भारतवर्ष के प्रमुख जैन तीर्थ-क्षेत्र Bharatvarsh Ke Pramukh Jain Tirth – kshetra

भारतवर्ष के प्रमुख जैन तीर्थ-क्षेत्र
Bhāratavarsh Kē Pramukha Jaina Tīrtha-Kṣētra


झारखंड प्रांत
Jhārakhaṇḍa Prānta

सम्मेद-शिखर सिद्धक्षेत्र – र्इस्टर्न रेलवे के पारसनाथ स्टेशन से १४ मील (२२ कि.मी.) तथा गिरीडीह स्टेशन से पहाड़ की तलहटी मधुवन १८ मील (३० कि.मी.) है। इस क्षेत्र से भूतकाल में अनंतों तथा वर्तमान अवसर्पिणी काल में २० तीर्थंकर एवं असंख्यात-मुनि मोक्ष गये हैं। पहाड़ की चढ़ार्इ-उतरार्इ तथा यात्रा १८ मील (३० कि.मी.) की है। पारसनाथ हिल और गिरिडीह से शिखरजी जाने के लिए बस मिलती है ।
Sam’mēda-śikhara Sid’dhakṣētra – Isṭarna rēlavē kē pārasanātha sṭēśana sē 14 mīla (22 KM) Tathā girīḍ’̔īha sṭēśana sē pahāṛa kī talahaṭī madhuvana 18 mīla (30 KM) Hai. Isa kṣētra sē bhūtakāla mēṁ anantōṁ tathā vartamāna avasarpiṇī kāla mēṁ 20 tīrthaṅkara ēvaṁ asaṅkhyāta-muni mōkṣa gayē haiṁ. Pahāṛa kī caṛhāi-utarāi tathā yātrā 18 mīla (30 KM) Kī hai. Pārasanātha hila aura giriḍ’̔īha sē śikharajī jānē kē li’ē basa milatī hai |

कोलुआ पहाड़- यह पहाड़ घने जंगल में है। गया से जाया जाता है। इसकी चढ़ार्इ 1 मील है। इस पहाड़ पर १०वें तीर्थंकर शीतलनाथ जी ने तप करके केवलज्ञान प्राप्त किया था ।
Kōlu’ā Pahāṛa– Yaha pahāṛa ghane jaṅgala mēṁ hai| Gayā sē jāyā jātā hai| Isakī caṛhāi 1 mīla hai| Isa pahāṛa para 10vēṁ tīrthaṅkara śītalanātha jī nē tapa karakē kēvalajñāna prāpta kiyā thā |


बिहार प्रांत
Bihāra Prānta

गुणावा – पटना जिले के नवादा स्टेशन से 2 कि.मी. है। यहाँ से गौतम-स्वामी मोक्ष गए हैं ।
Guṇāvā – Paṭanā jilē kē navādā sṭēśana sē 2 KM hai| Yahām̐ sē gautama-svāmī mōkṣa ga’ē haiṁ |

पावापुरी सिद्धक्षेत्र – बिहारशरीफ स्टेशन से 12 मील। नवादा से बस भी जाती है। यहाँ से 24वें तीर्थंकर श्री महावीर स्वामी कार्तिक कृष्णा अमावस्या (दीपावली) को मोक्ष गए हैं। यहाँ का जल-मंदिर दर्शनीय है। उसी में भगवान् के चरण-चिह्न स्थित हैं ।
Pāvāpurī Sid’dhakṣētra – Bihāraśarīpha sṭēśana sē 12 mīla| Navādā sē basa bhī jātī hai | Yahām̐ sē 24vēṁ tīrthankara shri mahāvīra svāmī kārtika kr̥ṣṇā amāvasyā kō mōkṣa ga’ē haiṁ. Yahām̐ kā jala-mandira darśanīya hai | Usī mēṁ bhagavān kē caraṇa-cihna sthita haiṁ |

राजगृही – राजगिरि कुंडलपुर से 15 कि.मी. और बिहारशरीफ से 37 कि.मी. है। यह राजा श्रेणिक की राजधानी थी। यहाँ विपुलाचल, सुवर्णगिरि, रत्नगिरि, उदयगिरि, वैभारगिरि- ये पाँच पहाड़ियाँ प्रसिद्ध हैं। इन पर 23 तीर्थंकरों के समवसरण आये थे तथा कर्इ मुनि मोक्ष भी गए हैं। केवल भगवान् वासुपूज्य का समवसरण नहीं आया था ।
Rājagr̥hīRājagiri kundalpur sē 15 KM aur bihāraśarīpha sē 37 KM hai. Yaha rājā śrēṇika kī rājadhānī thī. Yahām̐ vipulācala, suvarṇagiri, ratnagiri, udayagiri, vaibhāragiri- yē pām̐ca pahāṛiyām̐ prasid’dha haiṁ. Ina para 23 tīrthaṅkarōṁ kē samavasaraṇa āyē thē tathā kai muni mōkṣa bhī ga’ē haiṁ. Keval Bhagavān vāsupūjya kā samavasaraṇa nahīṁ āyā thā|

