सामायिक पाठ : नित देव! मेरी… Samayak Paath : Nit Dev! Meri…

सामायिक पाठ : नित देव! मेरी…
Sāmāyika Pāṭha: Nita Dēva! Mērī…


 
pdf Audio pdf PDF
 

 
श्री अमितगति-सूरि-विरचित ‘परमात्म-द्वात्रिंशतिका’ का पद्यानुवाद
Śrī amitagati-sūri-viracita ‘paramātma-dvātrinśatikā’ kā padyānuvāda
 

कविश्री रामचरित उपाध्याय
Kaviśrī Rāmacarita Upādhyāya

 
 

नित देव! मेरी आत्मा, धारण करे इस नेम को,
मैत्री करे सब प्राणियों से, गुणी-जनों से प्रेम हो |
उन पर दया करती रहे, जो दु:ख-ग्राह-ग्रहीत हैं,
सम-भाव उन सबसे रहे, जो वृत्ति में विपरीत हैं ||१||

Nita dēva! Mērī ātmā, dhāraṇa karē isa nēma kō,
Maitrī karē saba prāṇiyōṁ sē, guṇī-janōṁ sē prēma hō |
Una para dayā karatī rahē, jō du:Kha-grāha-grahīta haiṁ,
Sama-bhāva una sabasē rahē, jō vr̥tti mēṁ viparīta haiṁ ||1||
 
करके कृपा कुछ शक्ति ऐसी, दीजिए मुझमें प्रभो !
तलवार को ज्यों म्यान से, करते विलग हैं हे विभो !!
गतदोष आत्मा शक्तिशाली, है मिली मम-अंग से,
उसको विलग उस भाँति करने के लिये ऋजु-ढंग से ||२||
Karakē kr̥pā kucha śakti aisī, dīji’ē mujhamēṁ prabhō!
Talavāra kō jyōṁ myāna sē, karatē vilaga haiṁ hē vibhō!!
Gatadōṣa ātmā śaktiśālī, hai milī mama-aṅga sē,
Usakō vilaga usa bhām̐ti karanē kē liyē r̥ju-ḍhaṅga sē ||2||
 
हे नाथ! मेरे चित्त में, समता सदा भरपूर हो,
सम्पूर्ण ममता की कुमति, मेरे हृदय से दूर हो |
वन में भवन में दु:ख में, सुख में नहीं कुछ भेद हो,
अरि-मित्र में मिलने-बिछड़ने, में न हर्ष न खेद हो ||३||
Hē nātha! Mērē citta mēṁ, samatā sadā bharapūra hō,
Sampūrṇa mamatā kī kumati, mērē hr̥daya sē dūra hō |
Vana mēṁ bhavana mēṁ du:Kha mēṁ, sukha mēṁ nahīṁ kucha bhēda hō,
Ari-mitra mēṁ milanē-bichaṛanē, mēṁ na harṣa na khēda hō ||3||
 
अतिशय-घनी तम-राशि को, दीपक हटाते हैं यथा,
दोनों कमल-पद आपके, अज्ञान-तम हरते तथा |
प्रतिबिम्ब-सम स्थिररूप वे, मेरे हृदय में लीन हों,
मुनिनाथ! कीलित-तुल्य वे, उर पर सदा आसीन हों ||४||
Atiśaya-ghanī tama-rāśi kō, dīpaka haṭātē haiṁ yathā,
Dōnōṁ kamala-pada āpakē, ajñāna-tama haratē tathā |
Pratibimba-sama sthirarūpa vē, mērē hr̥daya mēṁ līna hōṁ,
Muninātha! Kīlita-tulya vē, ura para sadā āsīna hōṁ ||4||
 
यदि एक-इन्द्रिय आदि देही, घूमते-फिरते मही,
जिनदेव! मेरी भूल से, पीड़ित हुए होवें कहीं |
टुकड़े हुए हों मल गये हों, चोट खाये हों कभी,
तो नाथ! वे दुष्टाचरण, मेरे बने झूठे सभी ||५||
Yadi ēka-indriya ādi dēhī, ghūmatē-phiratē mahī,
Jinadēva! Mērī bhūla sē, pīṛita hu’ē hōvēṁ kahīṁ |
Ṭukaṛē hu’ē hōṁ mala gayē hōṁ, cōṭa khāyē hōṁ kabhī,
Tō nātha! Vē duṣṭācaraṇa, mērē banē jhūṭhē sabhī ||5||
 
