinsā kā bhāva gauṇa hō jātā hai.

Śāntidhārā: Yaha atyanta anūṭhā pavitra mantrābhiṣēka hai jō svayaṁ va para kē pāpōṁ kē prakṣālana kara ātma-kalyāṇa va samasta carācara kī śānti kē bhāva sē jina-pratimājī para akhaṇḍa jala dhārā karanē kī kriyā hai.

Janmābhiṣēka: Yaha nitya jinābhiṣēka sē bhinna kriyā hai jō tīrthaṅkara kē ‘janma kalyāṇaka’ avasara para indrādi dvārā sampanna kī jātī hai. Jisa mūrtti kē pām̐cōṁ kalyāṇaka sanskāra sampanna hō cukē haiṁ arthāt pūrṇa vītarāgī bana ga’ī hai, vahī  jinēndra-pratimā kahalātī hai| usa kā punaḥ janmābhiṣēka nahīṁ hōtā| janmābhiṣēka tō sarāga avasthā kī kriyā hai. Ata: Jinabimba abhiṣēka janmābhiṣēka nahīṁ hai.

Vēśa-bhūṣā

Jinēndra prabhu kī abhiṣēka-pūjana samasta ārambha-parigrahōṁ kā tyāga kara, saudharma-indra kē samāna atyanta uttama bhāvōṁ sē kī jātī hai, ataḥ indra kē samāna kēśariyā athavā śvēta, ahinsātmaka (binā silē) dhōtī-dupaṭṭē pahina kara mukuṭa, mālā va tilaka-alaṅkaraṇōṁ ādi sē suśōbhita hōnē para sahaja hī vaisē bhāva bana jātē haiṁ| abhiṣēka-kartā snāna karakē śud’dha dhōtī-dupaṭṭē pahinēṁ va sira ḍhakēṁ. Pēṇṭa, śarṭa, pājāmā ādi tathā dūsarōṁ kē utarē hu’ē pūjā-vastrōṁ sē athavā akēlī dhōtī pahinē abhiṣēka nahīṁ karanā cāhi’ē.

Abhiṣēka-kriyā-vidhi

Pratimājī kē samakṣa abhiṣēka kē saṅkalpa-rūpa arghya caṛhā kara, kāyōtsarga kara, vinayapūrvaka ēka hātha pratimājī kē nīcē aura dūsarā hātha una kī pīṭha para lagākara uṭhāvēṁ, ḍhaṅkē sira para pratimājī kō rakha, abhiṣēka-sthala kī tīna pradakṣiṇā dē, śrīkāra likhē thāla para sthāpita sinhāsana para pūrva-mukhī athavā uttara-mukhī kara virājita karēṁ. Yadi pratimājī kā mukha pūrva kī ōra hai tō pramukha abhiṣēka-kartā kō uttara kī ōra mukha kara khaṛē hōnā cāhi’ē, aura yadi uttara kī ōra mukha hai tō abhiṣēka-kartā kā mukha pūrva diśā kī ōra rahanā cāhi’ē. Sinhāsana-tala kī ūn̄cā’ī pūjaka kī nābhi sē nīcē nahīṁ, apitu ūpara hōnā cāhi’ē.

Jīvāṇi kiyē ga’ē śud’dha pānī kō prāsuka karakē (garma karakē athavā lauṅga ādi ḍāla kara) hī abhiṣēka karanā cāhi’ē| pratimājī sē sparśa hōtē hī yaha pavitra gandhōdaka bana jātā hai jisē nhavana-jala bhī kahatē haiṁ| abhiṣēka uparānta sāvadhānī sē svaccha sūkhē channē sē pratimājī kē samasta aṅgōṁ sē sē samasta jala kaṇa paun̄chēṁ, va dūsarā arghya caṛhā kara vēdī mēṁ mūla sinhāsana para svastika banā kara punaḥ virājamāna karēṁ aura tīsarā arghya bhī caṛhāvēṁ| phira channōṁ kō khaṅgāla kara sūkhanē ḍāla dēṁ| phira vinaya pūrvaka isa parama saubhāgya pradāyaka gandhōdaka kī kucha būm̐dēṁ bānyī hathēlī para lē, dānyē hātha kī madhyamā va anāmikā um̐galiyōṁ sē lalāṭa para va ūparī nētra-paṭōṁ para dhāraṇa karēṁ.

An’ya darśanārthiyōṁ kē li’ē ēka kaṭōrē mēṁ kucha gandhōdaka rakha śud’dha jala yukta thālī mēṁ rakhēṁ va śēṣa atirikta gandhōdaka uttama-puṣpōṁ kē paudhōṁ kē gamalōṁ mēṁ visarjita kara dēṁ.

Varjanā’ēṁ

1. Ām̐khōṁ mēṁ, mukha mēṁ, athavā an’ya aṅgōṁ mēṁ gandhōdaka lagānā avinaya hai aura pāpāsrava kā kāraṇa hai.

2. Abhiṣēka-pūjana pūrṇa hōnē taka nāka, kāna, mum̐ha mēṁ um̐galī na ḍālēṁ ēvaṁ nābhi sē nīcē kā bhāga sparśa na karēṁ. Khūna, pīva ādi nikalanē para, sardī-jukāma, bukhāra, carmarōga, saphēda dāga, dāda, khujalī ēvaṁ cōṭa-grasta hōnē para abhiṣēkādi na karēṁ.

3. Pūjana kī pustakōṁ mēṁ pūjā kē sthāpanā-mantra, dravyāṣṭaka-mantra ēvaṁ pan̄ca kalyāṇakōṁ kē mantra saṅkṣēpa mēṁ diyē hōtē haiṁ. Kr̥payā una mantrōṁ kō pūrā ēvaṁ śud’dha paṛhanā cāhi’ē. ‘Ityāśīrvāda’ kē bāda puṣpān̄jali kṣēpaṇa avaśya karēṁ, yaha prabhu kē āśīrvāda kī mahāna kriyā hai.

4. Jahām̐ nau bāra ṇamōkāra mantra japanā hai, vahām̐ pratyēka ṇamōkāra mantra tīna śvāsa mēṁ paṛhanā cāhi’ē.

5. Pūjana cāhē jitanī kī jā’ēṁ, para jaldī-jaldī nahīṁ gānī cāhi’ē. Jō pūjana, vinatī, pāṭha, stōtra ādi paṛhēṁ jāvēṁ unakē bhāvōṁ kō jīvana mēṁ utāranē para manuṣya paryāya kī sārthakatā hai .

6. Pūjana kriyā samāpta hōnē para pūjana pustakōṁ kē andara phansē cānvala ādi kē kaṇōṁ kō acchī taraha jhāṛa kara hī pustakōṁ kō yathā sthāna sahēja kara rakhanā cāhi’ē.