कुंडलपुर – राजगृही के पास नालंदा स्टेशन से 4कि.मी.। यह भगवान् महावीर का जन्म-स्थान माना जाता है ।
Kuṇḍalapura – Rājagr̥hī kē pāsa nālandā sṭēśana sē 4KM. Yaha bhagavān mahāvīra kā janma-sthāna mānā jātā hai |

चम्पापुर-मंदारगिरि सिद्धक्षेत्रभागलपुर स्टेशन के निकट वासुपूज्य स्वामी की पाँचों कल्याणकों की स्थलियाँ यहीं हैं ।
Campāpura-Mandāragiri Sid’dhakṣētra
Bhāgalapura sṭēśana kē nikaṭa vāsupūjya svāmī kī pām̐cōṁ kalyāṇakōṁ kī sthaliyām̐ yahīn haiṁ|

पटना – पटना सिटी में गुलजारबाग स्टेशन के पास एक छोटी-सी टेकरी पर चरण-पादुकाएँ स्थापित हैं जहाँ से सेठ-सुदर्शन ने मुक्ति-लाभ किया था ।
Paṭanā – Paṭanā siṭī mēṁ gulajārabāga sṭēśana kē pāsa ēka chōṭī-sī ṭēkarī para caraṇa-pādukā’ēm̐ sthāpita haiṁ jahām̐ sē sēṭha-sudarśana nē mukti-lābha kiyā thā |

उड़ीसा प्रांत
Uṛīsā Prānta

खंडगिरि – भुवनेश्वर स्टेशन से 8 कि.मी. दूर कुमारी पर्वत में खंडगिरि और उदयगिरि नाम की दो पहाड़ियाँ हैं जहाँ से कलिंग देश के राजा जसरथ के पुत्र व 500 मुनि मोक्ष गए हैं। यहाँ पर हाथीगुफा में र्इ.पू. दूसरी शताब्दी का शिलालेख है, जो णमोकार मंत्र से आरंभ होता है और भारतवर्ष के प्रथम सम्राट् जिनधर्मी राजा खारवेल के शासनकाल की प्रशस्ति को अमिट बनाये हुए है ।
Khaṇḍagiri – Bhuvanēśvara sṭēśana sē 8 KM dur Kumaari parvat men khaṇḍagiri aura udayagiri nāma kī dō pahāṛiyām̐ haiṁ jahāṁ sē kaliṅga dēśa kē rājā jasaratha kē putra v 500 muni mōkṣa ga’ē haiṁ | Yahām̐ para hāthīguphā mēṁ Dūsarī śatābdi AD kā śilālēkha hai, jō ṇamōkāra mantra sē ārambha hōtā hai aura bhāratavarṣa kē prathama samrāṭ jinadharmī rājā khāravēla kē śāsanakāla kī praśasti kō amiṭa banāyē hu’ē hai |

उत्तर प्रदेश
Uttara Pradēśa

वाराणसी – इस नगर में भदैनी-घाट सातवें तीर्थंकर भगवान् सुपार्श्वनाथ का जन्म-स्थान है। भेलुपुर में तेर्इसवें तीर्थंकर भगवान् पार्श्वनाथ की जन्मभूमि है। शहर में अन्य कर्इ मंदिर दर्शनीय हैं ।
Vārāṇasī – Isa nagara mēṁ bhadainī-ghāṭa sātavēṁ tīrthaṅkara bhagavān supārśvanātha kā janma-sthāna hai. Bhēlupura mēṁ tēisavēṁ tīrthaṅkara bhagavān pārśvanātha kī janmabhūmi hai | Śahara mēṁ an’ya kai mandira darśanīya hain |

सिंहपुरी-सारनाथ – बनारस से 10 कि.मी.। यहाँ श्रेयांसनाथ भगवान् के गर्भ, जन्म, तप- ये तीन कल्याणक हुए। यहाँ बौद्ध-मंदिर आदि अन्य स्थान भी देखने योग्य हैं ।
Sinhapurī-Sāranātha – Banārasa sē 10KM | Yahām̐ śrēyānsanātha bhagavān kē garbha, janma, tapa- yē tīna kalyāṇaka hu’ē | Yahām̐ baud’dha-mandira ādi an’ya sthāna bhī dēkhanē yōgya haiṁ |

चंद्रपुरी – बनारस से 20 कि.मी. व सारनाथ से 10 कि.मी. दूर गंगा किनारे यह चंद्रप्रभ भगवान् की जन्म-स्थली है|
Candrapurī – Banārasa sē 20 KM v sāranātha sē 10KM door gaṅgā kinārē yah candraprabha bhagavān ki janma-sthali hai|

प्रयागइलाहाबाद में त्रिवेणी-संगम के पास एक पुराना किला है। किले के भीतर एक बड़ का पेड़ है जो अक्षय-वट के नाम से प्रसिद्ध है। कहते हैं कि ऋषभदेव ने यहाँ तप किया था ।
Prayāga – Ilahabad Ilahabad men trivēṇī-saṅgama kē pāsa ēka purānā kilā hai. Kilē kē bhītara ēka baṛa kā pēṛa hai jo akṣaya-vaṭa ke naam se prasiddha hai. Kahatē haiṁ ki r̥ṣabhadēva nē yahām̐ tapa kiyā thā |