सन्मुक्ति के सन्मार्ग से, प्रतिकूल-पथ मैंने लिया,
पंचेन्द्रियों चारों कषायों, में स्व-मन मैंने किया |
इस हेतु शुद्ध-चरित्र का, जो लोप मुझ से हो गया,
दुष्कर्म वह मिथ्यात्व को हो, प्राप्त प्रभु! करिए दया ||६||
Sanmukti kē sanmārga sē, pratikūla-patha main nē liyā,
Pan̄cēndriyōṁ cārōṁ kaṣāyōṁ, mēṁ sva-mana main nē kiyā |
Isa hētu śud’dha-caritra kā, jō lōpa mujha sē hō gayā,
Duṣkarma vaha mithyātva kō hō, prāpta prabhu! Kari’ē dayā ||6||
 
चारों कषायों से वचन-मन, काय से जो पाप है-
मुझसे हुआ, हे नाथ! वह, कारण हुआ भव-ताप है |
अब मारता हूँ मैं उसे, आलोचना-निन्दादि से,
ज्यों सकल-विष को वैद्यवर, है मारता मंत्रादि से ||७||
Cārōṁ kaṣāyōṁ sē vacana-mana, kāya sē jō pāpa hai-
Mujhasē hu’ā, hē nātha! Vaha, kāraṇa hu’ā bhava-tāpa hai |
Aba māratā hūm̐ maiṁ usē, ālōcanā-nindādi sē,
Jyōṁ sakala-viṣa kō vaidyavara, hai māratā mantrādi sē ||7||
 
जिनदेव! शुद्ध-चारित्र का, मुझसे अतिक्रम जो हुआ,
अज्ञान और प्रमाद से व्रत, का व्यतिक्रम जो हुआ |
अतिचार और अनाचरण, जो-जो हुए मुझसे प्रभो |
सबकी मलिनता मेटने को, प्रतिक्रमण करता विभो ||८||
Jinadēva! Śud’dha-cāritra kā, mujhasē atikrama jō hu’ā,
Ajñāna aura pramāda sē vrata, kā vyatikrama jō hu’ā |
Aticāra aura anācaraṇa, jō-jō hu’ē mujhasē prabhō |
Sabakī malinatā mēṭanē kō, pratikramaṇa karatā vibhō ||8||
 
मन की विमलता नष्ट होने, को ‘अतिक्रम’ है कहा,
औ’ शीलचर्या के विलंघन, को ‘व्यतिक्रम’ है कहा |
हे नाथ! विषयों में लिपटने, को कहा अतिचार है,
आसक्त अतिशय-विषय में, रहना महाऽनाचार है ||९||
Mana kī vimalatā naṣṭa hōnē, kō ‘atikrama’ hai kahā,
Au’ śīlacaryā kē vilaṅghana, kō ‘vyatikrama’ hai kahā |
Hē nātha! Viṣayōṁ mēṁ lipaṭanē, kō kahā aticāra hai,
Asakta atiśaya-viṣaya mēṁ, rahanā mahāanācāra hai ||9||
 
यदि अर्थ-मात्रा-वाक्य में, पद में पड़ी त्रुटि हो कहीं,
तो भूल से ही वह हुर्इ, मैंने उसे जाना नहीं |
जिनदेव वाणी! तो क्षमा, उसको तुरत कर दीजिये,
मेरे हृदय में देवि! केवलज्ञान को भर दीजिये ||१०||
Yadi artha-mātrā-vākya mēṁ, pada mēṁ paṛī truṭi hō kahīṁ,
Tō bhūla sē hī vaha hui, mainnē usē jānā nahīṁ |
Jinadēva vāṇī! Tō kṣamā, usakō turata kara dījiyē,
Mērē hr̥daya mēṁ dēvi! Kēvalajñāna kō bhara dījiyē ||10||
 
