आरती:शब्दार्थ और संक्षिप्त व्याख्या Aarti:Shabdarth Aur Sankshipt Vyakhyaa

आरती : शब्दार्थ और संक्षिप्त व्याख्या
Āratī: Śabdārtha Aura Saṅkṣipta Vyākhyā


 
pdf Audio
 

आरती शब्द का अर्थ :निरंजन, मनोरथ, कामना, इच्छा, विनती |
Aratī shabd ka arth :Nīranjana, manōratha, kāmanā, icchā, vinatī |

इष्ट-मूर्ति के समक्ष, श्रद्धाभाव पूर्वक, दीपज्योति आदि का विधिवत चक्रायण-विधि से आवर्त लेना “आरती उतारना” कहलाता है | वह स्तोत्र जो आरती के समय पढ़ा गया अथवा पाठ किया गया है, “आरती” कहलाती है | किसी मूर्ति या विग्रह पर, प्रज्ज्वलित दीप को, किसी विधि विशेष से घुमाने का क्रम अपनाया जाता है |
इस विधान में चरणों की ओर चार बार, नाभि की दो बार, मुख-मण्डल की ओर एक बार तथा सर्वांग में सात बार दीपज्योति को घुमाया जाता है |

Iṣṭa-mūrti kē samakṣa, śrad’dhābhāva pūrvaka, dīpajyōti ādi kā vidhivata cakrāyaṇa-vidhi sē aavart lena “āratī utāranā” kahalātā hai | Vaha stōtra jō āratī kē samaya paṛhā gayā athavā pāṭha kiyā gaya hai, “āratī” kahalāti hai. Kisī mūrti yā vigraha para, prajjvalita dīpa kō, kisī vidhi viśēṣa sē ghumānē kā krama apanāyā jātā hai |
Isa vidhāna mēṁ caraṇōṁ kī ōra cāra bāra, nābhi kī dō bāra, mukha-maṇḍala kī ōra ēka bāra tathā sarvānga mēṁ sāta bāra dīpajyōti kō ghumāyā jātā hai |


ज्योति प्रज्ज्वलन में घृत-दीपक या कपूर का उपयोग किया जाता है | दीप-बातियों की संख्या एक से लेकर कर्इ सौ तक हो सकती है | देवार्चन के अतिरिक्त, गुरु-पूजन एवं विवाह आदि में भी आरती-विधान का उपक्रम रहता है |

Jyōti prajjvalana mēṁ ghr̥ta-dīpaka yā kapūra kā upayōga kiyā jātā hai | Dīpa-bātiyōṁ kī saṅkhyā ēka sē lēkara kai sau taka hō sakatī hai | Dēvārcana kē atirikta, guru-pūjana ēvaṁ vivāha ādi mēṁ bhī āratī-vidhāna kā upakrama rahatā hai |


आरती-पूजा-विधान, मानस-उपासना की एक विधि है जो आचार्यों द्वारा समर्थित रही है | यह आरती-भाव, स्वामी और सेवक दोनों के एक्य पर भी विशेष बल देता है | आरती छंद में रागमय शब्दों की योजना गायक को भाव-विभोर एवं विशेष आनंदित करती है, जिनवाणी में अंकित ‘इहि विधि मंगल आरति कीजे….’ प्रमुख पंच परमेष्ठी आरती पद हैं |

Āratī-pūjā-vidhāna, mānasa-upāsanā kī ēka vidhi hai jō ācāryōṁ dvārā samarthita rahī hai | Yaha āratī-bhāva, svāmī aura sēvaka dōnōṁ kē ēkya para bhī viṣēśa bala dētā hai | Āratī chanda mēṁ rāgamaya śabdōṁ kī yōjanā gāyaka kō bhāva-vibhōra ēvaṁ viṣēśa ānandita karatī hai, jinavāṇī mēṁ āṅkita ‘ihi vidhi maṅgala ārati kījē….’ Pramukha pan̄ca paramēṣṭhī āratī pada haiṁ |