अयोध्या – भगवान आदिनाथ, अजितनाथ, अभिनंदननाथ, सुमतिनाथ व अनंतनाथ का गर्भ व जन्म-स्थान ।
Ayōdhyā – Bhagavaan bhagavān ādinātha, ajitanātha, abhinandananātha, sumatinātha, va anantanātha kā garbha va janma-sthāna |

रत्नपुरी – फैजाबाद जिले में सोहावल स्टेशन से 2 कि.मी.दूर इस स्थान पर धर्मनाथ-स्वामी के चार कल्याणक हुए हैं ।
Ratnapurī – Phaijābāda jilē mēṁ sōhāvala sṭēśana sē 2 KM door isa sthaan par Dharmanātha-svāmī kē cāra kalyāṇaka hu’ē haiṁ |

श्रावस्ती – बहराइच से 50 कि.मी. दूर यह भगवान् सम्भवनाथ की पवित्र जन्मभूमि है और यहीं 4 कल्याणक हुए हैं ।
Śrāvastī – Baharā’ica sē 50KM door yaha bhagavān sambhavanātha kī pavitra janmabhūmi hai aura yahīṁ 4 kalyāṇaka hu’ē haiṁ |

श्री प्रभाषगिरि– इलाहाबाद से 60 कि.मी. दूर कौशाम्बी जिले में पभौसा ग्राम के पास पद्मप्रभ स्वामी के चार कल्याणक हुए हैं । यहाँ पर्वत के शिखर पर भगवान् पद्मप्रभ के तप एवं ज्ञान-कल्याणक के चरण हैं। पर्वत स्थित मंदिरजी में मूलनायक भगवान् पद्मप्रभ तथा अन्य गुप्तकालीन प्रतिमायें विराजमान हैं। ठहरने के लिए क्षेत्र पर आधुनिक सुविधा उपलब्ध है।
Śrī Prabhāṣagiri– Ilāhābāda sē 60KM KM door Kauśāmbī distt men sttdipabhausā grāma kē pāsa padma- prabha svāmī kē cāra kalyāṇaka hu’ē haiṁ| yahaaYahaanYahaan Parvata kē śikhara para bhagavān padma prabha kē tapa ēvaṁ jñāna-kalyāṇaka kē caraṇa haiṁ| Parvata sthit mandirji men para mūlanāyaka bhagavān padmaprabha tathā an’ya guptakālīna pratimāyēṁ virājamāna haiṁ. Ṭhaharanē kē li’ē kṣētra para ādhunika suvidhā upalabdha hai.

कम्पिला कानपुर-कासगंज रेल मार्ग पर कायमगंज स्टेशन से 10 कि.मी. है। यहाँ विमलनाथ-स्वामी के चार कल्याणक हुए हैं ।
Kampilā – Kānapura-kāsagan̄ja rel mārg para Kāyamagan̄ja sṭēśana sē 10 KM hai. Yahām̐ vimalanātha-svāmī kē cāra kalyāṇaka hu’ē haiṁ |

अहिच्छत्र – बरेली-अलीगढ़ रेल मार्ग पर ‘आंवला’ गाँव से लगा हुआ यह क्षेत्र है। इस तीर्थ पर तपस्या करते हुए भगवान् पार्श्वनाथ के ऊपर कमठ के जीव ने घोर उपसर्ग किया था और उन्हें केवलज्ञान की प्राप्ति हुर्इ थी ।
Ahicchatra – Barēlī-alīgaṛha rel marg para ‘ānvalā’ gām̐va sē lagā hu’ā yaha kṣētra hai. Isa tīrtha para tapasyā karatē hu’ē bhagavān pārśvanātha kē ūpara kamaṭha kē jīva nē ghōra upasarga kiyā thā aura unhēṁ kēvalajñāna kī prāpti hui thī |

बड़ागाँव (त्रिलोकतीर्थ) – दिल्ली-शाहदरा से 30 कि.मी., दिल्ली-सहारनपुर हार्इवे से 7 कि.मी. तथा खेकड़ा रेलवे स्टेशन से 5 कि.मी. दूर है। क्षेत्र पर जाने के लिए सभी स्थानों से साधन उपलब्ध हैं। यहाँ पर भूगर्भ से श्री आदिनाथ, चन्द्रप्रभ, विमलनाथ, पार्श्वनाथ एवं महावीर स्वामी के बिम्ब अतिशय चमत्कारों के साथ प्राप्त हुए हैं। यहाँ पर महापंडित रावण ने अत्यल्प समय में पाँच सौ विद्याओं को सिद्धकर राजा ‘मय’ की सुपुत्री ‘मंदोदरी’ के साथ विवाह किया था। इसी पुनीत भूमि पर विश्व की अनुपम कृति ‘त्रिलोकतीर्थ’ विद्यमान है ।
Baṛāgām̐va (trilōkatīrtha) – Dillī-Sāhadarā sē 30 kms, dillī-sahāranapura hāivē sē 7 kms tathā khēkaṛā rēlavē sṭēśana sē 5 kms dūr hai. Kṣētra para jānē kē li’ē sabhī sthānōṁ sē sādhana upalabdha hain. Yahām̐ para bhūgarbha sē śrī ādinātha, candraprabha, vimalanātha, pārśvanātha ēvaṁ mahāvīra svāmī kē bimba atiśaya camatkārōṁ kē sātha prāpta hu’ē hain. Yahām̐ para mahāpaṇḍita rāvaṇa nē atyalpa samaya mēṁ pām̐ca sau vidyā’ōṁ kō sid’dhakara rājā ‘maya’ kī suputrī ‘mandōdarī’ kē sātha vivāha kiyā thā. Isī punīta bhūmi para viśva kī anupama kr̥ti ‘trilōkatīrtha’ vidyamāna hai |