हे देवि! तेरी वंदना मैं, कर रहा हूँ इसलिये,
चिन्तामणि-सम है सभी, वरदान देने के लिए |
परिणाम-शुद्धि समाधि, मुझमें बोधि का संचार हो,
हो प्राप्ति स्वात्मा की तथा, शिवसौख्य की भव-पार हो ||११||
Hē dēvi! Tērī vandanā maiṁ, kara rahā hūm̐ isaliyē,
Cintāmaṇi-sama hai sabhī, varadāna dēnē kē li’ē |
Pariṇāma-śud’dhi samādhi, mujhamēṁ bōdhi kā san̄cāra hō,
Hō prāpti svātmā kī tathā, śivasaukhya kī bhava-pāra hō ||11||
 
मुनिनायकों के वृंद जिसको, स्मरण करते हैं सदा,
जिसका सभी नर-अमरपति भी, स्तवन करते हैं सदा |
सच्छास्त्र वेद-पुराण जिसको, सर्वदा हैं गा रहे,
वह देव का भी देव बस, मेरे हृदय में आ रहे ||१२||
Munināyakōṁ kē vr̥nda jisakō, smaraṇa karatē haiṁ sadā,
Jisakā sabhī nara-amarapati bhī, stavana karatē haiṁ sadā |
Sacchāstra vēda-purāṇa jisakō, sarvadā haiṁ gā rahē,
Vaha dēva kā bhī dēva basa, mērē hr̥daya mēṁ ā rahē ||12||
 
जो अंतरहित सुबोध-दर्शन, और सौख्य-स्वरूप है,
जो सब विकारों से रहित, जिससे अलग भवकूप है |
मिलता बिना न समाधि जो, परमात्म जिसका नाम है,
देवेश वर उर आ बसे, मेरा खुला हृद्धाम है ||१३||
Jō antarahita subōdha-darśana, aura saukhya-svarūpa hai,
Jō saba vikārōṁ sē rahita, jisasē alaga bhavakūpa hai |
Milatā binā na samādhi jō, paramātma jisakā nāma hai,
Dēvēśa vara ura ā basē, mērā khulā hr̥d’dhāma hai ||13||
 
जो काट देता है जगत् के, दु:ख-निर्मित जाल को,
जो देख लेता है जगत् की, भीतरी भी चाल को |
योगी जिसे हैं देख सकते, अंतरात्मा जो स्वयम्,
देवेश! वह मेरे हृदय-पुर, का निवासी हो स्वयम् ||१४||
Jō kāṭa dētā hai jagat kē, du:Kha-nirmita jāla kō,
jō dēkha lētā hai jagat kī, bhītarī bhī cāla kō |
Yōgī jisē haiṁ dēkha sakatē, antarātmā jō svayam,
Dēvēśa! Vaha mērē hr̥daya-pura, kā nivāsī hō svayam ||14||
 
कैवल्य के सन्मार्ग को, दिखला रहा है जो हमें,
जो जन्म के या मरण के, पड़ता न दु:ख-सन्दोह में |
अशरीर है त्रेलोक्यदर्शी, दूर है कुकलंक से,
देवेश वह आकर लगे, मेरे हृदय के अंक से ||१५||
Kaivalya kē sanmārga kō, dikhalā rahā hai jō hamēṁ,
Jō janma kē yā maraṇa kē, paṛatā na du:Kha-sandōha mēṁ |
Aśarīra hai trēlōkyadarśī, dūra hai kukalaṅka sē,
Dēvēśa vaha ākara lagē, mērē hr̥daya kē aṅka sē ||15||
 
अपना लिया है निखिल तनुधारी-निबह ने ही जिसे,
रागादि दोष-व्यूह भी, छू तक नहीं सकता जिसे |
जो ज्ञानमय है नित्य है, सर्वेन्द्रियों से हीन है,
जिनदेव देवेश्वर वही, मेरे हृदय में लीन है ||१६||
Apanā liyā hai nikhila tanudhārī-nibaha nē hī jisē,
Rāgādi dōṣa-vyūha bhī, chū taka nahīṁ sakatā jisē |
Jō jñānamaya hai nitya hai, sarvēndriyōṁ sē hīna hai,
Jinadēva dēvēśvara vahī, mērē hr̥daya mēṁ līna hai ||16||
 
