दिगम्बर जैन मुनि Digambar Jain Muni

दिगम्बर जैन मुनि
Digambara Jaina Muni

तत्ववेत्ताओं ने साधुओं के लिए लिखा है कि ‘मुनि’ यथाजात रूप है | जैसा जन्मजात बालक नग्नरूप होता है, वैसा नग्नरूप दिगम्बर मुद्रा का धारक है, वह अपने मन के भावों से, अपनी वाणी से, व शरीर के किसी भी अंग से तिलतुषमात्र भी परिग्रह ग्रहण नहीं करता, यदि वह कुछ भी ग्रहण कर ले तो निगोद में जाता है | परिग्रही के लिए आत्मोन्नति की पराकाष्ठा पा लेना असंभव है | जिन शासन में जैनाचार्यों ने लिखा है कि वस्त्रधारी मनुष्य मुक्ति नहीं पा सकता है; चाहे वह कोई हो, मुनिदीक्षा लेकर ही मुक्ति की प्राप्ति कर सकते हैं | नग्नत्व ही मोक्षमार्ग है; शेष सब मार्ग उन्मार्ग हैं |
Tatvavēttā’ōṁ nē sādhu’ōṁ kē li’ē likhā hai ki ‘muni’ yathājāta rūpa hai | jaisā janmajāta bālaka nagnarūpa hōtā hai, vaisā nagnarūpa digambara mudrā kā dhāraka hai, vaha apanē mana ke bhāvom se, apani vāni se, va sharir ke kisi bhi anga sē tilatuṣamātra bhī parigraha grahaṇa nahīṁ karatā, yadi vaha kucha bhī grahaṇa kara lē tō nigōda mēṁ jātā hai | parigrahī kē li’ē ātmōnnati kī parākāṣṭhā pā lēnā asambhava hai | jina śāsana mēṁ jainācāryōṁ nē likhā hai ki vastradhārī manuṣya mukti nahīṁ pā sakatā hai; cāhē vaha kō’ī hō, munidīkṣā lēkara hī mukti kī prāpti kara sakatē haiṁ | nagnatva hī mōkṣamārga hai; śēṣa saba mārga unmārga haiṁ |
 
मनुष्य की आदर्श स्थिति दिगम्बरत्व है | दिगम्बरत्व प्रकृति का रूप है | दिगम्बरत्व का वास्तविक मूल्य मानव-समाज में सदाचार की सृष्टि करना है | नग्नता और सदाचार का अविनाभावी संबंध है | सदाचार के अभाव में नग्नता का कोई मूल्य नहीं, क्योंकि नंगा तन और नंगा मन ही मनुष्य की आदर्श स्थिति है | आदर्श मनुष्य सर्वथा निर्दोष और विकार-शून्य होता है | इसका आशय यह है कि जिन-भावना से युक्त नग्नता ही पूज्य है |
Manuṣya kī ādarśa sthiti digambaratva hai | digambaratva prakr̥ti kā rūpa hai | digambaratva kā vāstavika mūlya mānava-samāja mēṁ sadācāra kī sr̥ṣṭi karanā hai | nagnatā aura sadācāra kā avinābhāvī sambandha hai | sadācāra kē abhāva mēṁ nagnatā kā kō’ī mūlya nahīṁ, kyōṅki naṅgā tana aura naṅgā mana hī manuṣya kī ādarśa sthiti hai | ādarśa manuṣya sarvathā nirdōṣa aura vikāra-śūn’ya hōtā hai | isakā āśaya yaha hai ki jina-bhāvanā sē yukta nagnatā hī pūjya hai |
 
दिगम्बर साधु प्रकृति के अनुरूप हैं; उनका किसी से द्वेष नहीं है| वे सबके हैं और सभी उनके हैं | वे प्रज्ञापुंज और तपोधन लोक-कल्याण में निरत रहते हैं तथा सर्वप्रिय, सदाचार की मूर्ति होते हैं |
Digambara sādhu prakr̥ti kē anurūpa haiṁ; unakā kisī sē dvēṣa nahīṁ hai| vē sabakē hai aura sabhī unakē haiṁ | vē prajñāpun̄ja aura tapōdhana lōka-kalyāṇa mēṁ nirata rahatē haiṁ tathā sarvapriya, sadācāra kī mūrti hōtē haiṁ |
 
वर्तमान समय में मुनिजन विचरण करते हुए दिखाई दे जाते हैं, यह हम लोगों का परम सौभाग्य है | वास्तव में यदि कहा जाय कि ये साधु ही चलते-फिरते सिद्ध हैं तो कोई
अत्युक्ति नहीं होगी | किसी ने लिखा है –
धन वैभव के जिन्हें भाये न आलय हैं,
ये चारित्र के सच्चे हिमालय हैं |
मन्दिर की मूर्तियां तो मौन रहती हैं ,
ये तो चलते-फिरते जिनालय हैं ||
ऐसे महान संतों का दर्शन अतिशय पुण्य का फल है |
Vartamāna samaya mēṁ munijana vicaraṇa karatē hu’ē dikhāi dē jātē haiṁ, yaha hama lōgōṁ kā parama saubhāgya hai | vāstava mēṁ yadi kahā jāya ki yē sādhu hī calatē-phiratē sid’dha haiṁ tō kō’ī atyukti nahīṁ hōgī | kisī nē likhā hai –
dhana vaibhava kē jinhēṁ bhāyē na ālaya haiṁ,
yē cāritra kē saccē himālaya haiṁ |
mandira kī mūrtiyāṁ tō mauna rahatī haiṁ,
yē tō calatē-phiratē jinālaya haiṁ ||
aisē mahāna santōṁ kā darśana atiśaya puṇya kā phala hai |

* * * A * * *