हस्तिनापुर – मेरठ से 35 KMs । यहाँ शांतिनाथ, कुंथुनाथ और अरहनाथ तीर्थंकरों के गर्भ, जन्म, तप, ज्ञान-ये चार कल्याणक हुए हैं, तथा भगवान् मल्लिनाथ जी का समवसरण भी आया था ।
Hastināpura – Mēraṭha sē 35 kms. Yahām̐ śāntinātha, kunthunātha aura arahnātha tīrthaṅkarōṁ kē garbha, janma, tapa, jñāna- yē cāra kalyāṇaka hu’ē haiṁ, tathā bhagavān mallinātha jī kā samava-saraṇa bhī āyā thā |

चौरासी मथुरा रेल स्टेशन से 2 कि.मी. है। यहाँ से जम्बूस्वामी मोक्ष गए हैं।
Caurāsī – Mathurā rel steshan sē 2km hai. Yahām̐ sē jambūsvāmī mōkṣa ga’ē haiṁ |

शौरीपुर – शिकोहाबाद से 15 कि.मी. वटेश्वर ग्राम में है। यहाँ पर नेमिनाथ स्वामी के गर्भ और जन्म कल्याणक हुए हैं।
Śaurīpura – Sikōhābāda sē 15Kms vaṭēśvara grāma men hai. Yahām̐ para nēminātha svāmī kē garbha aura janma kalyāṇaka hu’ē haiṁ |

देवगढ़ – ललितपुर स्टेशन से 35 कि.मी. दूर है। भगवान् शांतिनाथ की १२ फीट उत्तुंग विशाल प्रतिमा, ८ मानस्तम्भ हैं तथा 41 कलापूर्ण सुन्दर प्राचीन मंदिर हैं |
Dēvagaḍha – Lalitapura sṭēśana sē 35 kms dūr hai. Bhagavān śāntinātha kī 12 phīṭa uttuṅga viśāla-pratimā, 8 mānastambha haiṁ tathā 41 kalāpūrṇa sundara prācīna-mandira haiṁ |

टोड़ी फतेहपुर – उत्तर प्रदेश में मऊरानीपुर से 28 कि.मी. दूर पंडवाहा के पास यह प्रसिद्ध अतिशयक्षेत्र है। यहाँ दो प्राचीन भव्य जिनमंदिर हैं ।
Ṭōṛī phatēhapura – Uttara pradēśa mēṁ ma’ūrānīpura sē 28 kMs Dūra paṇḍavāhā kē pāsa yaha prasid’dha atiśayakṣētra hai. Yahām̐ dō prācīna bhavya jinamandira hain |

मध्य-प्रदेश
Madhya-Pradēśa

सोनागिरि – ग्वालियर-झाँसी रेल मार्गपर ‘सोनागिरि’ स्टेशन से 3 कि.मी. दूर श्रमणाचल-पर्वत है। पहाड़ पर 77 दिगम्बर जैन मंदिर हैं। यहाँ से नंगकुमार, अनंगकुमार सहित साढ़े पाँच करोड़ मुनि मोक्ष गए हैं ।
Sōnāgiri – gvāliyara-jhām̐sī rel marg para ‘sōnāgiri’ sṭēśana sē 2 mīla dūra śramaṇācala-parvata hai. Pahāṛa para 77 digambara jaina-mandira haiṁ. Yahām̐ sē naṅgakumāra, anaṅgakumāra sahita sāṛhē pām̐ca karōṛa muni mōkṣa ga’ē haiṁ |

अहारजी – ललितपुर स्टेशन से पूर्व दिशा में टीकमगढ़ के रास्ते 83 कि.मी. दूर यह क्षेत्र स्थित है। यहाँ पर भगवान् शांतिनाथ की १८ फुट उत्तुंग अनुपम प्रतिमा तथा विशाल संग्रहालय है ।
Ahārajī – Lalitapura sṭēśana sē pūrva disha mēṁ, ṭīkamagaṛha ke raste 83 kms dūr yaha kṣētra sthita hai. Yahām̐ para bhagavān śāntinātha kī 18 phuṭa uttuṅga anupama pratimā tathā viśāla saṅgrahālaya hai |