संसार की सब वस्तुओं में, ज्ञान जिसका व्याप्त है,
जो कर्म-बन्धन-हीन बुद्ध, विशुद्ध-सिद्धि प्राप्त है |
जो ध्यान करने से मिटा, देता सकल-कुविकार को,
देवेश वह शोभित करे, मेरे हृदय-आगार को ||१७||
Sansāra kī saba vastu’ōṁ mēṁ, jñāna jisakā vyāpta hai,
Jō karma-bandhana-hīna bud’dha, viśud’dha-sid’dhi prāpta hai |
Jō dhyāna karanē sē miṭā, dētā sakala-kuvikāra kō,
Dēvēśa vaha śōbhita karē, mērē hr̥daya-āgāra kō ||17||
 
तम-संघ जैसे सूर्य-किरणों, को न छू सकता कहीं,
उस भाँति कर्म-कलंक दोषाकर जिसे छूता नहीं |
जो है निरंजन वस्त्वपेक्षा, नित्य भी है, एक है,
उस आप्त-प्रभु की शरण मैं, हूँ प्राप्त जो कि अनेक है ||१८||
Tama-saṅgha jaisē sūrya-kiraṇōṁ, kō na chū sakatā kahīṁ,
Usa bhām̐ti karma-kalaṅka dōṣākara jisē chūtā nahīṁ |
Jō hai niran̄jana vastvapēkṣā, nitya bhī hai, ēka hai,
Usa āpta-prabhu kī śaraṇa maiṁ, hūm̐ prāpta jō ki anēka hai ||18||
 
यह दिवस-नायक लोक का, जिसमें कभी रहता नहीं,
त्रैलोक्य-भाषक-ज्ञान-रवि, पर है वहाँ रहता सही |
जो देव स्वात्मा में सदा, स्थिर-रूपता को प्राप्त है,
मैं हूँ उसी की शरण में, जो देववर है आप्त है ||१९||
Yaha divasa-nāyaka lōka kā, jisamēṁ kabhī rahatā nahīṁ,
Trailōkya-bhāṣaka-jñāna-ravi, para hai vahām̐ rahatā sahī |
Jō dēva svātmā mēṁ sadā, sthira-rūpatā kō prāpta hai,
Maiṁ hūm̐ usī kī śaraṇa mēṁ, jō dēvavara hai āpta hai ||19||
 
अवलोकने पर ज्ञान में, जिसके सकल-संसार ही-
है स्पष्ट दिखता एक से, है दूसरा मिलकर नहीं |
जो शुद्ध शिव है शांत भी है, नित्यता को प्राप्त है,
उसकी शरण को प्राप्त हूँ, जो देववर है आप्त है ||२०||
Avalōkanē para jñāna mēṁ, jisakē sakala-sansāra hī-
Hai spaṣṭa dikhatā ēka sē, hai dūsarā milakara nahīṁ |
Jō śud’dha śiva hai śānta bhī hai, nityatā kō prāpta hai,
Usakī śaraṇa kō prāpta hūm̐, jō dēvavara hai āpta hai ||20||
 
वृक्षावलि जैसे अनल की, लपट से रहती नहीं,
त्यों शोक मन्मथ मान को, रहने दिया जिसने नहीं |
भय मोह नींद विषाद, चिन्ता भी न जिसको व्याप्त है,
उसकी शरण में हूँ गिरा, जो देववर है आप्त है ||२१||
Vr̥kṣāvali jaisē anala kī, lapaṭa sē rahatī nahīṁ,
Tyōṁ śōka manmatha māna kō, rahanē diyā jisanē nahīṁ |
Bhaya mōha nīnda viṣāda, cintā bhī na jisakō vyāpta hai,
Usakī śaraṇa mēṁ hūm̐ girā, jō dēvavara hai āpta hai ||21||
 
