भक्ष्य-अभक्ष्य Bhakshya – Abhakshya

भक्ष्य-अभक्ष्य
Bhakṣya-Abhakṣya

जो पदार्थ भक्षण करने, खाने योग्य नहीं होते, ‘अभक्ष्य’ कहलाते हैं। अभक्ष्य पदार्थ पाँच प्रकार के बताये गए हैं – त्रसहिंसाकारक, बहुस्थावर-हिंसाकारक, प्रमादकारक, अनिष्ट और अनुपसेव्य |
Jō padārtha bhakṣaṇa karanē, khānē yōgya nahīṁ hote, ‘abhakṣya’ kahalātē haiṁ. abhakṣya padārtha pām̐ca prakār ke batāye gaye haiṁ – trasahinsākāraka, bahusthāvara-hinsākāraka, pramādakāraka, aniṣṭa aura anupasēvya |

 
(1) जिस पदार्थ को खाने में त्रस जीवों का घात होता है, उसे ‘त्रसहिंसाकारक अभक्ष्य’ कहते हैं। जैसे-पंच उदंबर फल, घुना-अन्न, अमर्यादित वस्तु, जिनमें बरसात में फफूंदी लग जाती है – ऐसी कोर्इ भी खाने की चीजें, चौबीस घंटे के बाद का मुरब्बा, अचार, बड़ी, पापड़ और द्विदल आदि के खाने से त्रस-जीवों का घात होता है। दही में दो दाल वाले मूँग, उड़द, चना आदि अन्न की बनी चीज मिलाने से ‘द्विदल-दोष’ बनता है |
(1) Jisa padārtha ko khānē mē trasa jīvōṁ kā ghāta hōtā hai, usē ‘trasahinsākāraka abhakṣya’ kahatē haiṁ. Jaisē-pan̄ca udambara phala, ghunā-anna, amaryādita vastu, jinamēṁ barasāta mēṁ phaphūndī laga jātī hai – aisī kōi bhī khānē kī cījēṁ, caubīsa ghaṇṭē kē bāda kā murabbā, acāra, baṛī, pāpaṛa aura dvidala ādi kē khānē sē trasa-jīvōṁ kā ghāta hōtā hai. Dahī mēṁ dō dāla vālē mūm̐ga, uṛada, canā ādi anna kī banī cīja milānē sē ‘dvidala’ banatā hai |

 
(2) जिस पदार्थ को खाने से अनंत स्थावर-जीवों का घात होता है, उसे ‘बहुस्थावर हिंसाकारक अभक्ष्य’ कहते हैं। जैसे- प्याज, लहसुन, आलू, मूली आदि कंदमूल तथा तुच्छ-फल खाने से अनंतों स्थावर जीवों का घात हो जाता है। जिससे हिंसा-पाप का बंध होता है तथा नानाप्रकार के रोग-व्याधि उत्पन्न होते हैं | एक निगोदिया शरीर में अनंतानंत सिद्धों से भी अनंत-गुणे जीव रहते हैं और एक आलू आदि में अनंत-निगोदिया-शरीर हैं | इसलिए इन कंदमूल आदि का त्याग कर देना चाहिए |
(2) Jisa padārtha ko khānē sē ananta sthāvara-jīvōṁ kā ghāta hōtā hai, usē ‘bahusthāvara hinsā- kāraka abhakṣya’ kahatē haiṁ. Jaisē- pyāja, lahasuna, ālū, mūlī ādi kandamūla tathā tuccha-phala khānē sē anantōṁ sthāvara jīvōṁ kā ghāta hō jātā hai. Jisasē hinsā-pāpa kā bandha hōtā hai tathā nānāprakāra kē rōga-vyādhi utpanna hōtē haiṁ | Ēka nigōdiyā śarīra mēṁ anantānanta sid’dhōṁ sē bhī ananta-guṇē jīva rahatē haiṁ aura ēka ālū ādi mēṁ ananta-nigōdiyā-śarīra haiṁ. Isali’ē ina kandamūla ādi kā tyāga kara dēnā cāhi’ē |