पपौराजी – ललितपुर स्टेशन से पूर्व दिशा में 65 कि.मी., व टीकमगढ़ से 5 कि.मी. है। चारों ओर कोट बना है। यहाँ 108 मंदिर हैं। कार्तिक सुदी 14 को मेला भरता है ।
Papaurājī – lalitapura sṭēśana sē pūrva disha mēṁ 65 kms, va ṭīkamagaṛha sē 5km kmsskms hai. Cārōṁ ōra kōṭa banā hai. Yahām̐ 108 mandira haiṁ. Kārtika sudī 14 kō mēlā bharatā hai |

चन्देरी – गुना जिले में ललितपुर स्टेशन के पश्चिम में 36 कि.मी. दूर सड़क मार्ग पर है। यहाँ की चौबीसी भारतवर्ष में प्रसिद्ध है।
Candērī – gunā jilē mēṁ lalitapura sṭēśana kē paścima mēṁ 36kms kms dūra sadak marg par hai. Yahām̐ kī caubīsī bhāratavarṣa mēṁ prasid’dha hai |

पचरार्इ – चन्देरी के पश्चिम में 36 कि.मी. खनियाधाना तीर्थ से, 12 कि.मी. पर पचरार्इ गाँव है। यहाँ पर 28 जिन-मंदिर हैं ।
Pacarāi – candērī kē paścima mēṁ 36 kms khaniyādhānāṁ teerth sē 12 kms para pacarāi gām̐va hai. Yahām̐ para 28 jina-mandira haiṁ |

थूबौनजी – चन्देरी से 12 कि.मी., यहाँ २५ मंदिर है। भगवान् शांतिनाथ की २० फुट उत्तुंग-मूर्ति अपनी विशालता के लिए प्रसिद्ध है ।
Thūbaunajī – candērī sē āṭha mīla. Yahām̐ 25 mandira hai. Bhagavān śāntinātha kī 20 phuṭa uttuṅga-mūrti apanī viśālatā kē li’ē prasid’dha hai |

खजुराहो – छतरपुर से 11कि.मी. दूर है। 31 दिगम्बर जैन-मंदिर हैं| यहाँ के प्राचीन मंदिरों की निर्माण कला दर्शनीय है ।
Khajurāhō – Chatarapura sē 11 KM dūra hai. 31 Digambara jaina-mandira haiṁ yahām̐ kē prācīna mandirōṁ kī nirmāṇa kalā darśanīya hai |

द्रोणगिरि – छतरपुर जिले में सेंधपा गाँव के निकट, छतरपुर-सागर रोड पर बड़ा मलहरा से 10 कि. मी. दूर है। यहाँ से गुरु- दत्तादि मुनि मोक्ष गये हैं। पू. गणेश प्रसाद जी वर्णी ने इसे ‘लघु सम्मेद-शिखर’ नाम दिया है। पहाड़ी पर 32 जिनालय एवं गुफाएँ हैं ।
Drōṇagiri – Chatarapura jilē mēṁ sēndhapā gām̐va kē nikaṭa, chatarapura-sāgara rōḍa para baṛā malaharā sē 10 kM. Dūr hai. Yahām̐ sē gurudattādi muni mōkṣa gayē haiṁ. Pū. Gaṇēśa prasāda jī varṇī nē isē ‘laghu sam’mēda-śikhara’ nāma diyā hai. Pahāṛī para 32 jinālaya ēvaṁ guphā’ēm̐ haiṁ |

नैनागिरि – सागर रेलवे स्टेशन से दलपतपुर के रास्ते 60 कि.मी. दूर है । यहाँ से वरदत्तादि पाँच मुनि मोक्ष गए हैं ।
Naināgiri – sāgara rēlavē sṭēśana sē Dalapatapura ke raste 60 kM dūra Hai. Yahām̐ sē varadattādi pām̐ca muni mōkṣa ga’ē haiṁ |

कुंडलपुर – कटनी-बीना रेल मार्ग पर दमोह स्टेशन से 38 कि.मी. दूर है । बड़े बाबा के नाम से विख्यात आदिनाथ भगवान की मनोज्ञ मूर्ति के माहात्म्य की अनेकों किंवदन्तियाँ हैं। कुल 63 मन्दिर हैं।यहाँ से अन्तिम केवली श्रीधर स्वामी मोक्ष गये हैं ।
Kuṇḍalapura kaṭanī-bīnā rel marg para damōha sṭēśana sē 38 kms dūra Hai. Baṛē bābā kē nāma sē vikhyāta aadinath bhagavan ki manōjña mūrti kē māhātmya ki anēkon kinvadantiyām̐ haiṁ. Kula 63 mandira haiṁ.Yahām̐ sē antima kēvalī śrīdhara svāmī mōkṣa gayē haiṁ|

मुक्तागिरि – 52 मंदिरों का यह समूह बैतूल स्टेशन से 100 कि.मी. व महाराष्ट्र के एलिचपुर स्टेशन से 20 कि.मी. दूर पहाड़ी जंगल में है। यहाँ से साढे़ तीन करोड़ मुनि मोक्ष गए हैं ।
Muktāgiri – 52 Mandirōṁ kā yaha samūha baitūla sṭēśana sē 100 KMs va Mahārāṣṭra kē ēlicapura sṭēśana sē 20 KMs dūra pahāṛī jaṅgala mēṁ hai. Yahām̐ sē sāḍhē tīna karōṛa muni mōkṣa ga’ē haiṁ|

