संक्षिप्त सूतक-अवधि-विचार Sankshipt Sutak – Avadhi – Vichar

संक्षिप्त सूतक-अवधि-विचार
Saṅkṣipta Sūtaka-Avadhi-Vicāra


सूतक में देव-शास्त्र-गुरु का पूजन-प्रक्षालादि तथा मंदिर जी की जाजम-वस्त्रादि को स्पर्श नहीं करना चाहिये। सूतक का समय पूर्ण हुए बाद पूजनादि, सत्पात्र-दानादि करना चाहिये |
Sūtaka mēṁ dēva-śāstra-guru kā pūjana-prakṣālādi tathā mandira jī kī jājama-vastrādi kō sparśa nahīṁ karanā cāhiyē. Sūtaka kā samaya pūrṇa hu’ē bāda pūjanādi,satpātra-dānādi karanā cāhiyē |


 
१ जन्म का सूतक दस दिन तक माना जाता है |
1 Janma kā sūtaka dasa dina taka mānā jātā hai |

 
२. यदि स्त्री का गर्भपात (पाँचवें-छठे महीने में) हो, तो जितने महीने के गर्भ का पात हो, उतने दिन का सूतक माना जाता है |
2. Yadi strī kā garbhapāta (pām̐cavēṁ-chaṭhē mahīnē mēṁ) hō, tō jitanē mahīnē kē garbha kā pāta hō, utanē dina kā sūtaka mānā jātā hai |

 
३. प्रसूता स्त्री को ४५ दिन का सूतक होता है, कहीं-कहीं चालीस दिन का भी माना जाता है | प्रसूति स्थान एक मास तक अशुद्ध है |
3. Prasūtā strī kō 45 dina kā sūtaka hōtā hai, kahīṁ-kahīṁ cālīsa dina kā bhī mānā
jātā hai| Prasūtisthāna ēka māsa taka aśud’dha hai |

 
४. रजस्वला स्त्री चौथे दिन पति के भोजनादि के लिये शुद्ध होती है, परन्तु देव-पूजन, पात्रदान के लिये पाँचवें दिन शुद्ध होती है | व्यभिचारिणी स्त्री के सदा ही सूतक रहता है |
4. Rajasvalā strī cauthē dina pati kē bhōjanādi kē liyē śud’dha hōtī hai, parantu
dēva-pūjana, pātradāna kē liyē pām̐cavēṁ dina śud’dha hōtī hai. Vyabhicāriṇī strī kē
sadā hī sūtaka rahatā hai |

 
५. मृत्यु का सूतक तीन पीढ़ी तक १२ दिन का माना जाता है। चौथी पीढ़ी में छह दिन का, पाँचवीं-छठी पीढ़ी तक चार दिन का, सातवीं पीढ़ी में तीन दिन, आठवीं पीढ़ी में एक दिन-रात, नवमी पीढ़ी में स्नान-मात्र में शुद्धता हो जाती है |
5. Mr̥tyu kā sūtaka tīna pīṛhī taka 12 dina kā mānā jātā hai. Cauthī pīṛhī mēṁ chaha
dina kā, pām̐cavīṁ-chaṭhī pīṛhī taka cāra dina kā, sātavīṁ pīṛhī mēṁ tīna dina,
āṭhavīṁ pīṛhī mēṁ ēka dina-rāta, navamī pīṛhī mēṁ snāna-mātra mēṁ śud’dhatā hō jātī hai |

 
६. जन्म तथा मृत्यु का सूतक गोत्र के मनुष्य का पाँच दिन का होता है | तीन दिन के बालक की मृत्यु का दस दिन (माता-पिता को), आठ वर्ष के बालक की मृत्यु पर दस दिन परिवार को माना जाता है | इसके आगे बारह दिन का सूतक माना जाता है |
6. Janma tathā mr̥tyu kā sūtaka gōtra kē manuṣya kā pām̐ca dina kā hōtā hai | Tīnadina kē bālaka kī mr̥tyu kā dasa dina (mātā-pitā kō), āṭha varṣa kē bālaka kī
mr̥tyu para dasa dina parivāra kō mānā jātā hai | Isakē āgē bāraha dina kā sūtaka
mānā jātā hai |

 
७. अपने कुल के किसी गृहत्यागी का संन्यासमरण या किसी कुटुंबी का संग्राम में मरण हो जाय, तो एक दिन का सूतक माना जाता है |
7. Apanē kula kē kisī gr̥hatyāgī kā sann’yāsamaraṇa yā kisī kuṭumbī kā saṅgrāma mēṁ maraṇa hō jāya, tō ēka dina kā sūtaka mānā jātā hai |

 
८. यदि अपने कुल का कोर्इ देशांतर में मरण करे और १० दिन के भीतर खबर सुने, तो शेष दिनों का ही सूतक मानना चाहिये | यदि १० दिन पूर्ण हो, गये हों तो स्नान-मात्र सूतक जानो |
8. Yadi apanē kula kā kōi dēśāntara mēṁ maraṇa karē aura 10 dina kē bhītara
khabara sunē, tō śēṣa dinōṁ kā hī sūtaka mānanā cāhiyē| Yadi 10 dina pūrṇa hō, gayē hōṁ tō snāna-mātra sūtaka jānō |

 
९.गौ, भैंस, घोड़ी आदि पशु अपने घर में जने, तो एक दिन का सूतक और घर के बाहर जने, तो सूतक नहीं होता |
9. Gau, bhainsa, ghōṛī ādi paśu apanē ghara mēṁ janē, tō ēka dina kā sūtaka aura ghara kē bāhara janē, tō sūtaka nahīṁ hōtā |

 
१०. बच्चा हुए बाद भैंस का दूध १५ दिन तक, गाय का दूध १० दिन तक, बकरी का ८ दिन तक अभक्ष्य (अशुद्ध) होता है |
10. Baccā hu’ē bāda bhainsa kā dūdha 15 dina taka, gāya kā dūdha 10 dina taka, bakarī kā 8 dina taka abhakṣya (aśud’dha) hōtā hai |

 
देश-भेद से सूतक-विधान में कुछ न्यूनाधिक भी होता है, परन्तु शास्त्र की पद्धति मिलाकर ही सूतक मानना चाहिए |
Dēśa-bhēda sē sūtaka-vidhāna mēṁ kucha n’yūnādhika bhī hōtā hai, parantu śāstra kī pad’dhati milākara hī sūtaka mānanā cāhi’ē |

 
* * * A * * *