विधिवत् शुभासन घास का, या भूमि का बनता नहीं,
चौकी शिला को ही शुभासन, मानती बुधता नहीं |
जिससे कषायें-इन्द्रियाँ, खटपट मचाती हैं नहीं,
आसन सुधीजन के लिये, है आत्मा निर्मल वही ||२२||
Vidhivat śubhāsana ghāsa kā, yā bhūmi kā banatā nahīṁ,
Caukī śilā kō hī śubhāsana, mānatī budhatā nahīṁ |
Jisasē kaṣāyēṁ-indriyām̐, khaṭapaṭa macātī haiṁ nahīṁ,
Asana sudhījana kē liyē, hai ātmā nirmala vahī ||22||
 
हे भद्र! आसन लोक-पूजा, संघ की संगति तथा,
ये सब समाधी के न साधन, वास्तविक में है प्रथा |
सम्पूर्ण बाहर-वासना को, इसलिये तू छोड़ दे,
अध्यात्म में तू हर घड़ी, होकर निरत रति जोड़ दे ||२३||
Hē bhadra! Āsana lōka-pūjā, saṅgha kī saṅgati tathā,
Yē saba samādhī kē na sādhana, vāstavika mēṁ hai prathā |
Sampūrṇa bāhara-vāsanā kō, isaliyē tū chōṛa dē,
Adhyātma mēṁ tū hara ghaṛī, hōkara nirata rati jōṛa dē ||23||
 
जो बाहरी हैं वस्तुएँ, वे हैं नहीं मेरी कहीं,
उस भाँति हो सकता कहीं उनका कभी मैं भी नहीं |
यो समझ बाहयाडम्बरों को, छोड़ निश्चितरूप से,
हे भद्र! हो जा स्वस्थ तू, बच जाएगा भवकूप से ||२४||
Jō bāharī haiṁ vastu’ēm̐, vē haiṁ nahīṁ mērī kahīṁ,
Usa bhām̐ti hō sakatā kahīṁ unakā kabhī maiṁ bhī nahīṁ |
Yō samajha bāhayāḍambarōṁ kō, chōṛa niścitarūpa sē,
Hē bhadra! Hō jā svastha tū, baca jā’ēgā bhavakūpa sē ||24||
 
निज को निजात्मा-मध्य में, ही सम्यगवलोकन करे,
तू दर्शन-प्रज्ञानमय है, शुद्ध से भी है परे |
एकाग्र जिसका चित्त है, तू सत्य उसको मानना |
चाहे कहीं भी हो समाधि-प्राप्त उसको जानना ||२५||
Nija kō nijātmā-madhya mēṁ, hī samyagavalōkana karē,
Tū darśana-prajñānamaya hai, śud’dha sē bhī hai parē |
Ēkāgra jisakā citta hai, tū satya usakō mānanā |
Cāhē kahīṁ bhī hō samādhi-prāpta usakō jānanā ||25||
 
मेरी अकेली आत्मा, परिवर्तनों से हीन है,
अतिशय-विनिर्मल है सदा, सद्ज्ञान में ही लीन है |
जो अन्य सब हैं वस्तुएँ, वे ऊपरी ही हैं सभी,
निज-कर्म से उत्पन्न हैं, अविनाशिता क्यों हो कभी ||२६||
Mērī akēlī ātmā, parivartanōṁ sē hīna hai,
Atiśaya-vinirmala hai sadā, sadjñāna mēṁ hī līna hai |
Jō an’ya saba haiṁ vastu’ēm̐, vē ūparī hī haiṁ sabhī,
Nija-karma sē utpanna haiṁ, avināśitā kyōṁ hō kabhī ||26||
 
है एकता जब देह के भी, साथ में जिसकी नहीं,
पुत्रादिकों के साथ उसका, ऐक्य फिर क्यों हो कहीं |
जब अंग-भर से मनुज के, चमड़ा अलग हो जायगा,
तो रोंगटों का छिद्रगण, कैसे नहीं खो जायगा ||२७||
Hai ēkatā jaba dēha kē bhī, sātha mēṁ jisakī nahīṁ,
Putrādikōṁ kē sātha usakā, aikya phira kyōṁ hō kahīṁ |
Jaba aṅga-bhara sē manuja kē, camaṛā alaga hō jāyagā,
Tō rōṅgaṭōṁ kā chidragaṇa, kaisē nahīṁ khō jāyagā ||27||
 