सिद्धोदय (रेवातट): इटारसी-खंडवा रेल मार्ग पर हरदा स्टेशन से 20 कि.मी. इंदौर रोड पर नर्मदा नदी के किनारे यह प्राचीन सिद्धक्षेत्र आचार्य श्री विद्यासागर जी की कृपा से पुनः प्रकाश में आया है।
Sid’dhōdaya (Rēvātaṭa) : iṭārasī-khaṇḍavā rel marg para hardā sṭēśana sē 20 KMs Indaur rōḍa para narmadā nadī kē kinārē yaha prachin sid’dhakṣētra ācārya śrī vidyāsāgara jī kī kr̥pā sē punah prakāśa mēṁ āyā hai |

मक्सी पार्श्वनाथ भोपाल-उज्जैन रेल मार्ग पर उज्जैन से 40 कि.मी. पर मक्सी स्टेशन है। यहाँ एक प्राचीन जैन-मंदिर है। उसमें भगवान् पार्श्वनाथ की बड़ी मनोज्ञ प्रतिमा है।
Maksī Pāśrvanātha – bhōpāla-ujjaina rel marg para ujjaina sē 40 KMs Para maksī sṭēśana hai. Yahām̐ para ēka prācīna jaina-mandira hai. Usamēṁ bhagavān pārśvanātha kī baṛī manōjña pratimā hai |

सिद्धवरकूट – इन्दौर-खंडवा रेल मार्ग पर ‘मौरटक्का’ स्टेशन से ओंकारेश्वर होते हुए अथवा सनावद से 10 कि.मी. पर है। यहाँ से दो चक्रवर्ती, दस कामदेव एवं साढ़े तीन करोड़ मुनि मोक्ष गए हैं।
Sid’dhavarakūṭa – Indaura-Khaṇḍvā rel marg para ‘mauraṭakkā’ sṭēśana sē ōṅkārēśvara hōtē hu’ē athavā sanāvada sē 10 KMs para hai. Yahām̐ sē dō cakravartī, das kāmadēva ēvaṁ sāṛhē tīna karōṛa muni mōkṣa ga’ē haiṁ |

बड़वानी – इन्दौर से 110 कि.मी. दूर बड़वानी नगर से 7 कि.मी. पहाड़ पर यह क्षेत्र है। यहाँ के चूलगिरि-पर्वत से इन्द्रजीत और कुम्भकर्ण मुनि मोक्ष गए। यहाँ भगवान् आदिनाथ की 72 फुट ऊँची मनोज्ञ-प्रतिमा है |
Baṛavānī – Indaur sē 110 KMs Dūra baṛavānī nagara sē 7KMs pahāṛa para yaha kṣētra hai. Yahām̐ kē cūlagiri-parvata sē indrajīta aura kumbhakarṇa muni mōkṣa ga’ē. Yahām̐ bhagavān ādinātha kī 72 phuṭa ūm̐cī manōjña-pratimā hai |


राजस्थान
Rājasthāna

श्री महावीर जी कोटा-मथुरा रेल मार्ग पर श्रीमहावीर जी स्टेशन है, यहाँ से 6 कि.मी. पर यह तीर्थ क्षेत्र है। भगवान् महावीर की अति मनोज्ञ-प्रतिमा पास के ही एक टीले के अन्दर से निकली थी।
Srī Mahāvīra Jī – Kōṭā-mathurā rel marg para śrīmahāvīra jī sṭēśana hai, yahām̐ sē 6 KMs para kṣētra hai. Bhagavān mahāvīra kī atimanōjña-pratimā pāsa kē hī ēka ṭīlē kē andara sē nikalī thī |

चाँदखेड़ी – कोटा के निकट ‘खानपुर’ नाम का एक प्राचीन कस्बा है। जिस में ‘चाँदखेड़ी’ नाम की पुरानी बस्ती में एक अति-विशाल जैन-मंदिर है एवं अनेक विशाल जैन-प्रतिमाएँ हैं । इस के भूगर्भ में भगवान आदिनाथ की विशाल अतिशयी प्रतिमा है|
Cām̐dakhēṛī – Kōṭā kē nikaṭa ‘khānapura’ nāma kā ēka prācīna kasba hai. jismen ‘cām̐dakhēṛī’ nāma kī purānī bastī mēṁ ēka ati-viśāla jaina-mandira hai ēvaṁ anēka viśāla jaina-pratimā’ēm̐ haiṁ |
is ke bhūgarbha mēṁ bhagavan aadinath ki vishal atishaykaari pratima hai.