 
(3) जिसको खाने से प्रमाद या नशा-विकार बढ़ता है, वह ‘प्रमादकारक अभक्ष्य’ है। जैसे- शराब, भांग, तम्बाकू, गांजा और अफीम आदि नशीली चीजें। ये स्वास्थ्य के लिए भी हानिकारक हैं |
(3) Jisako khānē sē pramāda yā naśā-vikāra baṛhatā hai, vah ‘pramādakāraka abhakṣya’ hai. Jaisē- śarāba, bhāṅga, tambākū, gān̄jā aura aphīma ādi naśīlī cījēṁ. Yē svāsthya kē li’ē bhī hānikāraka haiṁ |

 
(4) जो पदार्थ भक्ष्य होने पर भी अपने लिए हितकर न हों, वे अनिष्ट हैं। जैसे- बुखारवाले को हलुआ एवं जुकामवाले को ठंडी चीजें हितकर नहीं हैं |
(4) Jō padārtha bhakṣya hōnē para bhī apanē li’ē hitakara na hōṁ, vē aniṣṭa haiṁ. Jaisē-bukhāravālē kō halu’ā ēvaṁ jukāmavālē kō ṭhaṇḍī cījēṁ hitakara nahīṁ haiṁ |

 
(5) जो पदार्थ सेवन करने योग्य न हों, वे अनुपसेव्य हैं। जैसे लार, मूत्र आदि पदार्थ |
(5) Jō padārtha sēvana karanē yōgya na hōṁ, vē anupasēvya haiṁ. Jaisē lāra, mūtra ādi padārtha |
 

निम्नलिखित 22 वस्तुएँ भी अभक्ष्य मानी गर्इ हैं। इनको खाने से शरीर में कोर्इ न कोर्इ विकार अवश्य होता पाया जाता है:-
ओला, घोलबड़ा, निशि-भोजन, बहुबीजा, बैंगन, संधान |
बड़, पीपर, ऊमर, कठऊमर, पाकर, फल जो होय अजान ||
कंदमूल, माटी, विष, आमिष, मधु, माखन अरु मदिरापान |
फल-अतितुच्छ, तुषार, चलित-रस, ये बार्इस अभक्ष्य बखान ||
Nimnalikhita 22 vastu’ēm̐ bhī abhakṣya mānī gai haiṁ. Inako khānē sē śarīra mēṁ kōi na kōi vikāra avaśya hōtā pāyā jātā hai:-
Ōlā, ghōlabaṛā, niśi-bhōjana, bahubījā, baiṅgana, sandhāna |
Baṛa, pīpara, ūmara, kaṭha’ūmara, pākara, phala jō hōya ajāna ||
Kandamūla, māṭī, viṣa, āmiṣa, madhu, mākhana aru madirāpāna |
Phala-atituccha, tuṣāra, calita-rasa, yē bāisa abhakṣya bakhāna ||

ओला, घोलबड़ा (दही का बड़ा), रात्रिभोजन, बहुबीजा, बैंगन, संधान (अचार-चौबीस घंटे बाद का), बड़, पीपल, ऊमर, कठूमर, पाकड़, अजान फल (जिसे हम पहचानते नहीं, ऐसे फल, पत्ते आदि), कंदमूल (मूली, गाजर, आलू आदि जमीन के भीतर लगने वाले), मिट्टी, विष (शंखिया, धतूरा आदि), आमिष (मांस, मछली, अंडा, चिकन, जिलेटिन-युक्त आइसक्रीम, जेली, दवाएँ, केप्सूल आदि), मधु (शहद), मक्खन, मदिरा (शराब, बीयर आदि), अतितुच्छ फल (जिसमें बीज नहीं पड़े हों, ऐसे बिल्कुल कच्चे छोटे-छोटे फल), तुषार (बर्फ) और चलित-रस (जिनका स्वाद बिगड़ जाये ऐसे, फटे हुए दूध आदि) ये सब अभक्ष्य हैं |
Ōlā, ghōlabaṛā (dahī kā baṛā), rātribhōjana, bahubījā, baiṅgana, sandhāna (acāra-caubīsa ghaṇṭē bāda kā), baṛa, pīpala, ūmara, kaṭhūmara, pākaṛa, ajāna phala (jisē hama pahacānatē nahīṁ, aisē phala, pattē ādi), kandamūla (mūlī, gājara, aalu ādi jamīna kē bhītara laganē vālē), miṭṭī, viṣa (śaṅkhiyā, dhatūrā ādi), āmiṣa (mānsa, machalī, aṇḍā, cikana, jilēṭina-yukta ā’isakrīma, jēlī, davā’ēm̐, kēpsūla ādi), madhu (śahada), makkhana, madirā (śarāba, bīyara ādi), atituccha phala (jisamēṁ bīja nahīṁ paṛē hōṁ, aisē bilkula kaccē chōṭē-chōṭē phala), tuṣāra (barpha) aura calita-rasa (jinakā svāda bigaṛa jāyē, aisē phaṭē hu’ē dūdha ādi) yē saba abhakṣya haiṁ |