संसाररूपी गहन में है, जीव बहु-दु:ख भोगता,
वह बाहरी सब वस्तुओं, के साथ कर संयोगता |
यदि मुक्ति की है चाह तो, फिर जीवगण! सुन लीजिये,
मन से वचन से काय से, उसको अलग कर दीजिये ||२८||
Sansārarūpī gahana mēṁ hai, jīva bahu-du:Kha bhōgatā,
Vaha bāharī saba vastu’ōṁ, kē sātha kara sanyōgatā |
Yadi mukti kī hai cāha tō, phira jīvagaṇa! Suna lījiyē,
Mana sē vacana sē kāya sē, usakō alaga kara dījiyē ||28||
 
देही! विकल्पित-जाल को, तू दूरकर दे शीघ्र ही,
संसार-वन में डोलने का, मुख्य-कारण है यही |
तू सर्वदा सबसे अलग, निज-आत्मा को देखना,
परमात्मा के तत्त्व में तू, लीन निज को लेखना ||२९||
Dēhī! Vikalpita-jāla kō, tū dūrakara dē śīghra hī,
Sansāra-vana mēṁ ḍōlanē kā, mukhya-kāraṇa hai yahī |
Tū sarvadā sabasē alaga, nija-ātmā kō dēkhanā,
Paramātmā kē tattva mēṁ tū, līna nija kō lēkhanā ||29||
 
पहले समय में आत्मा ने, कर्म हैं जैसे किए,
वैसे शुभाशुभ-फल यहाँ, पर इस समय उसने लिए |
यदि दूसरे के कर्म का, फल जीव को हो जाय तो,
हे जीवगण! फिर सफलता, निज-कर्म की ही जाय खो ||३०||
Pahalē samaya mēṁ ātmā nē, karma haiṁ jaisē ki’ē,
vaisē śubhāśubha-phala yahām̐, para isa samaya usanē li’ē |
Yadi dūsarē kē karma kā, phala jīva kō hō jāya tō,
Hē jīvagaṇa! Phira saphalatā, nija-karma kī hī jāya khō ||30||
 
अपने उपार्जित कर्म-फल, को जीव पाते हैं सभी,
उसके सिवा कोर्इ किसी को, कुछ नहीं देता कभी |
ऐसा समझना चाहिये, एकाग्र-मन होकर सदा,
‘दाता अवर है भोग का’, इस बुद्धि को खोकर सदा ||३१||
Apanē upārjita karma-phala, kō jīva pātē haiṁ sabhī,
Usakē sivā kōi kisī kō, kucha nahīṁ dētā kabhī |
Aisā samajhanā cāhiyē, ēkāgra-mana hōkara sadā,
‘Dātā avara hai bhōga kā’, isa bud’dhi kō khōkara sadā ||31||
 
सबसे अलग परमात्मा है, ‘अमितगति’ से वन्द्य है,
हे जीवगण! वह सर्वदा, सब भाँति ही अनवद्य है |
मन से उसी परमात्मा को, ध्यान में जो लाएगा,
वह श्रेष्ठ-लक्ष्मी के निकेतन, मुक्ति-पद को पाएगा ||३२||
Sabasē alaga paramātmā hai, ‘amitagati’ sē vandya hai,
Hē jīvagaṇa! Vaha sarvadā, saba bhām̐ti hī anavadya hai |
Mana sē usī paramātmā kō, dhyāna mēṁ jō lā’ēgā,
Vaha śrēṣṭha-lakṣmī kē nikētana, mukti-pada kō pā’ēgā ||32||
 

(दोहा)
(Dōhā)
पढ़कर इन द्वात्रिंश-पद्य को, लखता जो परमात्मवंद्य को |
वह अनन्यमन हो जाता है, मोक्ष-निकेतन को पाता है ||

Paṛhakara ina dvātrinśa-padya kō, lakhatā jō paramātmavandya kō |
Vaha anan’yamana hō jātā hai, mōkṣa-nikētana kō pātā hai ||

* * * A * * *