पद्मपुरी –जयपुर -सवाई माधोपुर रेल मार्ग पर शिवदासपुरा स्टेशन से 2 कि.मी.पर स्थित मंदिरजी में भगवान् पद्मप्रभ की अतिशय-पूर्ण भव्य और मनोज्ञ-प्रतिमा के अतिशय के कारण इस क्षेत्र का ‘पद्मपुरी’ नाम पड़ा है ।
Padmapurī – jaipur- sawai madhopur rel marg पर śivadāsapura sṭēśana से 2KMs.par sthit Bhagavān padmaprabha kī atiśaya-pūrṇa bhavya aura manōjña-pratimā kē atiśaya kē kāraṇa isa kṣētra kā ‘padmapurī’ nāma paṛā hai |

केशरियानाथ – उदयपुर स्टेशन से 60कि.मी. पर इस नगर में ऋषभदेव स्वामी का विशाल-मंदिर है ।
Kēśariyānātha – udayapura sṭēśana sē 60 KMs para isa nagara men r̥ṣabhadēva svāmī kā viśāla-mandira hai |

गुजरात
Gujarāta

तारंगा – मेहसाना से 57 कि.मी. व स्टेशन तारंगा-हिल से 5 कि.मी. दूर पहाड़ पर स्थित इस क्षेत्र से वरदत्तादि साढ़े तीन करोड़ मुनि मोक्ष गए हैं ।
Tāraṅgā – Mēhasānā sē 57 KMs Va sṭēśana tāraṅgā-hila sē 5 KMs dūra pahāṛa para sthita Isa kṣētra sē varadattādi sāṛhē tīna karōṛa muni mōkṣa ga’ē haiṁ |

गिरनार – काठियावाड़ में जूनागढ़ स्टेशन से 8 कि.मी. दूर गिरनार पर्वत की तलहटी है। पहाड़ पर 7000 सीढ़ियों की चढ़ाई के उपरांत पांचवीं टोंक पर नेमिनाथ स्वामी की निर्वाण-स्थली है. इस पर्वत से बहत्तर करोड़ सात सौ मुनि मोक्ष गए हैं ।
Giranāra – kāṭhiyāvāṛa mēṁ jūnāgaṛha sṭēśana sē 8 KMs dūr giranāra parvata kī talahaṭī hai. Pahāṛa para 7000 sīṛhiyōṁ ki caṛhāi ke uparaant pancavin tonk nēminātha svāmī ki nirvan-sthali hai. isa sē parvat se 72 karōṛa sāta sau muni mōkṣa ga’ē haiṁ |

शत्रुंजयगिरि – पालीताना स्टेशन से 3 कि.मी. पर इस पर्वत से युधिष्ठिर, भीम, अर्जुन तथा 8 करोड़ मुनि मोक्ष गए हैं।
Śatrun̄jayagiri – pālītānā sṭēśana sē 3 kms para isa parvata sē yudhiṣṭhira, bhīma, arjuna tathā 8 karōṛa muni mōkṣa ga’ē haiṁ |

पावागढ़ – बड़ौदा से 43 कि.मी. दूरी पर यह क्षेत्र है। यहाँ से लव, कुश आदि पाँच करोड़ मुनि मोक्ष गए हैं।
Pāvāgaṛha baṛaudā sē 43 KMs dūrī para yaha kṣētra hai. Yahām̐ sē lava, kuśa ādi pām̐ca karōṛa muni mōkṣa ga’ē haiṁ |

महाराष्ट्र
Mahārāṣṭra

अंतरिक्ष पार्श्वनाथ – नागपुर –भुसावल रेल-मार्ग पर अकोला स्टेशन से 60 कि.मी. दूर ‘शिरपुर’ नामक गाँव है। गाँव के मध्य धर्मशालाओं के बीच में एक बहुत बड़ा प्राचीन विशाल दुमंजिला जैन-मंदिर है। नीचे की मंजिल में एक श्यामवर्ण 2.6 फुट ऊँची पार्श्वनाथ जी की प्राचीन प्रतिमा है, जो वेदी के ऊपर अधर में विराजमान है।
Antarikṣa Pāśrvanātha Nagpur-bhusaval rel marg para akōlā (barāra) sṭēśana sē 60 KMs dūr ‘śirapura’ nāmaka gām̐va hai. Gām̐va kē madhya dharmaśālā’ōṁ kē bīca mēṁ ēka bahuta baṛā prācīna viśāla duman̄jilā jaina-mandira hai. Nīcē kī man̄jila mēṁ ēka śyāmavarṇa 2.6 Phuṭa ūm̐cī pārśvanātha jī kī prācīna pratimā hai, Jō vēdī kē ūpara adhara mēṁ virājamāna hai.

रामटेक यह स्थान नागपुर से 40 कि.मी. दूर है। यहाँ दिगम्बर जैनों के दस मंदिर हैं, जिनमें से एक प्राचीन मंदिर में सोलहवें तीर्थंकर श्री शांतिनाथ भगवान् की 15 फीट ऊँची मनोज्ञ-प्रतिमा है।
Rāmaṭēka – Yaha sthāna nāgapura sē 40KMs dūr hai. Yahām̐ digambara jainōṁ kē dasa mandira haiṁ, jinamēṁ sē ēka prācīna mandira mēṁ sōlahavēṁ tītharkara śrī śāntinātha bhagavān kī 15 phīṭa ūm̐cī manōjña-pratimā hai |