 
दही बिलोने के बाद मक्खन को निकालकर 48 मिनट के अंदर ही गर्म कर लेना चाहिए, अन्यथा वह अभक्ष्य हो जाता है। कच्चे अथवा पक्के दूध की क्रीम / मलार्इ को बिना खट्टा लगाकर जमाये बिना निकाली गर्इ चिकनार्इ / घी में ‘लो डेंसिटी कोलेस्ट्राल’ की अधिकता होने से हृदय-रोगकारी है, अत: खाने योग्य नहीं होता |
Dahī bilōnē kē bāda makkhana kō nikālakara 48 minaṭa kē andara hī garma kara lēnā cāhi’ē, an’yathā vaha abhakṣya hō jātā hai.Kaccē athavā pakkē dūdha kī krīma / malāi kō binā khaṭṭā lagākara jamāyē binā nikālī gai cikanāi / ghī mēṁ ‘lō ḍēnsiṭī kōlēsṭrāla’ kī adhikatā hōnē sē hr̥daya-rōgakārī hai, ata: Khānē yōgya nahīṁ hōtā |

 
बाजार की बनी हुर्इ चीजों में मर्यादा आदि का विवेक न रहने से, अनछने जल आदि से बनार्इ होने से सब अभक्ष्य हैं। अर्क, आसव, शर्बत आदि भी अभक्ष्य हैं। चमड़े में कुटे/रखे सोने-चाँदी के बर्क, घी, हींग, पानी आदि भी अभक्ष्य हैं। इसलिए इन अभक्ष्यों का त्याग कर देना चाहिए। पोहा, कार्न-फ्लेक्स, जड़ी आदि भी इसी श्रेणी में आते हैं। छोले, नमकीन आदि को खस्ता बनाने के लिए खाने के सोडे का अंधाधुंध प्रयोग होने लगा है। जबकि खाने का सोडा केवल औषधि के रूप में पानी में घोलकर पीने योग्य है। गर्म करते ही यह खारे सोडे में बदल जाता है, जो कि स्वास्थ्य के लिए अत्यंत हानिकर है |
Bājāra kī banī hui cījōṁ mēṁ maryādā ādi kā vivēka na rahanē sē, anachanē jala ādi sē banāi hōnē sē saba abhakṣya haiṁ. Arka, āsava, śarbata ādi bhī abhakṣya haiṁ. Camaṛē mēṁ kute/rakhē sōnē-cām̐dī kē barka, ghī, hīṅga, pānī ādi bhī abhakṣya haiṁ. Isali’ē ina abhakṣyōṁ kā tyāga kara dēnā cāhi’ē. Pōhā, kārna-phlēksa, jaṛī ādi bhī isī śrēṇī mēṁ ātē haiṁ. Chōlē, namakīna ādi kō khastā banānē kē li’ē khānē kē sōḍē kā andhādhundha prayōga hōnē lagā hai. Jabaki khānē kā sōḍā kēvala auṣadhi kē rūpa mēṁ pānī mēṁ ghōlakara pīnē yōgya hai, Garma karatē hī yaha khārē sōḍē mēṁ badala jātā hai, jō ki svāsthya kē li’ē atyanta hānikara hai |
 
* * * A * * *