स्वस्तिक: भावना एवं उद्धेश्य
(Swastik Making Objective & Intention)

Untitled-11

 

 

स्वास्तिक हमारी पूजा के उद्देश्य का सार्थक प्रतीक है।

निर्वाण होने पर भगवान का शरीर कपूर की तरह उड़ जाता है, केवल नख और केश शेष रह जाते हैं जिन्हें इंद्र संसारी जीवों की भावना के अनुरूप, मायावी शरीर से जोड़ कर दाह-संस्कार संपन्न करते है; और उस स्थली पर अपने वज्र से स्वास्तिक आकार का अमेट्य स्वस्ति-चिह्न बनाता है, ताकि पवित्रता की रक्षा भी हो सके और स्थल भी अनंतकाल के लिए प्रकट और पूज्य बना रहे. यही चिह्न ‘स्वास्तिक’ अर्थात मांगलिक है जो अब ‘स्वस्तिक’ भी बोला व लिखा जाने लगा है. भगवान का अंतिम सांसारिक प्रतीक होने से यही चिह्न हम हर उस स्थान पर बनाते हैं जहाँ जहाँ भगवान को विराजित देखने की भावना करते हैं, आह्वान-स्थापन करते हैं| पूजा की आसिका (लघु आसन) अर्थात् ठोना पर चन्दन-केशर से स्वास्तिक मांडने का विधान आचार्य जयसेन ने प्रतिष्ठा पाठ में उल्लेखित किया है। पूजन की थाली, कटोरा, जल, चन्दन आदि के पात्रों पर भी मंगल-प्रतीक स्वस्तिक मांडते हैं । यह हमारी अंतरंग भावनाओं का उत्कृष्ट प्रतीक है।

स्वास्तिक मांडने की विधि

सर्वप्रथम प्रासुक जल से हस्त प्रक्षालन कर, मंत्रित जल से स्वयं की एवं स्थल की शुद्धि करें। ठोने व द्रव्य चढ़ाने की थाली में दाहिने हाथ की अनामिका अंगुली से (ऊपर के चित्र के क्रम से ) स्वस्तिक की रेखाएं बनाते हुए भावना भावें कि हे भगवन्!

(क्र.1) इस त्रस नाली में निगोद से स्वर्गों तक परिभ्रमण करते हुए,
(क्र.2) अनादिकाल से चारों गतियों की 84 लाख योनियों में जन्म-मरण कर रहा हूँ |
(क्र.3) खोटे कर्म करके कभी अधोगति नरक में गया हूँ।
(क्र.4) हे प्रभु! शक्ति देना कि ऐसे कार्य नहीं करूँ जिससे नरक जाना पड़े |
(क्र.5) कभी छल-कपट करके तिर्यंच गति में गया,
(क्र.6) मैं तिर्यंच गति में न जाने के लक्ष्य से छल-कपट के त्याग का संकल्प करता हूँ ।
(क्र.7) कभी शुभ भावों से मरण कर देव गति को प्राप्त हुआ,
(क्र.8) मैं असंयमी देव भी नहीं होना चाहता |
(क्र.9) कभी शुभ संकल्प व्रतादि धारण कर मानव पर्याय पार्इ,
(क्र.10) मैं इसमें उत्कृष्ट संयम पालन करने की भावना करता हूँ |

यह परिभ्रमण मूलत: अज्ञान, मिथ्यात्व, मोह एवं विषय-कषाय के कारण से हो रहा है। इन्हें मिटाने के लिए मैं पूजा-संकल्प करता हूँ कि

(क्र.11) प्रथमानुयोग
(क्र.12) करणानुयोग
(क्र.13) चरणानुयोग एवं
(क्र.14) द्रव्यानुयोग का स्वाध्याय करके मैं सुख से शून्य चारों गतियों से छूटने के लिए
(क्र.15) सम्यक्दर्शन,
(क्र.16) सम्यक्ज्ञान एवं
(क्र.17) सम्यक्चारित्र को प्राप्त करूँगा तथा रत्नत्रय की पूर्णता करके
(क्र.18) सिद्ध शिला से ऊपर मानव पर्याय के परम लक्ष्य
(क्र.19) सिद्ध पद को प्राप्त करूँगा ।

Svāstika hamārī pūjā kē uddēśya kā sārthaka pratīka hai.