मांगीतुंगी – मनमाड़ स्टेशन से 11 कि.मी. दूर घने जंगल में पहाड़ पर यह क्षेत्र है । यहाँ से रामचंद्र, सुग्रीव, गवय,गवाक्ष, नील आदि 99 करोड़ मुनि मोक्ष गए हैं ।
Māṅgītuṅgī – Manamāṛa sṭēśana sē 11KMs dūr ghanē jaṅgala mēṁ pahāṛa para yaha kṣētra hai. Yahām̐ sē rāmacandra, sugrīva, gavaya,gavākṣa, nīla ādi 99 karōṛa muni mōkṣa ga’ē haiṁ |

गजपंथा –नासिक रोड स्टेशन से 14 कि.मी. दूर म्हसरूल ग्राम के पास इस पर्वत से बलभद्र आदि आठ करोड़ मुनि मोक्ष गए हैं |
Gajapanthā – Nāsikarōḍa sṭēśana sē 14KMs dūr mhasarūla grāma kē pāsa isa parvat sē balabhadra ādi āṭha karōṛa muni mōkṣa ga’ē haiṁ |

कुंथलगिरि – वार्सी टाउन रेलवे स्टेशन से 33 कि.मी. दूर पर स्थित है। यहाँ 18 मंदिर हैं। यहाँ से देशभूषण, कुलभूषण मुनि मोक्ष गये हैं |
Kunthalagiri – Vārsī ṭā’una rēlavē sṭēśana sē 33KMs dūra para sthita hai. Yahām̐ 18 mandira haiṁ. Yahām̐ sē dēśabhūṣaṇa, kulabhūṣaṇa muni mōkṣa gayē haiṁ |

कर्णाटक
Karṇāṭaka

मूडबिद्री – कार्कल से 16 कि.मी. पर यह एक अच्छा कस्बा है। यहाँ 18 मंदिर हैं। यहाँ के मंदिरों में दुर्लभ रत्नों की मूर्तियाँ हैं |
Mūḍabidrī – Kārkala sē 16 KMs para Yaha ēka acchā kasbā hai. Yahām̐ 18 mandira haiṁ. Yahām̐ kē mandirōṁ mēṁ durlabha ratnon kī mūrtiyām̐ haiṁ |

श्रवणबेलगोला – मैसूर से 85 कि.मी. दूर हासन जिले के अन्तर्गत यह क्षेत्र सड़क-मार्ग से अच्छी तरह जुडा हुआ है. श्रवणबेलगोला में चंद्रगिरि और विन्य्sगिरि नाम की दो पहाड़ियाँ पास-पास हैं। विन्ध्यगिरी पर 57 फीट ऊँची बाहुबली की प्रतिमा विराजमान है। 12 वर्षों के अंतराल से महामस्तकाभिषेक होता है । चंद्रगिरि पर मुनि चन्द्रगुप्त मौर्य कि समाधि आदि हैं.
Śravaṇabēlagōlā maisur se 85 kms dūr Hāsana jilē kē antargata yaha kṣētra sadak marg se achchhi tarah juda hua hai | Śravaṇabēlagōlā mēṁ candragiri aura vin’yēgiri nāma kī dō pahāṛiyām̐ pāsa-pāsa haiṁ | Vindhyagirī para 57 phīṭa ūm̐cī bāhubalī kī pratimā virājamāna hai | 12 Varṣom ke antaraal se mahāmastakābhiṣēka hōtā hai | chandragiripara muni chandragupta maurya ki samaadhi aadi hain.

कारकल – मूडबिद्री से 16कि.मी.दूर। यहाँ भगवान् बाहुबली की विशाल प्रतिमा पहाड़ी पर स्थित है।
Kārakala – Mūḍabidrī sē 16 KMs dūr. Yahām̐ bhagavān bāhubalī kī viśāla pratimā pahāṛī para sthita hai |

वेणूर मूडबिद्री से 28 कि.मी. पर। यहाँ पर भी भगवान् बाहुबली की विशाल प्रतिमा नदी के किनारे मंदिर में स्थित है।
Vēṇūra – Mūḍabidrī sē 28 KMs para. Yahām̐ para bhī bhagavān bāhubalī kī viśāla pratimā nadī kē kinārē mandira mēṁ sthita hai |

धर्मस्थल – यह स्थान शैवों का प्रसिद्ध तीर्थ है। यहाँ के धर्माधिकारी श्री हैगड़े जी दिगम्बर जैन धर्मानुयायी हैं। इन्होंने यहाँ के पर्वत पर भगवान् बाहुबली की विशाल प्रतिमा प्रतिष्ठित करायी है। व यहाँ दो प्राचीन दिगम्बर जैन मंदिर दर्शनीय हैं ।
Dharmasthala – Yaha sthāna śaivōṁ kā prasid’dha tīrtha hai. Yahām̐ kē dharmādhikārī śrī haigaṛē jī digambara jaina dharmānuyāyī haiṁ. Inhōnnē yahām̐ kē parvata para bhagavān bāhubalī kī viśāla pratimā pratiṣṭhita karāyī hai. va Yahām̐ dō prācīna digambara jaina mandira darśanīya haiṁ |

* * * A* * *