Nirvāṇa hōnē para bhagavāna kā śarīra kapūra kī taraha uṛa jātā hai, kēvala nakha aura kēśa śēṣa raha jātē haiṁ jinhēṁ indra sansārī jīvōṁ kī bhāvanā kē anurūpa, māyāvī śarīra sē jōṛa kara dāha-sanskāra sampanna karte hai; aura usa sthalī para apanē vajra sē svāstika ākāra kā amēṭya svasti-cihna banātā hai, tāki pavitratā kī rakṣā bhī hō sakē aura sthala bhī anantakāla kē li’ē prakaṭa aura pūjya banā rahē. Yahī cihna ‘svāstika’ arthāta māṅgalika hai jō aba ‘svastika’ bhī bōlā va likhā jānē lagā hai. Bhagavāna kā antima sānsārika pratīka hōnē sē yahī cihna hama hara usa sthāna para banātē haiṁ jahāṁ jahāṁ bhagavāna kō virājita dēkhanē kī bhāvanā karatē haiṁ, āhvāna-sthāpana karatē haiṁ. Pūjā kī āsikā (laghu āsana) arthāt ṭhōnā para candana-kēśara sē svāstika māṇḍanē kā vidhāna ācārya jayasēna nē pratiṣṭhā pāṭha mēṁ ullēkhita kiyā hai. Pūjana kī thālī, kaṭōrā, jala, candana ādi kē pātrōṁ para bhī maṅgala-pratīka svastika māṇḍatē haiṁ. Yaha hamārī antaraṅga bhāvanā’ōṁ kā utkr̥ṣṭa pratīka hai.

Svāstika māṇḍanē kī vidhi

Sarvaprathama prāsuka jala sē hasta prakṣālana kara, mantrita jala sē svayaṁ kī ēvaṁ sthala kī śud’dhi karēṁ. Ṭhōnē va dravya caṛhānē kī thālī mēṁ dāhinē hātha kī anāmikā aṅgulī sē (ūpara kē citra kē krama sē) svastika kī rēkhā’ēṁ banātē hu’ē bhāvanā bhāvēṁ ki hē bhagavan!

(Kra.1) Isa trasa nālī mēṁ nigōda sē svargōṁ taka paribhramaṇa karatē hu’ē,
(kra.2) Anādikāla sē cārōṁ gatiyōṁ kī 84 lākha yōniyōṁ mēṁ janma-maraṇa kara rahā hūm̐. |
(kra.3) Khōṭē karma karakē kabhī adhōgati naraka mēṁ gayā hūm̐.
(Kra.4) Hē prabhu! Śakti dēnā ki aisē kārya nahīṁ karūm̐ jisasē naraka jānā paṛē |
(kra.5) Kabhī chala-kapaṭa karakē tiryan̄ca gati mēṁ gayā,
(kra.6) Maiṁ tiryan̄ca gati mēṁ na jānē kē lakṣya sē chala-kapaṭa kē tyāga kā saṅkalpa karatā hūm̐.
(Kra.7) Kabhī śubha bhāvōṁ sē maraṇa kara dēva gati kō prāpta hu’ā,
(kra.8) Maiṁ asanyamī dēva bhī nahīṁ hōnā cāhatā |
(kra.9) Kabhī śubha saṅkalpa vratādi dhāraṇa kara mānava paryāya pāi,
(kra.10) Maiṁ isamēṁ utkr̥ṣṭa sanyama pālana karanē kī bhāvanā karatā hūm̐ |

Yaha paribhramaṇa mūlata: Ajñāna, mithyātva, mōha ēvaṁ viṣaya-kaṣāya kē kāraṇa sē hō rahā hai. Inhēṁ miṭānē kē li’ē maiṁ pūjā-saṅkalpa karatā hūm̐ ki

(kra.11) Prathamānuyōga
(kra.12) Karaṇānuyōga
(kra.13) Caraṇānuyōga ēvaṁ
(kra.14) Dravyānuyōga kā svādhyāya karakē maiṁ sukha sē śūn’ya cārōṁ gatiyōṁ sē chūṭanē kē li’ē
(kra.15) Samyakdarśana,
(kra.16) Samyakjñāna ēvaṁ
(kra.17) Samyakcāritra kō prāpta karūm̐gā tathā ratnatraya kī pūrṇatā karakē
(kra.18) Sid’dha śilā sē ūpara mānava paryāya kē parama lakṣya
(kra.19) Sid’dha pada kō prāpta karūm̐gā.